• Hindi News
  • Rajasthan News
  • Kuchaman News
  • डॉक्टर ने नवजात को बता दिया था मृत, अंतिम संस्कार की तैयारी के समय लौट आई धड़कनें
--Advertisement--

डॉक्टर ने नवजात को बता दिया था मृत, अंतिम संस्कार की तैयारी के समय लौट आई धड़कनें

भास्कर संवाददाता | कुचामन सिटी शहर के राजकीय अस्पताल में रविवार को एक नवजात को मृत घोषित करने के बाद घर लौटकर...

Dainik Bhaskar

Aug 06, 2018, 05:31 AM IST
भास्कर संवाददाता | कुचामन सिटी

शहर के राजकीय अस्पताल में रविवार को एक नवजात को मृत घोषित करने के बाद घर लौटकर अंतिम संस्कार की तैयारी के दौरान बच्चे की धड़कन लौट आने का मामला सामने आया है। मृत घोषित करने के बाद जब परिजन घर पहुंचे और उसके अंतिम संस्कार के लिए तैयारियां कर रहे थे, उसी समय बच्चे की अचानक धड़कने वापस लौटने पर वे बच्चे को लेकर वापस अस्पताल पहुंचे। यहां लोगों ने डॉक्टर पर लापरवाही का आरोप लगाया। दरअसल तोषीना निवासी रमजान रंगरेज की प|ी नसीम बानो का शनिवार देर रात करीब 1 बजे प्रसव हुआ और उसने बेटे को जन्म दिया। डॉक्टरों के अनुसार समय पूर्व प्रसव होने के कारण नवजात के बचने की संभावना कम थी। लेकिन देर रात 4 बजे तक नवजात की धड़कने चालू रहने पर ड्यूटी डॉक्टर इशाक देवड़ा ने उसे नर्सरी में भर्ती कर लिया। रविवार दोपहर बाद नवजात की अचानक तबीयत बिगड़ गई। इस दौरान नर्सरी में ड्यूटी नर्स ने डॉ. को स्थिति बताई। परिजनों का कहना है कि इसके बाद मृत घोषित कर बच्चा उन्हें सौंप दिया। परिजनों ने तोषीना पहुंच कर अंतिम संस्कार की तैयारी के दौरान बच्चे की धड़कनें लौट आईं। नवजात के रोने की आवाज सुनकर परिजन उसे लेकर वापस कुचामन पहुंचे। इस दौरान रंगरेज समाज के लोग अस्पताल में एकत्रित हो गए और डॉक्टर पर लापरवाही का आरोप लगाने लगे। मामले की गंभीरता को देखते हुए पुलिस टीम भी अस्पताल पहुंच गई। समाचार लिखे जाने तक गुस्साए लोगों से समझाइश की जा रही थी। इधर, नवजात का भी नर्सरी में उपचार किया जा रहा था। इस मामले में डॉ. देवड़ा ने बताया कि मामला प्री मेच्योर डिलीवरी का है और समय पूर्व डिलीवरी में होने वाले बच्चे के बचने के आसार कम होते हैं। मृत घोषित करने के बाद वापस जिंदा होने के मामले में कई बार कुदरत का चमत्कार ही कहा जा सकता है।

कुचामन का मामला, परिजनों ने डॉ. पर लगाया लापरवाही का आरोप

X
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..