--Advertisement--

कोटपूतली में पहली बार ओवरस्पीड के चालान

सड़क दुर्घटनाओं को रोकने के लिए प्रदेशभर के साथ कोटपूतली में भी दो माह पहले पुलिस विभाग की और से इंटरसेप्टर गाडी दी...

Dainik Bhaskar

Aug 10, 2018, 05:41 AM IST
सड़क दुर्घटनाओं को रोकने के लिए प्रदेशभर के साथ कोटपूतली में भी दो माह पहले पुलिस विभाग की और से इंटरसेप्टर गाडी दी गई थी। यातायात पुलिस को मिली इंटरसेप्टर गाडी की मदद से यातायात पुलिस ने शहर में चल रहे ओवर स्पीड वाहन चालकों, कागजात के अभाव के अलावा शराबी वाहन चालकों पर 2 माह में 2500 के चालान काटकर साढे 3 लाख रुपए का जुर्माना वसूल किया। यह इंटरसेप्टर गाडी का कार्य क्षेत्र जयपुर दिल्ली हाइवे पर पनियाला थाना क्षेत्र से मनोहरपुर तक का रखा गया है।

इंटरसेप्टर गाडी के प्रभारी राजेश यादव व कांस्टेबल देवेन्द्र ने बताया कि अभी तक कोटपूतली पुलिस के पास तेज गति से चल रहे है वाहनों पर कार्रवाई करने के लिए गति मापने का कोई उपकरण नहीं था। क्षेत्र में हो रही सडक दुर्घटनाओं को रोकने के लिए तत्कालीन पुलिस अधीक्षक रामेश्वर सिंह के निर्देश पर इंटरसेप्टर गाडी की मदद से तेज गति से चलने वाले वाहनों पर कार्रवाई की गई। कोटपूतली के राष्ट्रीय राजमार्ग के साथ बानसूर मोड़, नीमकाथाना रोड पर यातायात पुलिस ने इंटरसेप्टर गाडी में लगे गति मापक यंत्र की मदद से 2 माह में 2500 वाहनों को पकड़कर उनके चालान काटे। ओवर स्पीड वाहनों के खिलाफ कार्रवाई पर डीएसपी सांवरमल नागौरा ने कहा कि तेज रफ्तार से वाहन ना चलाने के लिए समय समय पर कैंप लगाकर समझाया जाता है।

यह भी जानिए कितनी होनी चाहिए वाहनों की गति

शहर में यातायात पुलिस ने वाहनों की गति निर्धारित की हे। इसके तहत बानसूर रोड व नीमकाथाना रोड पर दुपहिया वाहनों की गति 60 किलोमीटर प्रति घंटा, तिपहिया वाहनों की गति 40 किलोमीटर प्रतिघंटा, चौपहिया वाहनों में 8 सवारी वाले वाहनों की गति 70 किलाेमीटर प्रति घंटा और 8 से अधिक सवारी वाले वाहनों की गति 70 किलामीटर प्रति घंटा निर्धारित है। इसके साथ ही भारी वाहनों की गति 60 किलोमीटर प्रति घंटा तय की गई है। एनएच 8 पर दुपहिया वाहनों की गति 60 किमी प्रति घंटा, तिपहिया वाहनों की गति 40 किमी प्रतिघंटा, भारी वाहनों की गति 70 किमी प्रतिघंटा और चौपहिया वाहनों में 8 सवारी वाले वाहनों की गति 90 किमी प्रति घंटा के साथ 8 से अधिक सवारी वाले वाहनों की गति 75 किमी प्रति घंटा तय की गई है। एसएचओ रणजीत सिंह ने बताया कि दो माह पहले 8 जून को पुलिस मुख्यालय से एक इंटरसेप्टर वाहन आवंटित हुआ था। इसमें एक सीआई, तीन सिपाही व एक चालक को तैनात किया गया। गाडी में मौजूद यंत्र हाइवे पर तेज दौड़ने वाले वाहनों के नंबर कैप्चर कर निर्धारित गति से तेज होने व शराब पीकर वाहन चलाने के खिलाफ चालान काटने में मदद करता है।

अच्छी खबर

दो माह पहले मिली थी इंटरसेप्टर गाडी, शराबी वाहन चालकों पर भी रहेगी पैनी नजर

X
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..