• Hindi News
  • Rajasthan
  • Kota
  • Kota News rajasthan news ayurveda experts said medicines made from cow39s ghee are beneficial in cancer reduce the side effects of radiation

आयुर्वेद विशेषज्ञ बोले-गाय के घी से बनी दवाएं कैंसर में फायदेमंद, कम होते हैं रेडिएशन के साइड इफेक्ट

Kota News - कैंसर के मरीजों के लिए गाय का घी अमृत के समान है। गाय के दूध से बने घी के साथ कई औषधियों को मिलाकर कैंसर मरीजों को...

Feb 15, 2020, 09:50 AM IST
Kota News - rajasthan news ayurveda experts said medicines made from cow39s ghee are beneficial in cancer reduce the side effects of radiation

कैंसर के मरीजों के लिए गाय का घी अमृत के समान है। गाय के दूध से बने घी के साथ कई औषधियों को मिलाकर कैंसर मरीजों को हुए घावों, रेडिएशन व कीमोथैरेपी वाले मरीजों में व्यापक लाभ देखा गया है। इसे लेकर रिसर्च कर चुके इंदौर के अष्टांग आयुर्वेद कॉलेज के शल्य तंत्र विभाग के एचओडी डॉ. अखिलेश भार्गव ने शुक्रवार को कोटा में भास्कर से बातचीत में यह जानकारी दी।

आयुर्वेद विशेषज्ञों की सेमिनार में भाग लेने आए भार्गव ने बताया कि हमने गाय के घी से औषधि बनाई, जिसमें चमेली, नीम, पटोल व करंज के पत्ते, मोम, मुलेटी, कटु रोहिणी व हल्दी मिलाकर एक लेप तैयार किया। इसका इंदौर के कैंसर हॉस्पिटल में 60 मरीजों पर ट्रायल किया और इस ट्रायल में सामने आया कि आधे से ज्यादा मरीजों में घाव भरने की क्षमता 65 प्रतिशत बढ़ी। साथ ही घावों से मवाद, आसपास के टिश्यू में आया कड़कपन भी कम हुआ। सरकार ने भी हमारी इस रिसर्च को मान्यता दी और इसी के आधार पर हमारे आयुर्वेद हॉस्पिटल को आयुर्वेद कैंसर के सेंटर ऑफ एक्सीलेंस के रूप में विकसित करने को स्वीकृति दी है। उन्होंने बताया कि कोई भी घाव तब भरता है, जब नई कोशिकाएं बनती है। कैंसर मरीजों में रेडिएशन से घाव के आसपास नई कोशिकाएं नहीं बन पाती, जो इस दवा से बनने लगी।

तुलसी के रस के सेवन से कैंसर का बढ़ना हुआ कम


रेडिएशन वाले मरीजों के लिए हमने गाय के घी के साथ ही गुडूची, आमलकी, ग्वारफाटा, काली तुलसी चूर्ण, कलौंजी बीज के चूर्ण से औषधि तैयार की। यह रेडिएशन के 7 दिन पहले से 20 ग्राम रोजाना लेने से मरीज में रेडिएशन के साइड इफेक्ट काफी हद तक कम हुए हैं। इसी तरह कीमोथैरेपी वाले मरीजों में प्रतिदिन 20 एमएल तुलसी रस देने से कैंसर के ट्यूमर में नई कोशिकाएं बनना कम हुआ। तुलसी को लेकर रिसर्च के लिए मप्र सरकार ने एक एथिकल कमेटी बनाई है, जिसमें हम भी शामिल है।


आयुर्वेद से कैंसर इलाज पर सेमिनार आज : आयुर्वेद डॉक्टर्स क्लब व विश्व आयुर्वेद परिषद की ओर से शनिवार को कोटा में “आयुर्वेद चिकित्सा पद्धति से कैंसर के बचाव व उपचार’ विषय पर राष्ट्रीय सेमिनार होगी। यूआईटी ऑडिटोरियम में सुबह 9 से शाम 5.30 बजे तक इस सेमिनार में देशभर के 500 आयुर्वेद चिकित्सक भाग लेंगे। संरक्षक डॉ. मृगेंद्र जोशी ने बताया कि उद्घाटन राजस्थान आयुर्वेद यूनिवर्सिटी के पूर्व कुलपति प्रो. बनवारी लाल गौड़ व आयुर्वेद संस्थान के पूर्व निदेशक प्रो. महेश शर्मा करेंगे।

X
Kota News - rajasthan news ayurveda experts said medicines made from cow39s ghee are beneficial in cancer reduce the side effects of radiation

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना