--Advertisement--

लोक संस्कृति

Kotputli News - अनूठी परंपरा का संगम है बनेठी का डूडू मेला कोटपूतली/नारेहड़ा ग्रामीण (अनिल कौशिक/संजय जोशी) ग्राम बनेठी में...

Dainik Bhaskar

Mar 04, 2018, 03:40 AM IST
लोक संस्कृति
अनूठी परंपरा का संगम है बनेठी का डूडू मेला

कोटपूतली/नारेहड़ा ग्रामीण (अनिल कौशिक/संजय जोशी)

ग्राम बनेठी में शनिवार को डुडु का विशाल मेला भरा। मेले में गुड़गांव, दिल्ली, पंजाब, हरियाणा सहित देश प्रदेश से आए पहलवानों ने कुश्ती दंगल में भाग लिया। मेले में सजी विभिन्न प्रकार की स्टॉलों पर मेले में आए ग्रामीणों ने जमकर खरीददारी की। इस मौके पर श्याम मंदिर व हरिहर बाबा के मंदिर को विशेष रुप से सजाया गया।

पूर्व प्रधान विक्रम सिंह तंवर ने बताया कि होली के दिन हुई निशानेबाजी प्रतियोगिता में स्पेशल प्राइज प्रशिक्षित सिंह,प्रथम स्थान पर शमशेर सिंह, द्वितीय स्थान दीपेंद्र सिंह, तृतीय स्थान पर दीपक सिंह रहे। इन निशानेबाजों को मेले के अवसर पर ग्राम पंचायत व मेला कमेटी की ओर से सम्मानित किया गया। इस मौके पर डीएसपी महमूद खान, पनियाला एसएचओ पवन कुमार,सरपंच सुरेश सिंह, गजराज सिंह, पूर्व सरपंच उदयवीर सिंह, जिला सतर्कता समिति सदस्य मुकेश गोयल, शंकरलाल कसाणा, विश्व हिंदू सेना जिलाध्यक्ष रवि शर्मा सहित अनेक गणमान्य लोग उपस्थित थे। मेले में आए हुयो अतिथियों का मेला कमेटी की ओर से माल्यार्पण कर स्वागत किया गया। मेले में आखिरी 31 हजार रुपये की कामड़े की कुश्ती पहलवान संजय जैलाब ने जीती। मेले में बड़ी संख्या में महिला पुरुष व बच्चों ने भाग लिया।

मेले का इतिहास

पूर्व प्रधान विक्रम सिंह तंवर, दिनेश कुमार भारद्वाज ने बताया कि करीब 300 वर्ष पहले गांव के नांगला मोहल्ला के चित्रा-भेभा जैसे व्यक्तियों की इस कुश्ती दंगल की शुरुआत करवाने में अहम भूमिका थी। गांव में 9 पाने हैं। जिनमें से एक पाना महाजन समाज का है। इन सबके आपसी सहयोग के चलते इस मेले का आयोजन होता है। मेले वाले दिन ही चंदा लिया जाता है। इस मेले में गांव के सभी जातियों के लोग मेले में व्यवस्थाएं संभालने भरपूर सहयोग करते हैं। मेले की खास बात यह है कि इस मेले में छारदड़ा ग्राम के पहलवानों की पहले कुश्ती करवाई जाती है।

अपना त्योहार भूलकर ये हमें त्योहार मनाने का मौका देते हैं

बस्सी| त्यौहारों की खुशियों में मस्त हम लोग ये अंदाजा ही लगा पाते की हमारी इन खुशियों का मोल कुछ लोग अपनी खुशियां दांव पर लगा कर चुकाते है। गुरूवार-शुक्रवार को हम सभी होली और धुलेंडी की खुशियां मनाने में जुटे थे। मगर उस समय भी अपने घर परिवार से दूर सैकडों पुलिसकर्मी शांति व्यवस्था बनाए रखने के लिए अपनी ड्यूटी पूरी कर रहे थे। शनिवार को इन सभी पुलिसकर्मियों ने अपने थानों और चौकियों पर जमकर धमाल मचाया। बच्ची एसीपी सर्किल के बस्सी, तूंगा व कानोता थाना सहित सभी चौकियों पर पुलिसकर्मी रंग से सरोबार नजर आए। इस दौरान एसीपी, थाना इंचार्ज आदि भी जवानों के साथ एकरंग होते दिखे।

प्रदेशभर से आए पहलवानों ने दिखाया दमखम

X
लोक संस्कृति
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..