• Home
  • Rajasthan News
  • Kotputli News
  • निष्पक्ष जांच की मांग पर अड़े ग्रामीण, आश्वासन के चार घंटे बाद शव लिया
--Advertisement--

निष्पक्ष जांच की मांग पर अड़े ग्रामीण, आश्वासन के चार घंटे बाद शव लिया

छापुड़ा खुर्द गांव में पूर्व पंसस की आत्महत्या का मामला कार्यालय संवादादाता | शाहपुरा छापुड़ा खुर्द गांव...

Danik Bhaskar | Mar 30, 2018, 05:20 AM IST
छापुड़ा खुर्द गांव में पूर्व पंसस की आत्महत्या का मामला

कार्यालय संवादादाता | शाहपुरा

छापुड़ा खुर्द गांव में पूर्व पंचायत समिति सदस्य एवं सरपंच के ससुर चंद्रलाल ठेकेदार की आत्महत्या के मामले में ग्रामीणों ने निष्पक्ष जाँच की मांग करते हुए गुरुवार को शव लेने से इंकार कर दिया। उन्होंने चंद्रलाल की हत्या की आशंका जताते हुए शहर के राजकीय अस्पताल स्थित मोर्चरी के बाहर धरने पर बैठ गए। सूचना पर डीएसपी भागचंद मीणा, थाना प्रभारी वीरेंद्र सिंह राठौड़, एसआई इंस्पेक्टर कैलाश चंद मीणा मय जाब्ते सहित पहुंचे तथा ग्रामीणों से समझाइश की। ग्रामीण एफएसएल टीम बुलाने और निष्पक्ष जाँच की मांग पर अड़ गए। बाद में एफएसएल टीम के आने और निष्पक्ष कार्रवाई के आश्वासन पर करीब चार घंटे बाद मामला शांत हुआ।

गांव निवासी चंद्रलाल ठेकेदार ने बुधवार को अपने मकान के कमरे में फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली थी। घटना के समय घर पर चन्द्रलाल के वृद्ध पिता रामलाल अकेले थे। चन्द्रलाल अपनी सरपंच पुत्रवधू को बुधवार सुबह शाहपुरा में रहने वाली बेटी के पास छोड़ गया था। इसके बाद वह अपने गांव स्थित मकान में बने कमरे में चला गया। कुछ देर बाद चन्द्रलाल फंदे से लटका मिला। रामलाल के शोर को सुनकर आसपास के लोग मौके पर पहुंचे तथा उसे फंदे से नीचे उतारा। सूचना पर थाना पुलिस ने पहुंचकर शव को शाहपुरा के राजकीय अस्पताल की मोर्चरी में रखवाया था, लेकिन घटना की जानकारी मिलने पर गुरुवार सवेरे 9 बजे भीड़ एकत्र हो गई। उन्होंने चंद्रलाल की हत्या की आशंका जताते हुए शव लेने से इंकार कर दिया। ग्रामीणों ने आरोप लगाया कि चन्द्रलाल की जेब में कुछ कागजात थे जिन्हे हरिकिशन, श्यामलाल व गिरधारीलाल आदि ले गए। घटना से एक दिन पहले कुछ लोगों से बहस भी हुई थी। ग्रामीणों ने एफएसएल टीम बुलाने, गायब हुए कागजात बरामद करने, संदिग्ध लोगों को गिरफ्तार करने समेत निष्पक्ष कार्रवाई की मांग की। करीब सवेरे 11:30 बजे एफएसएल टीम आनंद जिंदल व पूरणमल शर्मा ने पहुंचकर नमूने उठाए। पुलिस ने ग्रामीणों से समझाइश कर मामले की निष्पक्ष जाँच का आश्वासन दिया तब करीब चार घंटे बाद दोपहर 1 बजे ग्रामीण शव लेने पर सहमत हुए। इस दौरान पार्षद विक्की किलेदार, लक्ष्मीनारायण, प्रभुदयाल बुनकर, बीड़ी नैनावत, एसएल शर्मा, खेमराज वर्मा, राजेंद्र बर्रा, प्रभुदयाल, उदयचंद, किशनलाल, श्यामलाल, रामलाल, पूरण, संजय आदि मौजूद थे।

6 लोगों से पूछताछ : घटना के बाद पुलिस ने गांव के 6 लोगों से घटना को लेकर थाने में पूछताछ की।

संदिग्धों से पूछताछ की जाएगी