कुचामन

  • Hindi News
  • Rajasthan News
  • Kuchaman News
  • गुजरात में भेष बदल कर रह रहा था बाबा, उदयपुर पुलिस ने राजकोट से किया गिरफ्तार
--Advertisement--

गुजरात में भेष बदल कर रह रहा था बाबा, उदयपुर पुलिस ने राजकोट से किया गिरफ्तार

कुचामन सिटी-मौलासर-लादड़िया| मौलासर थाना क्षेत्र के लादड़िया गांव स्थित बाबा मानदास बगीची आश्रम में महंत के रूप...

Dainik Bhaskar

Apr 01, 2018, 05:05 AM IST
कुचामन सिटी-मौलासर-लादड़िया| मौलासर थाना क्षेत्र के लादड़िया गांव स्थित बाबा मानदास बगीची आश्रम में महंत के रूप में रहे बाबा रामशरणदास के खिलाफ उदयपुर के थाने में दर्ज कुकर्म मामले में उदयपुर पुलिस ने शुक्रवार को आरोपी को गुजरात के राजकोट से गिरफ्तार कर लिया।

कथित बाबा देश के कई शहरों में घूमते हुए राजकोट पहुंच गया और वहां वेश बदलकर रह रहा था। बाबा के विरुद्ध 5 जनवरी को उदयपुर के घंटाघर पुलिस थाने में उदयपुर निवासी एक युवक की मां ने मामला दर्ज कराया था। जिसमें बाबा पर आश्रम में युवक के साथ कुकर्म करने और वीडियो क्लिप बनाने के आरोप लगाए थे। उदयपुर के घंटाघर थाने के एसएचओ इंस्पेक्टर गोपाल चंदेल ने बताया कि पुलिस ने आरोपी बाबा की तलाश में कई जगह दबिश दी थी। लेकिन पुलिस को कामयाबी नहीं मिली। इसके बाद उदयपुर पुलिस ने साइबर सेल की मदद ली और बाबा को ट्रेस किया। इसके बाद शुक्रवार को बाबा को राजकोट से गिरफ्तार कर लिया। पुलिस ने बताया कि आरोपी बाबा को न्यायालय में पेश कर रिमांड पर लिया है। अब रिमांड अवधि में पुलिस आरोपी बाबा से पूछताछ करेगी।

वेश बदला, कई शहर में घूमा, आखिर राजकोट पहुंचा : उदयपुर पुलिस ने बताया कि युवक के साथ कुकर्म करने के आरोपी बाबा ने अपनी पहचान छुपाने के लिए वेश बदल लिया। बाबा ने अपने सिर के बाल छोटे करवा लिए थे और अपना हुलिया इस प्रकार बदला ताकि पहचान में नहीं आ पाए। पुलिस ने बताया कि आरोपी ने मामला दर्ज होने के बाद पुलिस के डर से तिरुपति समेत देश के कई धार्मिक स्थलों पर रहा। आखिर में गुजरात के राजकोट में एक मंदिर में साधु बन रह रहा था।

जांच के लिए बाबा को लादड़िया लेकर आएगी उदयपुर पुलिस :

उदयपुर के घंटाघर थाने में धारा 323, 347, 384, 377, 506 के तहत एफआईआर दर्ज की गई। थानाधिकारी गोपाल चंदेल ने बताया कि न्यायालय से रिमांड मिलने के बाद बाबा से पूछताछ की जाएगी। इस दौरान बाबा को लादड़िया और पुष्कर समेत एफआईआर में बताए गए सभी स्थानों पर भी ले जाया जाएगा।

एक साल रहा, फिर भी ग्रामीणों को नाम-पते की नहीं थी जानकारी : कुकर्म मामले के आरोपी बाबा रामशरणदास महाराज करीब एक साल तक लादड़िया रहा था। लेकिन ग्रामीणों को बाबा के असली नाम-पते की जानकारी अथवा अता-पता ग्रामीणों के पास नहीं था। 5 जनवरी को उदयपुर में मामला सामने आने के बाद ग्रामीणों ने सिर्फ यह बताया कि करीब सालभर पूर्व ही बाबा यहां रहने लगा था। उसे डीडवाना और नवलगढ़ के किसी महंत के माध्यम से यहां कई दिनों से बंद पड़ी बाबा मानदास बगीची में लाया गया था। इसके बाद बाबा ने लादड़िया के ग्रामीणों को साथ लेकर सवा लाख हनुमान चालीसा महायज्ञ के तहत अप्रैल माह में यहां रामकथा का आयोजन किया था। जिसमें क्षेत्र के राजनेताओं और धार्मिक लोग भी लादड़िया पहुंचे थे। आयोजन में खर्च हुए 5 से 7 लाख रुपए का पूरा खर्चा ग्रामीणों ने चंदा करके ही वहन किया था।

X
Click to listen..