पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

ट्रेन-18 को 130 किमी की रफ्तार से चलाकर जांचा ब्रेक सिस्टम

3 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
मेक इन इंडिया के तहत बनी यह हाई स्पीड ट्रेन विश्व स्तरीय बुलेट ट्रेन जैसा अनुभव देगी। इसे आईसीएफ चेन्नई ने बनाया है।

इसका रैक करीब 100 करोड़ की लागत से तैयार किया गया है। सबसे पहले दिल्ली-भोपाल के बीच इसे चलाना प्रस्तावित है। यह गाड़ी अधिकतम 160 किमी/घंटा की रफ्तार से चल सकती है।

160 किमी प्रतिघंटा की रफ्तार यह गाड़ी मात्र 6.2 किमी की दूरी तय कर पर प्राप्त कर लेगी। इसे 16 कोचों के साथ पूरी तरह से वातानुकूलित निर्मित किया गया है।

प्रत्येक छोर पर एरो डायनामिक ड्राइवर केबिन लगे हैं। प्रत्येक कोच में स्वचलित दरवाजे लगे हैं, जो ऑप्टिकल सेंसर के अनुसार खुलते और बंद होते हैं।

सीटों को यूरोपियन शैली में बनाया है, जो आरामदायक है। सीटों में लगे कपड़े धूल और आग के प्रतिरोधी है। कुर्सियों को 180 डिग्री तक घुमाया जा सकता है।

प्रत्येक कोच में एयरक्राफ्ट जैसी एलईडी लाइट का प्रयोग किया गया है, जो समय के आधार पर तेज और कम हो सकती है। प्रत्येक सीट पर पढ़ने वाली लाइट भी दी गई है।

प्रत्येक कोच में आधुनिक तरीके की मिनी पेंट्रीकार बनाई गई है, जिसमें भोजन को गरम करने तथा पेयजल और जूस के ठंडा करने के लिए विश्व स्तरीय उपकरण लगे हैं।

एयरक्राफ्ट जैसे बायो-वैक्यूम टॉयलेट हैं, जिसमें पानी की कम से कम खपत के लिए टच-फ्री फिटिंग का उपयोग किया गया है। इसके कोच आपस में ऐसे जुड़े रहते हैं, जिससे एयर कंडीशनिंग और कोच धूल मुक्त रहते हैं।

प्रत्येक कोच में वाई-फाई की सुविधा एवं प्रत्येक सीट पर मोबाइल चार्जिंग प्वांइट हैं। दृष्टिहीनों की सुविधा के लिए खिड़कियों में टच-आधारित उपकरण लगाए गए हैं।

प्रत्येक कोच में 2 जीपीएस स्क्रीन हैं, जिससे यात्रियों को अगले गंतव्य स्टेशन, आगमन के समय और गति के बारे में सूचना प्राप्त होगी।

खबरें और भी हैं...