Hindi News »Rajasthan »Kuchaman» संत बोले- परमात्मा की प्राप्ति जीवन का सार

संत बोले- परमात्मा की प्राप्ति जीवन का सार

भास्कर संवाददाता | कुचामन सिटी भांवता के बालाजी मंदिर में चल रहे नानी बाई रो मायरो कथा के दूसरे दिन संत रमतीराम...

Bhaskar News Network | Last Modified - Jun 15, 2018, 05:05 AM IST

संत बोले- परमात्मा की प्राप्ति जीवन का सार
भास्कर संवाददाता | कुचामन सिटी

भांवता के बालाजी मंदिर में चल रहे नानी बाई रो मायरो कथा के दूसरे दिन संत रमतीराम महाराज ने कहा कि इस संसार में गीता ही सभी ग्रन्थों का सार है। उन्होंने कहा कि गीता को लाल कपड़े में लपेटकर घर के आंगन में रखने पर अनपढ़ व्यक्ति भी गीता का सार समझने लगता है।

गीता को समझने के लिए भाषा की आवश्यकता नहीं है। उन्होंने कहा की भाषा तो सिर्फ मूर्खों के लिए बनी हुई है। बुद्धिमान और समझदार लोगों के लिए तो मौन ही काफी है। जीवन का एक ही लक्ष्य होना चाहिए वो है परमात्मा की प्राप्ति व आत्मा का ज्ञान। हमारे अंदर जो परमात्मा को पाने की चिंगारी है उसको सदैव जलाए रखना चाहिए अर्थात जब तक हमें आध्यात्मिक ज्ञान प्राप्त नहीं हो जाता है तब तक भगवान की भक्ति में डूबे रहने चाहिए। भगवान कृष्ण व नरसी का प्रसंग बताते हुए उन्होंने कहा कि जो सच्चे मन से भगवान की भक्ति करते हैं उनको जरूरत पड़ने पर भगवान अवश्य सहायता करते हैं। इस अवसर पर विधायक विजय सिंह चौधरी भी कथा सुनने पहुंचे। पुजारी करणसिंह ने माला व दुपट्टा ओढ़ाकर विधायक का स्वागत किया।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए Kuchaman News in Hindi सबसे पहले दैनिक भास्कर पर | Hindi Samachar अपने मोबाइल पर पढ़ने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App, या फिर 2G नेटवर्क के लिए हमारा Dainik Bhaskar Lite App.
Web Title: संत बोले- परमात्मा की प्राप्ति जीवन का सार
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)

More From Kuchaman

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×