• Hindi News
  • Rajasthan
  • Kota
  • Kota News rajasthan news construction workers are not getting employment government does not give any attention galav
विज्ञापन

निर्माण श्रमिकों को नहीं मिल रहा रोजगार, सरकार भी नहीं दे रही कोई ध्यान : गालव

Bhaskar News Network

Apr 17, 2019, 08:51 AM IST

Kota News - कोटा | भवन निर्माण श्रमिकों को पहले ही बजरी व रोजगार की समस्याओं से जूझना पड़ रहा है। सरकार ने अब उनकी कल्याणकारी...

Kota News - rajasthan news construction workers are not getting employment government does not give any attention galav
  • comment
कोटा | भवन निर्माण श्रमिकों को पहले ही बजरी व रोजगार की समस्याओं से जूझना पड़ रहा है। सरकार ने अब उनकी कल्याणकारी योजनाओं पर भी रोक लगा दी है। मजदूरों की पंजीयन प्रक्रिया इतनी जटिल है कि पंजीयन होने में ही काफी समय लग जाता है। खानों में काम करने वाले मजदूरों के बच्चे भी वहीं काम करने लगते हैं। केन्द्र सरकार इसको रोकने के लिए सख्त कानून बनाए, तभी बाल श्रम रुक सकता है। खदानों व भवन निर्माण में कार्यरत श्रमिकों के बच्चों को स्कूल से जोड़ने तथा शिक्षा के प्रति जागरूक करने के लिए बिल्डिंग एंड वूड वर्कस ने रामगंजमंडी क्षेत्र के भीमशंकर कॉलोनी, शिव कॉलोनी में सर्वे करके स्कूल खोला गया है। ये बात हिन्द मजदूर सभा के महामंत्री मुकेश गालव ने पत्रकारों से बातचीत में कही।

गालव ने कहा कि मजदूरों के पंजीयन एवं किसी भी योजना के आवेदन के स्पष्टीकरण को भेजने के लिए वर्तमान में रजिस्टर्ड ठेकेदार, मकान मालिक, ग्राम सचिव, यूनियन की डिटेल की फीडिंग करवानी पड़ती है। इसके बिना स्पष्टीकरण नहीं भेजा जा सकता है। इसी कारण रजिस्ट्रेशन के 108 मामले 140 से 150 दिन से लंबित हैं। बारां जिले के अटरू निवासी मोतीलाल का रजिस्ट्रेशन का मामला एक साल से लंबित हैं। बारां निवासी चन्द्रकांती बाई 10 अक्टूबर 2018 को पंजीयन के लिए आवेदन किया था। उसकी मौत हो चुकी है। रजिस्ट्रेशन तक नहीं हो सका। मजदूरों की लड़कियों के लिए घोषित शुभ शक्ति योजना का लाभ उन्हें नहीं मिल पा रहा है। उन्होंने कहा कि खान श्रमिकों को सिलिकोसिस बीमारी हो जाती है। सुपरस्पेशियलिस्ट नहीं होने के कारण श्रमिक का टीबी का इलाज शुरू कर दिया जाता है। खान मजदूरों को सिलिकोसिस रोग से मृत्यु के बाद भी सर्टिफिकेट मिलने की प्रक्रिया जटिल होेने से उसे आर्थिक सहायता तक नहीं मिल पाती।

श्रमिकों के बच्चों को पढ़ाने के लिए स्कूल खोला

बिल्डिंग एंड वूड वर्कर्स ने रामगंजमंडी क्षेत्र के भीमशंकर कॉलोनी में खदानों तथा भवन निर्माण में कार्यरत श्रमिकों के बच्चों को स्कूल से जोड़ने के लिए शिक्षा के प्रति जागरूक करने के लिए यूनियन ने अभियान चला रखा है। क्षेत्र में 7 से 13 साल तक के बच्चों को पढ़ाने के लिए स्कूल खोला गया है। जिसमें 60 से अधिक बच्चों को दो घंटे पढ़ाया जाता है।

X
Kota News - rajasthan news construction workers are not getting employment government does not give any attention galav
COMMENT
Astrology

Recommended

Click to listen..
विज्ञापन

किस पार्टी को मिलेंगी कितनी सीटें? अंदाज़ा लगाएँ और इनाम जीतें

  • पार्टी
  • 2019
  • 2014
336
60
147
  • Total
  • 0/543
  • 543
कॉन्टेस्ट में पार्टिसिपेट करने के लिए अपनी डिटेल्स भरें

पार्टिसिपेट करने के लिए धन्यवाद

Total count should be

543
विज्ञापन