--Advertisement--

कहानी बिल्ली की... कुएं में सवा महीने से गिरी है, बचाने को गांव वाले रोज पिला रहे दूध

मोहल्ले के लोग बिल्ली को बचाने के लिए कोशिश में जुटे हुए हैं।

Danik Bhaskar | May 18, 2018, 03:07 AM IST
सूखे कुएं में करीब डेढ़ माह पहले गिरी बिल्ली को अभी तक बाहर नहीं निकाला गया। सूखे कुएं में करीब डेढ़ माह पहले गिरी बिल्ली को अभी तक बाहर नहीं निकाला गया।

(कोटा). छोटा बाजार बालापुरा मोहल्ला के बड़े कुएं में करीब सवा महीने से एक बिल्ली गिरी हुई है। गांव के लोग बिल्ली को बचाने के लिए दूध, रोटी, पानी आदि खाद्य सामग्री डाल रहे हैं। ग्रामीणों की ओर से मामले की संपर्क पोर्टल पर भी शिकायत की गई, लेकिन वहां से यह काम स्थानीय प्रशासन का बताया गया है। कई जीवप्रेमियों में बिल्ली की दशा को लेकर चिंता बनी हुई है। मोहल्ले के लोग बिल्ली को बचाने के लिए भरसक कोशिश में जुटे हुए हैं।

बारिश में काम लेते हैं कुएं का पानी...मरने से दूषित होगा कुआं

ग्रामीण कन्हैयालाल सुमन ने बताया कि बारिश के बाद कुएं में पानी की आवक हो जाती है। उस समय नल सप्लाई नहीं होने क्षेत्र के लोग इस कुएं का पानी उपयोग में लेते हैं। इसके चलते कुएं में बिल्ली की मृत्यु नहीं हो, इसका प्रयास कर रहे हैं। बिल्ली की कुएं में मृत्यु को गांव के लिए अशुभ भी माना जाता है। क्षेत्रवासी बिल्ली को बचाने का प्रयास कर रहे हैं, लेकिन कुएं से बाहर निकालने में कामयाबी नहीं मिल रही है। वनकर्मी पन्नालाल सुमन ने बताया कि ग्रामीणों की ओर से संपर्क करने पर जो भी मदद होगी, की जाएगी। ग्राम विकास अधिकारी चौथमल मीणा ने बताया कि ग्राम पंचायत के पास जीवित बिल्ली को कुएं से निकालने का कोई बंदोबस्त नहीं है। वन विभाग को पत्र लिखा जाएगा।