• Hindi News
  • Rajasthan
  • Kota
  • Kota News rajasthan news quota is the only city where 80 percent of the population is voluntary donation

कोटा ही ऐसा शहर जहां 80 प्रतिशत हाेता है स्वैच्छिक रक्तदान

Kota News - आज (14 जून) विश्व रक्तदाता दिवस है। यह दिन उन सभी रक्तदाताओं के सम्मान का दिन है, जो बिना किसी लाभ-हानि के सिर्फ मानवता...

Bhaskar News Network

Jun 14, 2019, 09:15 AM IST
Kota News - rajasthan news quota is the only city where 80 percent of the population is voluntary donation
आज (14 जून) विश्व रक्तदाता दिवस है। यह दिन उन सभी रक्तदाताओं के सम्मान का दिन है, जो बिना किसी लाभ-हानि के सिर्फ मानवता के खातिर स्वेच्छा से रक्तदान करते हैं। रक्तदान के मामले में कोटा पूरे प्रदेश में अपनी खास पहचान रखता है। यह ऐसा शहर है, जहां 80 प्रतिशत स्वैच्छिक रक्तदान होता है। जबकि नाको के मुताबिक, स्वैच्छिक रक्तदान के मामले में पूरे देश का औसत 60 प्रतिशत तक ही है। डब्ल्यूएचओ और नाको समेत तमाम एजेंसियों की मंशा है कि यह 100 प्रतिशत पहुंचे और जरूरत पर हर व्यक्ति को बिना किसी रिप्लेसमेंट के ब्लड मिले। कोटा में यह काम ज्यादा मुश्किल इसलिए भी नहीं है, क्योंकि यहां सालाना सिर्फ 12 हजार यूनिट ब्लड यदि और स्वैच्छिक रक्तदाताओं से मिल जाए तो फिर किसी भी मरीज को रिप्लेसमेंट देने की जरूरत नहीं होगी। आईएसबीटीआई राजस्थान चैप्टर के अध्यक्ष डॉ. वीपी गुप्ता व एमबीएस ब्लड बैंक के प्रभारी डॉ. एचएल मीणा के मुताबिक, कोटा में सालाना 60 हजार यूनिट ब्लड की जरूरत होती है। वर्तमान में करीब 48 हजार यूनिट ब्लड स्वैच्छिक रक्तदाताओं से मिल रहा है, 12 हजार यूनिट के लिए जरूरी रिप्लेसमेंट लेना पड़ता है। हालांकि इस स्थिति में भी कोटा पूरे राजस्थान में स्वैच्छिक रक्तदान के मामले में सबसे आगे है।

एसपी ने किया रक्तदान जागरूकता पोस्टर का विमोचन

रक्तदान के क्षेत्र में कार्यरत टीम जीवनदाता, लाॅयन्स क्लब कोटा टेक्नो, आईएसबीटीआई व टीम जीवनरक्षक की ओर से विश्व रक्तदाता दिवस के उपलक्ष्य में जागरूकता पोस्टर का विमोचन किया गया। एसपी ने कहा कि रक्तदान एक ऐसा कार्य है, जिसमें रक्तदाता को न कोई फल मिलता है, न ही वह किसी तरह की अपेक्षा रखता है। उसको तो केवल दुआओं का तोहफा मिलता है। एक ओर जहां सोशल मीडिया का दुरुपयोग होता दिखता है, वहीं दूसरी ओर रक्तदान के क्षेत्र में कार्यरत ग्रुप इसका सदुपयाेग कर रहे हैं। संयोजक भुवनेश गुप्ता ने बताया पोस्टर में रक्तदान के फायदे बताए।

हैल्थ रिपोर्टर|कोटा

आज (14 जून) विश्व रक्तदाता दिवस है। यह दिन उन सभी रक्तदाताओं के सम्मान का दिन है, जो बिना किसी लाभ-हानि के सिर्फ मानवता के खातिर स्वेच्छा से रक्तदान करते हैं। रक्तदान के मामले में कोटा पूरे प्रदेश में अपनी खास पहचान रखता है। यह ऐसा शहर है, जहां 80 प्रतिशत स्वैच्छिक रक्तदान होता है। जबकि नाको के मुताबिक, स्वैच्छिक रक्तदान के मामले में पूरे देश का औसत 60 प्रतिशत तक ही है। डब्ल्यूएचओ और नाको समेत तमाम एजेंसियों की मंशा है कि यह 100 प्रतिशत पहुंचे और जरूरत पर हर व्यक्ति को बिना किसी रिप्लेसमेंट के ब्लड मिले। कोटा में यह काम ज्यादा मुश्किल इसलिए भी नहीं है, क्योंकि यहां सालाना सिर्फ 12 हजार यूनिट ब्लड यदि और स्वैच्छिक रक्तदाताओं से मिल जाए तो फिर किसी भी मरीज को रिप्लेसमेंट देने की जरूरत नहीं होगी। आईएसबीटीआई राजस्थान चैप्टर के अध्यक्ष डॉ. वीपी गुप्ता व एमबीएस ब्लड बैंक के प्रभारी डॉ. एचएल मीणा के मुताबिक, कोटा में सालाना 60 हजार यूनिट ब्लड की जरूरत होती है। वर्तमान में करीब 48 हजार यूनिट ब्लड स्वैच्छिक रक्तदाताओं से मिल रहा है, 12 हजार यूनिट के लिए जरूरी रिप्लेसमेंट लेना पड़ता है। हालांकि इस स्थिति में भी कोटा पूरे राजस्थान में स्वैच्छिक रक्तदान के मामले में सबसे आगे है।

रक्तदाताओं का सम्मान होगा: विश्व रक्तदाता दिवस पर शुक्रवार को कोटा में विभिन्न कार्यक्रम होंगे। इसे लेकर हुई प्रेस काॅन्फ्रेंस में कृष्णा रोटरी ब्लड बैंक के निदेशक डॉ. वीपी गुप्ता, डॉ. सौरभ गुप्ता, विमल जैन व अर्जुनदेव चढ्ढा ने बताया कि डीएवी पब्लिक स्कूल में शाम 7 बजे रक्तदाताओं का सम्मान समारोह होगा।

X
Kota News - rajasthan news quota is the only city where 80 percent of the population is voluntary donation
COMMENT