राजस्थान / 35 साल से नहीं खुले बांध के 4 स्लूज गेटों की स्थिति जानने अंडर वाटर वीडियोग्राफी, दुबई से मंगवाई गई डिवाइस

राणाप्रताप सागर बांध (फाइल फोटो) राणाप्रताप सागर बांध (फाइल फोटो)
जल संसाधन विभाग ने मेरठ की एक कंपनी को ठेका दिया था। जल संसाधन विभाग ने मेरठ की एक कंपनी को ठेका दिया था।
मेरठ से वीडियोग्राफी करने आई टीम। मेरठ से वीडियोग्राफी करने आई टीम।
वीडियोग्राफी से गड़बड़ी का पता लगाया जाएगा। वीडियोग्राफी से गड़बड़ी का पता लगाया जाएगा।
गोताखोरों की मदद से होगी वीडियोग्राफी। गोताखोरों की मदद से होगी वीडियोग्राफी।
X
राणाप्रताप सागर बांध (फाइल फोटो)राणाप्रताप सागर बांध (फाइल फोटो)
जल संसाधन विभाग ने मेरठ की एक कंपनी को ठेका दिया था।जल संसाधन विभाग ने मेरठ की एक कंपनी को ठेका दिया था।
मेरठ से वीडियोग्राफी करने आई टीम।मेरठ से वीडियोग्राफी करने आई टीम।
वीडियोग्राफी से गड़बड़ी का पता लगाया जाएगा।वीडियोग्राफी से गड़बड़ी का पता लगाया जाएगा।
गोताखोरों की मदद से होगी वीडियोग्राफी।गोताखोरों की मदद से होगी वीडियोग्राफी।

  • कंपनी में 15 दिन में वीडियोग्राफी कर यह बता देगी कि गेट क्यों अटके हुए हैं और उनमें क्या क्या खराबी
  • मेरठ की एक कंपनी को ठेका दिया था। कंपनी अंडर वाटर के वीडियोग्राफी के लिए सभी आधुनिक उपकरण लेकर आई

Dainik Bhaskar

Dec 04, 2019, 01:21 PM IST

रावतभाटा(दिलीप वाधवा). यहां के राणाप्रताप सागर बांध के स्लूज गेटों की वीडियोग्राफी बुधवार से शुरू हो गई। इसके लिए राणाप्रताप सागर बांध के जल संसाधन विभाग ने मेरठ की एक कंपनी को ठेका दिया था। कंपनी अंडर वाटर के वीडियोग्राफी के लिए सभी आधुनिक उपकरण लेकर आई है। जिसमें दुबई से खासतौर से एक डिवाइस मंगवाई है। कंपनी में 15 दिन में वीडियोग्राफी कर यह बता देगी कि गेट क्यों अटके हुए हैं और उनमें क्या क्या खराबी है।


जानकारी अनुसार, राणा प्रताप सागर बांध के 35 सालों से नहीं खुले 4 स्लूज गेटों की वास्तविक स्थिति की जानकारी के लिए जल संसाधन विभाग ने वीडियोग्राफी की निविदा जारी की थी। एक्सईएन पूरणचंद मेघवाल ने बताया कि बांध के रखरखाव और मरम्मत जीर्णोद्वार का कार्य (ड्रिप) डेम रिहेबिलिटेशन एंड इंप्रुवमेंट प्रोजेक्ट का कार्य अप्रैल तक शुरू होगा। इससे पूर्व स्लूज गेट की वास्तविक स्थिति की जानकारी के लिए वीडियोग्राफी होगी।

गोताखोर बांध के अंदर करेंगे वीडियोग्राफी 

राणा प्रताप सागर बांध में पानी भरा है। पानी के अंदर निचले स्तर पर स्लूज गेट लगे है। इसके लिए गोताखोर ही पानी में जाकर वीडियोग्राफी करेंगे। इसके लिए विभाग की ओर से निविदा जारी की गई थी। इस पर 14.59 लाख की राशि की निविदा जारी की गई थी।

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना