पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

नगर निगम की गोशाला में हो रही घटिया भूसे की सप्लाई, दवाइयां भी हुईं समाप्त

3 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
विधानसभा चुनाव की आचार संहिता लगने के बाद से ही नगर निगम की बंधा गोशाला की तरफ अधिकारियों व कर्मचारियों ने ध्यान देना छोड़ दिया। इससे वहां के हालात बिगड़ते जा रहे हैं। पिछले कई दिनों से वहां जो भूसा आ रहा है वो काला और बदबूदार आ रहा है। जिसे पशु खा नहीं रहे हैं। यही नहीं वहां दवाइयां तक खत्म हो चुकी हैं, पानी की खेळ टूट चुकी है, जिससे पशुओं के पानी पीने तक की समस्या आ रहा है। पिछले 1 माह से किसी भी अधिकारी ने वहां की विजिट नहीं की। गोशाला में प्रतिदिन 50 क्विंटल से अधिक भूसे की खपत होती है।

गोशाला में इन दिनों हरा चारा नहीं आ रहा है इसलिए गो वंश के पास खाने के लिए भूसे के अलावा कोई विकल्प नहीं है और भूसा भी खराब आने की स्थिति में वे भूख से व्याकुल होकर रंभाते रहते हैं। निगम द्वारा हर वर्ष भूसे की सप्लाई का करीब 1 करोड़ रुपए का टेंडर किया जाता है। प्रतिदिन भूसा सप्लाई किया जाता है और चार से पांच दिन का भूसा गोदाम में हमेशा रखा जाता है। इन दिनों वहां जो भूसा आ रहा है वो काफी घटिया क्वालिटी का आ रहा है। गुरुवार को वहां खेळ में काला, सड़ा और बदबूदार भूसा भरा हुआ था।

नगर निगम की बंधा गोशाला पशुओं को घटिया चारा दिया जा रहा है।

बजट अटका, दवाइयां नहीं मिल रहीं : गोशाला में दवाइयां, लवण चूर्ण आदि की आपूर्ति के लिए 6 माह पहले 20 लाख रुपए का बजट स्वीकृत किया गया था। एनुवल रेट कांट्रेक्ट के माध्यम से इनकी सप्लाई करवाना था। निगम ने इसके लिए टेंडर तो करवा दिए, लेकिन वर्क आर्डर अटक गया। ऐसे में गोशाला के लिए दवाइयां की खरीद नहीं हो पा रही है।

पानी की खेळ टूटी, सफाई भी नहीं
गोशाला में गो वंश के पानी पीने के लिए बनाई गई खेळ तक टूट चुकी है। इन खेळों की सफाई तक नहीं हो पा रही है। इसके अलावा बाड़ों की सफाई व्यवस्था भी चौपट हो रही है।

एक माह से हमारा दखल नहीं है। सभी काम अधिकारी संभाल रहे हैं। भूसे की जांच के बाद ही उसे लिया जाता है। यदि घटिया आ रहा है तो इसका मतलब वहां कोई जांच नहीं कर रहा है। -पवन अग्रवाल, चेयरमैन गोशाला समिति

गोशाला में घटिया भूसे की सप्लाई की शिकायत मेरे पास नहीं आई। कल ही वहां चैक करवाया जाएगा। भूसा घटिया है तो उसे नहीं लिया जाएगा जो आ चुका है उसे वापस करवाएंगे। सफाई व दवाइयाें की जानकारी ली जाएगी। -कृष्णा शुक्ला, उपायुक्त नगर निगम

खबरें और भी हैं...