रेलवे स्टेशन पर लिफ्ट अटकी, पांच यात्री 30 मिनट तक अटके रहे, हंगामा किया

Kota News - कोटा| रेलवे स्टेशन कोटा के फुटअोवरब्रिज से प्लेटफार्म पर जाने के लिए लगी लिफ्ट रोजाना दो से तीन बार अटक जाती है।...

Bhaskar News Network

Jun 14, 2019, 09:20 AM IST
Kota News - rajasthan news lift stuck at railway station five passengers stuck for 30 minutes commuted
कोटा| रेलवे स्टेशन कोटा के फुटअोवरब्रिज से प्लेटफार्म पर जाने के लिए लगी लिफ्ट रोजाना दो से तीन बार अटक जाती है। इसमें यात्री फंस जाते हैं। वे अलार्म बजाते रहते हैं। काफी समय तक कोई रेलकर्मचारी लिफ्ट को दुरुस्त करने नहीं अाता। बुधवार रात को भी लिफ्ट अटक गई, इस वजह से दो ट्रेनों के पांच यात्री करीब 30 मिनट तक लिफ्ट में अटके रहे। उन्होंने अलार्म बजाया, लेकिन कोई नहीं अाया। प्लेटफार्म पर माैजूद अन्य यात्री लिफ्ट के पास एकत्रित हो गए। उन्होंने हंगामा किया। इसके बाद कर्मचारी माैके पर पहुंचा। उसने अटकी लिफ्ट को सही किया। यात्री प्लेटफार्म पर उतरे।

रेलवे स्टेशन गुरुद्वारा रोड निवासी लक्ष्मी शर्मा व उनके पति डाॅ. रवि मोहन शर्मा को बुधवार रात जयपुर-मैसूर ट्रेन से जाना था। वे ट्रेन अाने के कुछ समय पहले रेलवे स्टेशन पर पहुंचे। उनकी ट्रेन प्लेटफार्म नम्बर दो पर अानी थी। फुट अोवरब्रिज से उन्होंने लिफ्ट का उपयोग करने का फैसला किया। लिफ्ट में वे चले गए। उस समय लिफ्ट में कोटा - पटना ट्रेन से जाने वाली तीन अन्य यात्री भी थे। उनकी ट्रेन प्लेटफार्म नम्बर तीन से रवाना होनी थी। लिफ्ट को उन्होंने जब चालू किया तो वो अाधे रास्ते में जाकर अटक गई। लिफ्ट वापिस उपर भी नहीं अा रही थी न ही प्लेटफार्म की तरफ नीचे जा रही थी। लक्ष्मी शर्मा ने बताया कि उन्होंने व अन्य यात्रियों ने लिफ्ट में लगे अलार्म बटन को दबाया। अलार्म बजने लगा। लिफ्ट में लगे नम्बरों पर फोन किया। लेकिन कोई नहीं अाया। एेसे में लिफ्ट में फंसे यात्री घबरा गए। लक्ष्मी ने अपने क्षेत्र में रहने वाले जेड़अारयूसीसी के सदस्य लव शर्मा को फोन किया। उन्होंने एडीअारएम को फोन कर अटकी लिफ्ट को दुरुस्त करवाने के लिए फोन किया। लेकिन एडीअारएम ने फोन रिसीव करने तक का श्रम नहीं किया। लगातार अलार्म बजाने पर 30 मिनट बाद एक रेलकर्मचारी माैके पर पहुंचा। उसने लिफ्ट को दुरुस्त किया। इसके बाद यात्री प्लेटफार्म पर उतरे। उन्होंने ट्रेन पकड़ी। शर्मा ने कहा कि लिफ्ट यात्रियों की सुविधा के बजाय दुविधा बनी हुई है। रोजाना लिफ्ट दो -तीन बार अटक जाती है। इसके बाद यात्री प्लेटफार्म पर उतरे। उन्होंने ट्रेन पकड़ी।

नहीं है सुरक्षा गार्ड: रेलवे प्रशासन को लिफ्ट व एस्केलेटर के पास निजी सुरक्षा गार्ड लगाना चाहिए। ये बात जेडअारयूसीसी की बैठक में भी रखी जा चुकी है। लेकिन रेल प्रशासन ने इस मुद्दे पर कोई ध्यान नहीं दिया है। लगता है रेल प्रशासन किसी बड़े हादसे का इंतजार कर रहा है। इस मुद्दे पर शीघ्र ही रेलवे जीएम को पत्र भेजा जाएगा।

- लव शर्मा,

जेडअारयूसीसी सदस्य

X
Kota News - rajasthan news lift stuck at railway station five passengers stuck for 30 minutes commuted
COMMENT