वस्तु में नहीं गिन सकते पाप-पुण्य: जैन मुनि

Kota News - कोटा| पुण्य और पाप की परिकल्पना वस्तु में करना सबसे बड़ी अज्ञानता है। तत्वार्थ सूत्र में कहा गया है शुभ भावना...

Bhaskar News Network

Mar 17, 2019, 04:50 AM IST
Kota News - rajasthan news can not count sin in the object jain muni
कोटा| पुण्य और पाप की परिकल्पना वस्तु में करना सबसे बड़ी अज्ञानता है। तत्वार्थ सूत्र में कहा गया है शुभ भावना पुण्य है और अशुभ भावना पाप है। यह विचार राष्ट्र संत कमल मुनि कमलेश ने धर्म सभा को संबोधित करके कहा। उन्होंने कहा कि हित भावना से उठाया गया कठोर से कठोर कदम भी पुण्य की श्रेणी में आता है।

X
Kota News - rajasthan news can not count sin in the object jain muni
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना