पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Kota
  • Kota News Rajasthan News The System Of Cleaning And Security At The Mbs Hospital On The Lines Of Corporation And Police Station

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

निगम व थानों की तर्ज पर होगा एमबीएस अस्पताल में सफाई व सुरक्षा का सिस्टम

2 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
अब एमबीएस अस्पताल में सफाई और सिक्योरिटी की व्यवस्था उसी तरह बीट में बांटी गई है, जैसे नगर निगम में सफाई और थानों में पुलिसकर्मी की बीट होती है। नई व्यवस्था लागू की जा चुकी है और इसकी मॉनिटरिंग के लिए 8 कार्मिक अलग से लगाए गए हैं। नई व्यवस्था के तहत पूरे अस्पताल परिसर में सफाई के लिहाज से 52 बीट बनाई गई है। प्रत्येक प्वाइंट को नाम भी दिया गया है, जैसे-सीपी-1, सीपी-2... सीपी यानी क्लीनिंग प्वाइंट। एक प्वाइंट के अधीन औसत 100 मीटर एरिया रखा है। प्रत्येक प्वाइंट का जिम्मा एक स्वीपर को दिया है। इसी तरह सिक्योरिटी गार्ड की तैनाती के लिए 36 प्वाइंट बनाए हैं। इन्हें एसजी नाम दिया है, यानी सिक्योरिटी गार्ड। सभी सफाई व सिक्योरिटी के प्वाइंट्स पर एसजी व सीपी के साथ उस प्वाइंट का क्रमांक और वहां कार्यरत कार्मिक का नाम लिखा गया है।

मॉनिटरिंग के लिए तीन स्तर पर निगरानी
अस्पताल परिसर को 8 भागों में विभाजित करके 8 सुपरवाइजर लगाए हैं। सभी सुपरवाइजर नर्स ग्रेड प्रथम है। इनमें सिंथिया मैसी, गौरीशंकर शर्मा, बिरधीलाल, जुबेदा खातून, मंजूर आलम, गिरिराज पंकज, नरेंद्र गोयल, छीतरलाल मीणा हैं। सुपरवाइजर की निगरानी उपाधीक्षक डॉ. एचके गुप्ता व नर्सिंग अधीक्षक सत्यनारायण करेंगे। अधीक्षक डॉ. नवीन सक्सेना कभी भी औचक निरीक्षण करेंगे।

एमबीएस अस्पताल के अधीक्षक कक्ष में लगी बड़ी एलईडी।

ड्यूटी पर कौन है, सामने लिखा नजर आएगा
प्रत्येक वार्ड या ड्यूटी प्वाइंट पर एक और व्यवस्था लागू की गई है। वहां ड्यूटी पर तैनात स्टाफ व डॉक्टर का नाम व मोबाइल नंबर अंकित रहेगा। स्टाफ बदलने के साथ ही नया स्टाफ मार्कर पेन से बोर्ड पर नए आने वाले लोगों के नाम दर्ज करेगा।

पास व्यवस्था पहले से लागू की जा चुकी है। अस्पताल के तीनों एंट्रेंस प्वाइंट्स पर सिक्योरिटी गार्ड के साथ ही बॉर्डर होमगार्ड के जवान भी लगाए गए हैं, जो आउटडोर समय सुबह 9 से 3 बजे तक बगैर पास किसी को प्रवेश नहीं करने देते।

आउटडोर में सभी विभागों के आउटडोर में स्पष्ट शब्दों में हिंदी में बोर्ड लगाए गए हैं, जहां आसानी से समझा जा सकता है कि आज किस विभाग के कौन-कौन डॉक्टरों को आउटडोर में बैठना है।

एचडी सीसीटीवी कैमरे, कंट्रोल रूम भी बनाए : अस्पताल में अब सभी जगह एचडी क्वालिटी के सीसीटीवी कैमरे लगवाए जा रहे हैं। पहले से लगे हुए 34 सीसीटीवी को एचडी में बदला जा रहा है, वहीं इनके अलावा 15 कैमरे और लगवाने की प्रक्रिया चल रही है। सीसीटीवी देखने के लिए अधीक्षक कक्ष में बड़ी एलईडी लगवाई गई है।

जिम्मेदारी तय करना जरूरी : अधीक्षक
जिला कलेक्टर ने 21 फरवरी को अस्पताल का निरीक्षण किया था और सुधार की आवश्यकता बताई थी। इसके बाद से ही हम प्लान कर रहे थे, सभी वरिष्ठ कर्मचारियों व अधिकारियों से भी चर्चा की। इसके बाद व्यवस्थाओं में बदलाव कर बीट सिस्टम लागू किया है। आवंटित बीट में यदि गंदगी पाई जाती है या सुरक्षा संबंधी दिक्कत आती है तो संबंधित सफाईकर्मी या गार्ड व उनकी बीट के सुपरवाइजर की जिम्मेदारी होगी। -डॉ. नवीन सक्सेना, अधीक्षक, एमबीएस

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- इस समय निवेश जैसे किसी आर्थिक गतिविधि में व्यस्तता रहेगी। लंबे समय से चली आ रही किसी चिंता से भी राहत मिलेगी। घर के बड़े बुजुर्गों का मार्गदर्शन आपके लिए बहुत ही फायदेमंद तथा सकून दायक रहेगा। ...

    और पढ़ें