आज रात चांद छूने निकलेगा भारत

Kota News - भारत के सबसे ताकतवर रॉकेट जीएसएलवी मार्क-3 से लाॅन्चिंग यह रॉकेट 17 मिनट में ही चंद्रयान को पृथ्वी की 170 किमी से 38000...

Jul 14, 2019, 09:30 AM IST
भारत के सबसे ताकतवर रॉकेट जीएसएलवी मार्क-3 से लाॅन्चिंग

यह रॉकेट 17 मिनट में ही चंद्रयान को पृथ्वी की 170 किमी से 38000 किमी वाली अंडाकार परिधि में पहुंचाएगा।

कुल वजन 3877 किग्रा

ऑर्बिटर 2379 किग्रा

लैंडर 1471 किग्रा

रोवर 27 किग्रा

चांद की सतह पर रोवर बनाता जाएगा तिरंगे की छाप और इसरो का लोगो

रोवर को लैंडर से बाहर चंद्रमा की सतह पर आने में चार घंटे लगेंगे। इसके बाद वह सतह पर आगे बढ़ता जाएगा। इसरो के वैज्ञानिकों का कहना है कि रोवर जब आगे बढ़ेगा तो वह चांद की सतह पर तिरंगे और इसरो के लोगो का निशान छोड़ता जाएगा, ठीक वैसे ही जैसे किसी कच्ची जमीन पर गाड़ी के गुजरने के बाद पहिए से छाप बन जाती है। पहियों को इसी हिसाब से डिजाइन किया गया है।

ऑर्बिटर यह चांद के चक्कर लगाता रहेगा। लैंडर और रोवर पर नजर रखेगा। राेवर से मिली जानकारी को इसरो सेंटर भेजेगा। यह चांद से 100 किमी ऊपर मोबाइल कमांड सेंटर होगा।

लैंडर (विक्रम) यह चांद पर उतरेगा। इसके भीतर रोवर होगा। लैंडर का नाम इसरो के संस्थापक विक्रम साराभाई के नाम पर रखा गया है। यह 15 दिन तक वैज्ञानिक प्रयोग करेगा। विक्रम 650 वाट बिजली पैदा करने की क्षमता वाला है, जो ऑर्बिटर और रोवर के सीधे संपर्क में रहेगा।

दक्षिणी ध्रुव पर उतरेगा

रोवर उतरने के 15 मिनट बाद चांद की तस्वीरें भेजनी शुरू कर देगा।

राेवर (प्रज्ञान) रोवर के 6 पहिए अशोक चक्र की तर्ज पर बने हैं। यह एक सेमी/सेकंड की गति से चलेगा। 15 दिन में 500 मी. की दूरी तय करेगा। यह चांद की सतह, वातावरण और मिट्टी की जांच करेगा।

पहली बार चांद पर रोवर उतारेगा भारत

इसरो चेयरमैन के. सिवन ने बताया कैसा होगा सफर

ऑर्बिटर पहले 16 दिन पृथ्वी के 5 चक्कर लगाएगा। फिर 5 दिन चंद्रमा की ओर चलेगा। चंद्रमा के 4 चक्कर लगाएगा। 100 किमी की दूरी पर चंद्रमा की वृत्तीय कक्षा में पहुंचेगा और अगले 27 दिन वहीं चक्कर लगाएगा। इसके बाद लैंडर ऑर्बिटर से अलग होगा और अगले 4 दिन चंद्रमा का चक्कर काटते हुए दूरी कम करता जाएगा। 6-7 सितंबर को जब यह 30 किमी की दूरी पर पहुंचेगा तो 15 मिनट में चंद्रमा की सतह पर लैंड करेगा। यही सबसे क्रिटिकल समय है। क्योंकि, इससे पहले भारत ने कभी यह नहीं किया है।’ - के. सिवन, इसरो चेयरमैन

के. सिवन ने शनिवार को भगवान वेंकटेश्वर मंदिर में पूजा की।

X

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना