कुशलगढ़

  • Hindi News
  • Rajasthan News
  • Kushalgarh News
  • सफाईकर्मी की भर्ती के लिए संघर्ष, नजरबंद रहे अभ्यर्थी, कोतवाली में लेने पड़े नियुक्त आदेश
--Advertisement--

सफाईकर्मी की भर्ती के लिए संघर्ष, नजरबंद रहे अभ्यर्थी, कोतवाली में लेने पड़े नियुक्त आदेश

भास्कर संवाददाता | बांसवाड़ा शहर में सफाई कर्मियों की भर्ती को लेकर विवाद बुधवार को दो पक्षों के संघर्ष में बदलता...

Dainik Bhaskar

Jul 19, 2018, 05:40 AM IST
सफाईकर्मी की भर्ती के लिए संघर्ष, नजरबंद रहे अभ्यर्थी, कोतवाली में लेने पड़े नियुक्त आदेश
भास्कर संवाददाता | बांसवाड़ा

शहर में सफाई कर्मियों की भर्ती को लेकर विवाद बुधवार को दो पक्षों के संघर्ष में बदलता दिखा। इस पूरे मामले में नगर परिषद प्रशासन बैकफुट पर नजर आया। स्थिति यह थी कि सुबह कॉलेज मैदान में सफाई कर्मचारियों की भर्ती के लिए रखा डेमो एससी वर्ग के विरोध के कारण टालना पड़ा। दोपहर बाद कोतवाली थाने में बुलाकर अभ्यर्थियों को नियुक्ति पत्र देने पड़े। विवाद की स्थिति को देखते हुए अभ्यर्थियों को पंचायत समिति परिसर में चैनल गेट लगाकर अंदर ही रोकना पड़ा। कोतवाली में भी यही स्थिति रही। आखिरकार देर शाम तक दोनों वर्गों के 188 अभ्यर्थियों को नियुक्त पत्र देकर मामले के शांत हो जाने की बात कही गई, लेकिन बुधवार को भी फिर से विवाद की स्थिति से इनकार नहीं किया जा सकता। शेष रहे 33 अभ्यर्थियों को गुरुवार को कोतवाली में नियुक्ति पत्र दिए जाएंगे। इससे पहले भर्ती प्रक्रिया में धांधली के विरोध व जांच की मांग को लेकर एससी वर्ग के लोग दिनभर नगर परिषद में डेरा जमाए रहे। उधर, नियुक्ति आदेश नहीं दिए जाने से खफा एसटी कर्मचारी एकजुट होकर कलेक्ट्रेट पहुंचे और सीढ़ियों के बाहर धरना देकर विरोध शुरू कर दिया। दोपहर बाद कोतवाली में एक-एक कर कर्मचारियों को नियुक्ति आदेश दिए गए। माहौल काे काबू में रखने के लिए बाहर से जाब्ता बुलाया गया।


प्रशासन की नाकामी दिखा रहे ये सहमे चेहरे

बांसवाड़ा पंचायत समिति सभागार के अंदर खड़े अभ्यर्थी।

एसटी वर्ग ने एसपी को ज्ञापन सौंपा, कहा-हमें सुरक्षा दो

एसटी वर्ग के कर्मचारियों ने एसपी से कहा कि नगर परिषद में सफाई कर्मचारियों की नियुक्ति विज्ञप्ति के अनुसार की गई है। अनुसूचित जनजाति वर्ग के लोगों का चयन भी नियमानुसार किया गया है। लेकिन समुदाय विशेष के लोगों की ओर से एसटी वर्ग के अभ्यर्थियों को नगर परिषद कार्यालय के भीतर उपस्थिति तक नहीं देने दी जा रही। यहां तक की मारपीट की जा रही है। जिससे जान माल को नुकसान है। समुदाय विशेष द्वारा दस्तावेज भी फाड़े जा रहे हैं। इस प्रकार के बर्ताव से उनके द्वारा शहर में सामाजिक समरसता का माहौल बिगाड़ने की कोशिशें हो रही हैं। कर्मचारियों के प्रतिनिधि के तौर पर पार्षद सीता डामोर, श्यामा राणा, मनोहर खड़िया, विमल कुमार, प्रकाश मीणा भी मौजूद रहे।

सफाई भर्ती प्रक्रिया से दूर रखने पर कुशलगढ़ पालिका अध्यक्ष ने लिखा कलेक्टर को पत्र

इधर, कुशलगढ़ नगर पालिका अध्यक्ष रेखा जोशी ने सफाई कर्मियों की इस भर्ती प्रक्रिया से खुद को अलग रखने पर नाराजगी जताई है। उन्होंने इस संबंध में कलेक्टर को पत्र लिखकर बताया कि मुझे अध्यक्ष होने के बाद भी भर्ती प्रक्रिया से दूर रखा गया है। जबकि चयन समिति में अध्यक्ष शामिल है। वहीं नगर परिषद बांसवाड़ा में सफाई कर्मचारियों की भर्ती की पूरी प्रक्रिया में सभापति शामिल थी। उन्होंने कलेक्टर से इस पूरे मामले की जांच करवाने का आग्रह किया है।

शाम को जाते-जाते फिर विवाद

कोतवाली में नियुक्ति आदेश दिए जाने की सूचना मिलते ही नगर परिषद से वाल्मिकी समाज के लोग तुरंत कलेक्ट्रेट परिसर पहुंचे। जहां बाद में दोनों ही पक्षों के लोगों को समझाइश कर नियुक्ति आदेश दिए गए। प्रक्रिया पूरी होने के बाद जैसे ही लोग घरों की ओर बढ़ रहे थे कि इस बीच आपसी बहस के बाद माहौल फिर गरमा गया। इस दौरान पुलिस को काफी मशक्कत करनी पड़ी। माहौल इसलिए गर्माया कि दोनों पक्षों से कुछ लाेगों द्वारा गलत शब्दों का उपयोग किया गया।

भर्ती की अब तक की स्थिति

कुल सफाईकर्मी 219

नियुक्ति आदेश 188

शेष 31

अपने पक्ष के लिए एक पार्टी के दो पार्षद आमने-सामने

एसटी वर्ग : कर्मचारियों का प्रतिनिधित्व कर रही सीता डामोर ने बताया कि हमारा किसी से कोई विरोध नहीं हैं। लेकिन उनके द्वारा हमारे लोगों को काम से रोका जा रहा हैं। मारपीट तक की नौबत आ रही हैं और अनर्गल शब्दों का उपयोग किया जा रहा है। ऐसे में हमनें विरोध किया तो परेशानी बढ़ जाएगी।

एससी वर्ग : कर्मचारियों की प्रतिनिधि पार्षद देवबाला राठौड़ ने कहा कि हमने किसी को काम से नहीं रोका हैं, प्रशासन से हमेशा यहीं मांग की गई है कि भर्ती प्रक्रिया की जांच हो। लेकिन इन लोगों के दबाव में प्रशासन ने नियुक्ति आदेश दे दिए, क्योंकि प्रधान, जिला प्रमुख, विधायक और मंत्री तक के लोग इनके हैं। हमारा कोई समर्थन करने वाला नहीं है।

X
सफाईकर्मी की भर्ती के लिए संघर्ष, नजरबंद रहे अभ्यर्थी, कोतवाली में लेने पड़े नियुक्त आदेश
Click to listen..