पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

दुष्कर्म मामले की अधूरी जांच करने पर 2 पुलिस अधिकारियों पर कार्रवाई के आदेश

एक वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक

न्यायालय पोक्सो क्रम-1 ने दुष्कर्म के मामले में लापरवाही बरतने और अधूरी जांच करने पर थाना रेलवे काॅलोनी के तत्कालीन अधिकारी हंसराज व मदनलाल के खिलाफ पुलिस महानिदेशक जयपुर को पत्र भेजा है। पत्र में नियमानुसार कार्रवाई कर न्यायालय को अवगत करवाने की बात कही गई है।

न्यायालय ने पत्र में लिखा है कि इस न्यायालय के वर्णित विशिष्ट सेशन प्रकरण प्रथम सूचना रिपोर्ट संख्या 277-2018 पुलिस थाना रेलवे काॅलोनी अपराध धारा 363, 366, 376 (3) , 376 (2एन) भारतीय दंड संहिता एवं धारा 5 (1) 6 लैंगिग अपराधों से बालकों का संरक्षण अधिनियम में न्यायालय द्वारा पारित निर्णय 2 मार्च 2020 के अनुसार पुलिस थाना रेलवे काॅलोनी कोटा शहर के हंसराज पुत्र कल्याणमल तत्कालीन उपनिरीक्षक द्वारा अनुसंधान के दाैरान उपेक्षा व लापरवाही बरतते हुए नक्शा माैका में समय व मुकाम का काॅलम खाली रखा गया है, जिससे यह स्पष्ट नहीं हुअा कि उक्त नक्शा माैका किस तारीख को, किस समय तथा किस स्थान पर बनाया गया है। वहीं अन्य अनुसंधान अधिकारी रेलवे काॅलोनी थानाधिकारी मदनलाल मदनलाल द्वारा प्रकरण में पोक्सो अधिनियम जुड़ने के बावजूद भी अनुसंधान में रह गई कमियों को पूर्ण नहीं किया और खामियां रखी गई हैं। ऐसी स्थिति में उक्त दोनों अनुसंधान अधिकारियों को सम्यक अनुसंधान के लिए समुचित प्रशिक्षण दिया जाना अत्यंत आवश्यक है। साथ ही राजस्थान उच्च न्यायालय पीठ जयपुर द्वारा डीबी क्रिमिनल अपील संख्या 213/2006 जगदीश बनाम राजस्थान राज्य में उच्च न्यायालय द्वारा दिए गए निर्देशों के अनुरूप केस डायरी बंद लिफाफे में न्यायालय के समक्ष प्रस्तुत नहीं की गई है। दोनों अनुसंधान अधिकारियों के विरुद्ध नियमानुसार कार्रवाई कर न्यायालय को अवगत कराया जाए।

खबरें और भी हैं...