कोटपूतली

--Advertisement--

परोपकार ही मानवता का सबसे बड़ा धर्म; पीके भाटी

कोटपूतली|जयपुर-दिल्ली राजमार्ग स्थित दा राजस्थान स्कूल में विद्यार्थियों ने पर्यावरण संरक्षण की पहल करते हुए...

Dainik Bhaskar

Apr 22, 2018, 03:05 AM IST
परोपकार ही मानवता का सबसे बड़ा धर्म; पीके भाटी
कोटपूतली|जयपुर-दिल्ली राजमार्ग स्थित दा राजस्थान स्कूल में विद्यार्थियों ने पर्यावरण संरक्षण की पहल करते हुए भीषण गर्मी के मौसम में बेजुबान पक्षियों की प्यास बुझाने के लिए परिसर में परिंडे लगाए। प्रधानाचार्य पीके भाटी ने कहा कि परोपकार ही मानवता का सबसे बड़ा धर्म है। इससे बड़ा कोई पुण्य नहीं होता।

गर्मी के मौसम में विद्यार्थियों के प्रयास से पक्षियों को राहत मिलेगी। इस तरह के कार्यों से विद्यार्थियों में नैतिक व मानवीय मूल्यों का विकास होता है। उन्होंने स्वयं परिंडे बांधकर अभियान की शुरूआत की। साथ ही विद्यार्थियों को अपने गांव, शहर व घर के आसपास भी ऐसे कार्यों के लिए प्रेरित किया।

इस दौरान हरिमोहन मिश्रा, राकेश गौड़, डीके झा, डॉ.राजेश यादव, अशोक पठानिया, सौम्या राज, नीतू वर्मा आदि स्टॉफ सदस्य समेत विद्यार्थी मौजूद थे।

कोटपूतली. राजस्थान स्कूल में पक्षियों के लिए परिेंडे बांधते हुए।

X
परोपकार ही मानवता का सबसे बड़ा धर्म; पीके भाटी
Click to listen..