--Advertisement--

तूफान से गांव- कस्बों में तबाही का मंजर

भाबरू. कस्बे में गुरुवार सायं उठी काली-पीली आंधी से धुल का गुब्बार। कोटपूतली में 150 खंभे गिरे, युद्ध स्तर पर...

Danik Bhaskar | May 04, 2018, 05:20 AM IST
भाबरू. कस्बे में गुरुवार सायं उठी काली-पीली आंधी से धुल का गुब्बार।

कोटपूतली में 150 खंभे गिरे, युद्ध स्तर पर मरम्मत कार्य, फिर भी 24 फीडरों से बिजली सप्लाई ठप

कार्यालय संवाददाता | कोटपूतली

पूरे प्रदेश की तरह बुधवार शाम कोटपूतली क्षेत्र में भी आए भयंकर आंधी तूफान से काफी नुकसान हुआ। गनीमत यह रही कि क्षेत्र में अभी तक किसी भी व्यक्ति के हताहत या घायल होने के समाचार नहीं मिले है। तूफान में करीब बिजली के 150 पोल टूटकर गिर गए। वहीं विभिन्न जगहों से ट्रांसफार्मर नीचे गिरने से कई गांवों में बिजली व्यवस्था ठप पड़ी हुई है।

बिजली को पुनः शुरू करने के लिए विभाग के सभी कार्मिक लगभग क्षेत्र में ही तैनात रहे। विभाग द्वारा बिजली को शुरू करने के लिए युद्ध स्तर पर प्रयास किया जा रहा है। वहीं कोटपूतली कस्बे में भी बिजली व्यवस्था बुधवार रात्रि एवं गुरुवार दिन के समय लगभग बाधित रही। बार-बार लाइट शुरू होने के बाद फ्युज उड़ने के कारण सप्लाई सुचारू रूप से पुनः शुरू नहीं हो सकी। कस्बे की गोविन्द विहार कॉलोनी समेत आसपास इलाके में गुरुवार शाम तक बिजली शुरू नहीं की जा सकी है। जबकि जगह-जगह पशुओं की हानि की सूचनाएं प्राप्त हुई। भारी संख्या में पेड़ व कच्ची दीवारें भी तूफान की वजह से टूटकर गिर गई। स्थानीय प्रशासन के नुकसान आंकलन के लिए तहसीलदार व पटवारी से रिपोर्ट तैयार करवाई जा रही है।

एक्सईएन का तबादला होने से मरम्मत कार्य पूर्ण होने में लग सकता है समय

नुकसान आंकलन कर तहसीलदार व पटवारी रिपोर्ट तैयार करने में जुटे, पावर सप्लाई न होने के कारण कई गांवों में पेयजल आपूर्ति भी गड़बड़ाई

गुरुवार शाम तक लगभग दो दर्जन फीडरों पर बिजली व्यवस्था शुरू नहीं की जा सकी थी। इस बीच बिजली निगम के एक्सईएन बीएल मीणा का भी स्थानान्तरण जेवीवीएनएल ने यहां से कर दिया। बिजली सप्लाई पुनः शुरू करने के कार्य के दौरान एक्सईएन का स्थानान्तरण हो जाने से सप्लाई को सुचारू करने में अधिक समय लग सकता है। जेवीवीएनएल की ओर से दौसा के एक्सईएन केसी वर्मा को कोटपूतली में तैनात किया गया है। जरूरत के समय एक्सईएन का स्थानान्तरण किया जाना जेवीवीएनएल की कार्यप्रणाली पर सवाल उठाता है।

लाइनों में जगह-जगह फाल्ट

हल्की बारिश से गिरा तापमान

शाहपुरा| शहर सहित आसपासके क्षेत्र में गुरुवार शाम आई हल्की बारिश से लोगों को गर्मी से राहत मिली है। दिन भर सूर्य की तपिश से लोग पसीने से तरबतर हो रहे थे। वहीं दिनभर उमस से लोग परेशान रहे दिनभर का आलम यह है कि 8 बजे से ही सूर्य आग उगलना शुरू कर देता है। दोपहर में तो सड़कों व बाजारों में सन्नाटा पसर जाता है। गर्मी का सितम विगत 1 सप्ताह से जारी है। गुरुवार रात्रि को लोग भी गर्मी से परेशान दिखे। कूलर पंखे भी भीषण गर्मी के आगे बेअसर साबित हो रहे हैं। दोपहर बाद शाम तक बादल छाए रहे। शाम को हल्की बूंदाबांदी हुई जिससे लोगों को राहत मिली। लोगों का कहना है कि हल्की बूंदाबांदी से उमस से राहत तो मिल सकती है। बुधवार देर शाम आएं अंधड़ से शहर के बस स्टैंड पर एक टिनशेड उड़कर लगने से दो व्यक्ति घायल हो गए जिनको उपचार के लिए सरकारी अस्पताल में भर्ती कराया गया। मामटोरी नवलपुरा गांव में अधंड़ से बिजली के 3 पोल टूटने से कई घंटे तक बिजली बांधित रही।

फ्यूज बांधने के कुछ देर बाद फिर उड़ जाते हैं

कोटपूतली.तूफान से गिरा बिजली का पोल।

काली-पीली आंधी उठी, लोगों में भय

अंधेरे में डूबे रहे गांव

पावटा ग्रामीण| बुधवार शाम आए अंधड़ से एक तरफ घरों व प्रतिष्ठानों में धूल भर गई जिससे परिवार के सदस्य दिनभर सफाई कार्य में लगे रहे। दूसरी तरफ तेज गति से आए इस अंधड़ से अनेक जगह पेड़ उखड़ गए व बिजली के तार टूट गए जिससे गांवों में रातभर बिजली व्यवस्था ठप रही। अनेक गांवों में गुरुवार दोपहर तक बिजली व्यवस्था सही नहीं होने से लोगों को पेयजल समस्या का सामना करना पड़ा।

पाथरेडी गोशाला में अंधड़ से टिन टप्पर सहित चारा उड़ा, लाखों का नुकसान

पाथरेडी गोशाला के टिन से दो ट्रक चारा भी उड़ गया

पावटा| बुधवार देर सायं आए तेज अंधड़ के कारण पाथरेडी गोशाला की टिन टप्पर व दो ट्रक चारा तेज अंधड़ में उड़ गया। पाथरेडी सरपंच शिम्भुदयाल मीणा व उपसरपंच अमरजीत सिंह ने बताया कि अंधड़ से गोशाला की टिन टप्पर उड़ गई व उनमें रखा करीब दो ट्रक चारा भी उड़ गया। साथ ही एक दीवार क्षतिग्रस्त हो गई जिससे लाखों का नुकसान हो गया।