• Home
  • Rajasthan News
  • Kotputli News
  • बीडीएम अस्पताल में उपचार के दौरान वृद्धा की मौत, परिजनों ने किया हंगामा
--Advertisement--

बीडीएम अस्पताल में उपचार के दौरान वृद्धा की मौत, परिजनों ने किया हंगामा

शहर के राजकीय बीडीएम अस्पताल में बुधवार को इलाज के दौरान एक महिला की मौत हो गई। परिजनों ने चिकित्सक एवं कम्पाउंडर...

Danik Bhaskar | Apr 05, 2018, 05:40 AM IST
शहर के राजकीय बीडीएम अस्पताल में बुधवार को इलाज के दौरान एक महिला की मौत हो गई। परिजनों ने चिकित्सक एवं कम्पाउंडर पर इलाज में लापरवाही से मौत होने का आरोप लगाते हुए हंगामा खड़ा कर दिया। सूचना पर भारी पुलिस जाब्ता मौके पर पहुंचा। थाना प्रभारी रविन्द्र प्रताप सिंह ने हंगामा कर रहे लोगों से समझाइश कर मामला शांत करवाया।

थाना प्रभारी ने बताया कि कस्बे के वार्ड 23 निवासी मुन्नी देवी (60) वर्ष प|ी रमेशचन्द दर्जी को जी घबराने पर बीडीएम अस्पताल लेकर आए। यहां उपस्थित कम्पाउंडर व चिकित्सक ने उपचार किया। इसी दौरान महिला की मृत्यु हो गई। मृतका के भतीजे रवि कुमार ने बताया कि अपराह्न 3 बजे उसकी ताई मुन्नी देवी को बेचैनी व गले में खराश होने पर अस्पताल लेकर आए थे। इमरजेंसी में तैनात कम्पाउंडर श्रीराम गुर्जर ने महिला को एक इंजेक्शन बिना चिकित्सक के ही लगा दिया। कुछ समय बाद वह महिला का शरीर नीला पड़ने लग गया। कम्पाउंडर एवं मौके पर आई डॉ. बृजबाला गुप्ता ने बदसलुकी करते हुए सही से जवाब नहीं दिया। कुछ ही देर में महिला की मृत्यु हो गई। रवि कुमार ने चिकित्सक व कम्पाउंडर की लापरवाही से मुन्नी देवी की मृत्यु होने का आरोप लगाया।

दो साल पहले बेट भी ऐसे ही मरा था

कुछ लोगों का कहना था कि महिला को हार्टअटैक आने से जी घबरा रहा था जिसको सही उपचार नहीं मिला। इससे उसकी मृत्यु हो गई। परिजनों ने मौके पर ही पुलिस थाना प्रभारी को रिपोर्ट दी। उन्होंने बीडीएम अस्पताल से बाहर के चिकित्सकों द्वारा मेडिकल बोर्ड से मृतक का पोस्टमार्टम करवाए जाने की मांग की। मृतका के पति रमेश चन्द ने बताया कि लगभग डेढ़ साल पहले 8 जुलाई 2016 को इसी तरह इमरजेंसी में इंजेक्शन लगाने से उसके 29 साल के बेटे की मृत्यु हो गई थी। आज इसी तरह प|ी की मृत्यु हो गई। अस्पताल में हंगामे की सूचना पर भारी पुलिस जाब्ता तैनात हो गया। थाना प्रभारी ने परिजनों को समझाइश कर शव मोर्चरी में रखवाया।

कोटपूतली. बीडीएम अस्पताल में हंगामा करते हुए मृतका के परिजन।