अस्पतालों की मशीनों के मेंटेनेंस का बजट स्वीकृत, भास्कर ने उठाया था मुद्‌दा

Kota News - एमबीएस व जेकेलोन की आरएमआरएस की बैठक बुधवार को संभागीय आयुक्त एलएन सोनी की अध्यक्षता में हुई। संभवत: पहली बार...

Jan 16, 2020, 09:20 AM IST
Kota News - rajasthan news budget approved for maintenance of hospitals machines bhaskar raised issue
एमबीएस व जेकेलोन की आरएमआरएस की बैठक बुधवार को संभागीय आयुक्त एलएन सोनी की अध्यक्षता में हुई। संभवत: पहली बार दोनों बैठकें संबंधित अस्पतालों में हुई। आम तौर पर संभागीय आयुक्त कार्यालय में ही बैठक होती है। बैठक में एमबीएस अस्पताल की ईआरसीपी व ब्रेकीथैरेपी मशीनों के मेंटीनेंस के लिए 20 लाख स्वीकृत किए गए। इन दोनों मशीनों का मुद्दा भास्कर ने 8 दिसंबर के अंक में उठाया था।

जेकेलोन में नवजातों की मौत का मामला सुर्खियों में आने के बाद चिकित्सा मंत्री ने आरएमआरएस की बैठकें समय पर करने को कहा था। गुरुवार को नए अस्पताल की आरएमआरएस की बैठक होगी। बैठकों में प्रिंसिपल डॉ. विजय सरदाना, एमबीएस अधीक्षक डॉ. नवीन सक्सेना व जेकेलोन अधीक्षक डॉ. एससी दुलारा मौजूद रहे।

एमबीएस अस्पताल में संभागीय आयुक्त एलएन सोनी ने ली बैठक।

रिकवरी में ढिलाई, बाबू पर कार्रवाई के निर्देश


एमबीएस के लिए ये प्रस्ताव हुए मंजूर









जेकेलोन अस्पताल को लेकर ये हुए फैसले



जेकेलोन में शुरू हुई सेंट्रल ऑक्सीजन लाइन

कोटा | जेकेलोन अस्पताल के एनआईसीयू व एफबीएनसी वार्ड में बुधवार से विधिवत सेंट्रल ऑक्सीजन लाइन शुरू कर दी गई है। दो दिन के ट्रायल के दौरान अस्पताल प्रबंधन ने एक-एक ऑक्सीजन प्वाइंट को चेक किया और रिपोर्ट ओके मिलने के बाद बुधवार से लाइन के जरिए बच्चों को ऑक्सीजन देना शुरू कर दिया। इन दोनों आईसीयू में नवजात बच्चे भर्ती रहते हैं। अब तक यहां सिलेंडरों से ऑक्सीजन देने का सिस्टम था, जिससे संक्रमण फैलने का खतरा बना रहता था और बार-बार सिलेंडर बदलने की समस्या भी रहती थी। गत दिनों जैसे ही जेकेलोन अस्पताल में नवजात बच्चों की मौत का मामला सुर्खियों में आया तो सरकार हरकत में आई। जांच करने आए विभिन्न दलों ने भी सेंट्रल ऑक्सीजन लाइन की जरूरत बताई थी। भास्कर लगातार इस मुद्दे को प्रमुखता से उठाता रहा। इसके बाद प्रिंसिपल डॉ. विजय सरदाना ने 15 जनवरी की डेडलाइन तय की थी, उसी के तहत बुधवार से लाइन शुरू हो गई।

दोनों जगह लगे 56 प्वाॅइंट:

अस्पताल अधीक्षक डॉ. एससी दुलारा ने बताया कि दोनों आईसीयू में 56 प्वाइंट दिए हैं। दोनों आईसीयू में दो-दो प्वाॅइंट एक्स्ट्रा लगाए गए हैं। उपाधीक्षक डॉ. गोपी किशन शर्मा ने बताया कि सेंट्रल ऑक्सीजन लाइन का काम शिशु रोग विभाग के हर वार्ड में होगा।

कोटा | जेकेलोन अस्पताल के एनआईसीयू व एफबीएनसी वार्ड में बुधवार से विधिवत सेंट्रल ऑक्सीजन लाइन शुरू कर दी गई है। दो दिन के ट्रायल के दौरान अस्पताल प्रबंधन ने एक-एक ऑक्सीजन प्वाइंट को चेक किया और रिपोर्ट ओके मिलने के बाद बुधवार से लाइन के जरिए बच्चों को ऑक्सीजन देना शुरू कर दिया। इन दोनों आईसीयू में नवजात बच्चे भर्ती रहते हैं। अब तक यहां सिलेंडरों से ऑक्सीजन देने का सिस्टम था, जिससे संक्रमण फैलने का खतरा बना रहता था और बार-बार सिलेंडर बदलने की समस्या भी रहती थी। गत दिनों जैसे ही जेकेलोन अस्पताल में नवजात बच्चों की मौत का मामला सुर्खियों में आया तो सरकार हरकत में आई। जांच करने आए विभिन्न दलों ने भी सेंट्रल ऑक्सीजन लाइन की जरूरत बताई थी। भास्कर लगातार इस मुद्दे को प्रमुखता से उठाता रहा। इसके बाद प्रिंसिपल डॉ. विजय सरदाना ने 15 जनवरी की डेडलाइन तय की थी, उसी के तहत बुधवार से लाइन शुरू हो गई।

दोनों जगह लगे 56 प्वाॅइंट:

अस्पताल अधीक्षक डॉ. एससी दुलारा ने बताया कि दोनों आईसीयू में 56 प्वाइंट दिए हैं। दोनों आईसीयू में दो-दो प्वाॅइंट एक्स्ट्रा लगाए गए हैं। उपाधीक्षक डॉ. गोपी किशन शर्मा ने बताया कि सेंट्रल ऑक्सीजन लाइन का काम शिशु रोग विभाग के हर वार्ड में होगा।

Kota News - rajasthan news budget approved for maintenance of hospitals machines bhaskar raised issue
X
Kota News - rajasthan news budget approved for maintenance of hospitals machines bhaskar raised issue
Kota News - rajasthan news budget approved for maintenance of hospitals machines bhaskar raised issue
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना