• Hindi News
  • Rajasthan
  • Kotputli
  • दिनभर चली आंधी, कई जगह पेड़ गिरे, बनेटी में ओले, फसल भीगने से किसान हुए मायूस
--Advertisement--

दिनभर चली आंधी, कई जगह पेड़ गिरे, बनेटी में ओले, फसल भीगने से किसान हुए मायूस

Dainik Bhaskar

Apr 07, 2018, 05:30 AM IST

Kotputli News - कार्यालय संवाददाता | शाहपुरा पिछले कई दिनों से पड़ रही तेज गर्मी के चलते अचानक मौसम में आए परिवर्तन के कारण...

दिनभर चली आंधी, कई जगह पेड़ गिरे, बनेटी में ओले, फसल भीगने से किसान हुए मायूस
कार्यालय संवाददाता | शाहपुरा

पिछले कई दिनों से पड़ रही तेज गर्मी के चलते अचानक मौसम में आए परिवर्तन के कारण शुक्रवार दोपहर बाद काले घने बादल छाए रहे। इस दौरान शहर सहित कई गांवों में हल्की बूंदाबांदी भी हुई। बादल छाए रहने से लोगों को गर्मी से भी राहत मिली। मौसम के मिजाज को देखकर किसान खलिहान में पड़ी अपनी फसल को लेकर चिंतित नजर आए। कई इलाकों में बूंदाबांदी होने से किसान फसल को भीगने से बचाने में जुटे रहे। किसानों ने बताया कि इस समय तेज बारिश होने से किसानों की उपज भीग जाने से काफी नुकसान होगा।

भाबरु में बारिश से किसान चिंतित

भाबरू| कस्बे सहित ढाणी गैसकान, दोल्यापुर, सीतापुर आदि क्षेत्रों में शाम बारिश हुई, जिससे किसानों के चेहरे पर मायूसी छा गई। शाम 5:30 बजे बारिश शुरू हुई जो करीब 10 मिनट तक बरसी। किसान नेता गिरधारी घोसल्या ने बताया कि बारिश से फसल में नुकसान की आशंका है। पकी हुई फसल कटने के कगार पर है और कुछ स्थानों पर तो फसल कट भी रही है। बारिश होने से फसल के गलने का खतरा मंडरा रहा है। बारिश से आम रास्ते में पानी भर गया जिससे लोगों को आवागमन में परेशानियों का सामना करना पड़ा। बारिश के बाद लोगों ने खुले में व छत पर घूमकर मौसम का आनंद उठाया।

पावटा ग्रामीण| क्षेत्र में कई गांवों में आसमान में अचानक छाई काली घटाओं एवं बूंदाबादी को देखकर किसान दिनभर चिन्तित रहे। बारसात से होने वाले नुकसान को ध्यान में रखते हुए फसल को भीगने से बचाने व उसे सुरक्षित रखने के उपाय करते रहे।

अमरसरवाटी में अंधड के साथ बूंदाबांदी

अमरसर| अमरसरवाटी क्षेत्र में शाम को अचानक अंधड के साथ बूंदाबांदी हूई। किसान सोहन लाल बागडी ने बताया कि अंधड आने से कई जगह पेड़ टूटकर गिर गए तथा फसल को भी नुकसान हुआ। कई जगह बूंदाबांदी हुई। लोगों को गर्मी से भी राहत मिली।

पावटा| क्षेत्र में दोपहर से बिगड़े मौसम से खलिहानों में कटकर रखी फसल को लेकर किसान चिंतित नजर आए। किसान गिरधारी जितरवाल ने बताया कि अचानक बदले मौसम से खेतों में पकी पकाई फसल खराब होने की आशंका है। किसान नेता कैलाश ताखर ने बताया कि अचानक बदले मौसम के अंदाज से किसानों की खेतों में पड़ी फसल व चारा उड़ गया। साथ ही आसमान पर छाए बादल व चल रही हवा के चलते खेतों में लगे हुए किसानों के चेहरे पर चिंता की लकीरें दिखाई देने लगी।

अंधड के साथ हुई हल्की बरसात

कोटपूतली/नारेहडा ग्रामीण| नारेहड़ा सहित रायकरणपुरा, पानेडा, बनेटी सहित आसपास के गांवों में तेज अंधड के साथ हल्की बरसात हुई जिससे किसानों को अपनी फसल को लेकर चिंता सताने लगी। बनेठी में हल्की बरसात के साथ हल्के ओले भी गिरे जिससे गेहूं की खडी फसल को नुकसान होने की आशंका बन गई। किसान विकास कुमार, बंशी कुमावत, हीरालाल कुमावत, ताराचंद व राजूसिंह ने बताया कि बनेटी में शुक्रवार को हल्की बरसात के साथ ओले भी गिरे जिससे नुकसान होने की आशंका सताने लगी। बनेटी सरपंच सुरेश सिंह तंवर ने बताया कि हल्के ओले गिरने से फसल को करीब 25 प्रतिशत नुकसान हुअा।। कृषि सुपरवाइजर विक्रम सिंह के अनुसार हल्की बूंदाबांदी व हल्के ओलों की वजह से 1-2 प्रतिशत ही नुकसान हुआ। इसी प्रकार नारेहड़ा कृषि सुपरवाइजर रमेश चंद मीणा, रायकरणपुरा से कौशल्या चौधरी व पानेडा से मुनेश कुमार के अनुसार हल्की बरसात से कोई नुकसान नहीं हुआ। हल्की बरसात हुई जो हवा के साथ ही सूख जाती है।

पावटा. हल्की बूंदाबांदी होने से भीगी सड़क।

शाहपुरा. मौसम में परिवर्तन आने से आसमान में छाए बादलों से हुआ अंधेरा।

बस्सी इलाके में बूंदाबांदी, गेहूं की फसल को नुकसान

बस्सी/जटवाड़ा। क्षेत्र में फसल कटाई का दौर जारी है। सभी जगह खेत खलिहान में गेहूं की फसल की कटाई चल रही है लेकिन इसी बीच हुई हल्की बूंदाबांदी ने किसानों की दिक्कतों को खासा बढ़ा दिया। शाम को कुछ हिस्सों में बूंदाबांदी होने से किसान मायूस नजर आए।

उल्लेखनीय है कि अधिकांश क्षेत्र में इन दिनों गेहूं कटाई चल रही है। जगह-जगह किसानों द्वारा गेहूं की कटाई की जा रही है। जिन किसानों के गेहूं कट चुके हैं वे खेत खलिहानों में पड़े हैं, लेकिन इसी बीच रात के समय सुठालिया क्षेत्र के कुछ गांवों में बूंदाबांदी की स्थिति बन गई थी। हल्की बूंदाबांदी होती देख किसान सकते में नजर आए। किसानों का कहना है कि यदि बारिश कुछ समय के लिए हो जाती तो पूरी गेहूं की उपज बर्वाद हो जाती। किसानों ने बताया कि इन दिनों गेहूं की बालियां पककर कटने की स्थिति में आ पहुंची है। अब यदि पानी के अलावा हवा भी चलेगी तो वह गेहूं की बालियों को नुकसान पहुंचाएगी। इस कारण गेहूं की बालियां टूटकर जमीन पर आ जाएगी और किसानों को खासा नुकसान होगा।

फालियावास। फालियावास इलाके में तेज हवाओं के साथ बारिश शुरू हुई जिससे किसानों की चिंता बढ़ गई। बारिश का माहौल देख किसानों ने जल्दी जल्दी में खेतों में अपने काम निपटाए।

बांसखो। क्षेत्र में शुक्रवार देर शाम धूल भरी आंधी के बाद हल्की बूंदाबांदी के कारण मौसम के बदलाव से किसानों के चेहरे पर चिंता की लकीर खींचने लगी है। करीब 10 मिनट हुई बूंदाबांदी के कारण सड़कें गीली हो गई। मौसम में ठंडक बढ़ गई। कई किसानों की फसलें खेतों में खड़ी है। आसमान में बादल छाए रहने से बरसात की संभावना बढ़ती जा रही है। लोगों ने रबी की कटी हुई फसल खेतों में पड़ी रहने के कारण किसानों की मुश्किलें बढ़ सकती है।

जमवारामगढ़ ग्रामीण। कस्बे में कल दिनभर मौसम की अटखेलियां जारी रही। शाम 5 बजे बाद जहां मौसम ने गर्मी से राहत दिलाई वहीं धूलभरी आंधी ने मजा किरकिरा कर दिया। आंधी से वाहन चालकों को सर्वाधिक समस्या हुई। काले बादलों के साथ कहीं आकाशीय बिजली भी चमकी। किसानों ने बताया कि गेहूं की फसल कट कर खेतों में तैयार पड़ी है अगर बालियों से गेहूं न निकलवाया गया तो फिर एक बार महंगाई की मार सहनी पड़ेगी। शाम होते ही बरसात भी आई जिससे गली मोहल्ले तर हो गए।

X
दिनभर चली आंधी, कई जगह पेड़ गिरे, बनेटी में ओले, फसल भीगने से किसान हुए मायूस
Astrology

Recommended

Click to listen..