Hindi News »Rajasthan »Kotputli» आज मास्साब ने कहा था कि कोई आएगा, पोषाहार की पूछे तो अच्छा ही बताना, इसलिए अच्छा बताया

आज मास्साब ने कहा था कि कोई आएगा, पोषाहार की पूछे तो अच्छा ही बताना, इसलिए अच्छा बताया

कोटपूतली | सरकार के आदेश थे तो निरीक्षण करना था, निरीक्षण किया भी। जहां निरीक्षण करना था, वहां के संस्था प्रधानों व...

Bhaskar News Network | Last Modified - Aug 08, 2018, 05:35 AM IST

कोटपूतली | सरकार के आदेश थे तो निरीक्षण करना था, निरीक्षण किया भी। जहां निरीक्षण करना था, वहां के संस्था प्रधानों व अन्य को इसकी जानकारी पहले ही मिल गई। इसका असर यह हुआ कि ज्यादातर स्कूलों में सभी प्रकार की व्यवस्थाएं सही मिली। पोषाहार में भी अधिकारियों को कमी नहीं मिली। ऐसे में भास्कर संवाददाता ने बच्चों से हकीकत जानी तो कई चौकाने वाले खुलासे हुए। बच्चों ने साफ कहा कि पोषाहार खाने लायक नहीं बनता है, पर शिक्षकों ने उनको कहा कि इसलिए उन्होंने अधिकारियों से इसकी शिकायत नहीं की।

बीडीअो रेखा रानी व्यास ने बताया कि निरीक्षण के दौरान पूतली के राजकीय बालिका उच्च प्राथमिक विद्यालय में पोषाहार की रोकड बही नहीं मिली । इसलिए कुक कम हैल्पर के मानदेय का सत्यापन नहीं किया गया। निरीक्षण के दौरान बच्चों की साफ सफाई ठीक ढंग से नहीं मिलने पर आंगनबाडी प्रभारी को इसे तुरंत ठीक करवाने को कहा गया। अनेक स्कूलों में नामांकन अधिक था लेकिन बच्चों की हाजिरी कम मिली। साथ ही पोषाहार रजिस्टर का कार्य अपूर्ण मिला और कैस बुक भी अधूरी मिली।

पड़ताल : कक्षा 3 के बच्चों से पूछा गया तो छात्र लक्की बोला हमे रोजाना जली हुई रोटी मिलती है। हमने पूछा कि उन्होंने यह बात तहसीलदार को क्यों नहीं बताई तो पास बैठी छात्रा ने कहा कि आज सुबह ही मास्साहब ने कह दिया था कि आज बाहर से कोई बड़े साहब आएंगे, वे पूछे तो कह देना कि खाना अच्छा मिलता है।

पांच से कम अंक आने पर होगी सख्त कार्रवाई: क्षेत्र के 147 राप्रावि, राउप्रावि, रामावि व राउमावि में पोषाहार संचालित है जिसमें प्रतिदिन 10 हजार 900 बच्चों को पोषाहार खिलाने का दावा किया जाता है। प्राथमिक स्तर के बच्चे को 4 रुपए 13 पैसे है पोषाहार की डाईट, उच्च प्राथमिक स्तर के बच्चे को 6 रुपए 18 पैसे की डाईट, सप्ताह में एक दिन स्थानीय मांग के अनुसार विशेष भोजन, सप्ताह में एक दिन फल देने का है प्रावधान।

20 ग्राम पंचायतों में निरीक्षण

क्षेत्र की 20 ग्राम पंचायतो में स्थित स्कूलों में मिड डे मील का निरीक्षण करने के लिए 9 अधिकारियों को लगाया गया है। इनमें एसडीएम ज्योति मीणा, बीडीओ रेखारानी व्यास, तहसीलदार भागीरथ राम, बीईईओ ब्रजभूषण कौशिक, प्राचार्या विजया कौशिक, चिमनपुरा स्कूल के प्राचार्य सुभाष चंद शर्मा, मलपुरा प्राचार्य दयाराम वर्मा, सांगटेडा प्राचार्य राकेश कुमार व सुंदरपुरा प्राचार्य रजकेश खरडिया शामिल थे। प्रत्येक अधिकारी काे चार से पांच स्कूलो के निरीक्षण की जिम्मेदारी सौंपी गई थी।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Kotputli

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×