Hindi News »Rajasthan »Kotputli» शुक्लाबास में स्कूल व गोशाला के पास हैवी ब्लास्टिंग

शुक्लाबास में स्कूल व गोशाला के पास हैवी ब्लास्टिंग

शुक्लाबास में बुधवार को सरकारी स्कूल व गोशाला के पास हैवी ब्लास्टिंग को लेकर स्कूली बच्चे भयभीत नजर आए। इसको लेकर...

Bhaskar News Network | Last Modified - Aug 09, 2018, 05:46 AM IST

शुक्लाबास में बुधवार को सरकारी स्कूल व गोशाला के पास हैवी ब्लास्टिंग को लेकर स्कूली बच्चे भयभीत नजर आए। इसको लेकर राधेश्याम यादव की अगुवाई में ग्रामीणों ने एसडीएम ज्योति मीणा को ज्ञापन सौंपकर हैवी ब्लास्टिंग पर रोक लगाने की मांग की। साथ ही अवगत कराया कि अवैध खनन व ब्लास्टिंग को लेकर शुक्लाबास में 61 दिनों तक चले धरने के बाद प्रशासन की मौजूदगी में समझौता हुआ था लेकिन उस पर अमल नहीं होने से ग्रामीणों में आक्रोश है।

ग्रामीणों ने एसडीएम को बताया कि समझौता होने के बाद भी खदानों में अवैध ब्लास्टिंग हो रही हैं। आबादी में रातदिन खनन कार्य जारी है। ग्रामीणों ने चेतावनी दी कि यदि समझौते पर शीघ्र अमल नहीं हुआ तो पुन: ग्रामीणों को मजबूरन आंदोलन करने पर उतारू होना पड़ेगा। बनवारी लाल शास्त्री,नत्थाराम पंच, श्रीराम रावत, दलीपसिंह, सुगनचंद, प्रदीप यादव, देवाराम रावत, रामवतार चौहान, रोशनलाल यादव, रिछपाल आर्य, मनोज आर्य पवाना, ग्यारसीलाल आर्य पवाना आदि उपस्थित थे।

एससीएसटी एक्ट के पुराने मूल प्रावधान को शीघ्र लागू करें

शाहपुरा | अनुसूचित जाति एवं अनुसूचित जनजाति अत्याचार निरोधक अधिनियम को पुराने मूल प्रावधान में शीघ्र लागू करवाने की मांग को लेकर अखिल अनुसूचित जाति समन्वय परिषद के पदाधिकारियों को केंद्रीय गृहमंत्री राजनाथ सिंह को पत्र भेजा है। पत्र में जिलाध्यक्ष बोदूराम वर्मा, जिला उपाध्यक्ष एडवोकेट सोहनलाल वर्मा, महामंत्री एडवोकेट कैलाश बुनकर आदि ने बताया कि केंद्र सरकार की शह से सर्वोच्च न्यायालय ने एससीएसटी एक्ट में बदलाव किया जो सरासर समाज के प्रति अन्याय एवं समाज के हितों का कुठाराघात हुआ। उन्होंने कहा कि जब से एससीएसटी एक्ट में संशोधन हुआ तब से देश में समाज के साथ अत्याचार की घटनाएं बढ़ रही है। उन्होंने एससी एसटी एक्ट के पुराने मूल प्रावधान को शीघ्र लागू करने की मांग की।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Kotputli

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×