• Home
  • Rajasthan News
  • Mahawa News
  • औंड के सपूत को लोगों ने दी नम आंखों से अंतिम विदाई
--Advertisement--

औंड के सपूत को लोगों ने दी नम आंखों से अंतिम विदाई

महवा ग्रामीण. औंड में सज्जन सिंह की शव यात्रा में उमड़े लोग तथा अंत्येष्टि के दौरान सलामी देते सेना के जवान।।...

Danik Bhaskar | Mar 04, 2018, 03:45 AM IST
महवा ग्रामीण. औंड में सज्जन सिंह की शव यात्रा में उमड़े लोग तथा अंत्येष्टि के दौरान सलामी देते सेना के जवान।।

राजकीय सम्मान से अंत्येष्टि, जनप्रतिनिधि-अिधकारियों सहित अनेक लोग शामिल हुए

भास्कर न्यूज | महवा ग्रामीण

क्षेत्र के औंड मीना गांव के निवासी सेना के जवान सज्जन कुमार शर्मा की शुक्रवार को उनके पैतृक गांव में राजकीय सम्मान के साथ अंत्येष्टि हुई। सेना के जवानों ने सलामी देकर व बड़ी संख्या में ग्रामीणों ने नम आंखों से उन्हें अंतिम विदाई दी।

घर से शुरू हुई करीब 1 किमी लंबी सैनिक की शव यात्रा में अधिकारी, राजनीतिज्ञ, सामाजिक लोगों सहित आसपास के हजारों ग्रामीण शामिल हुए। सज्जन कुमार शर्मा की अंत्येष्टि में पहुंचे सेना के अधिकारी धर्मवीर सिंह यादव ने बताया कि सज्जन कुमार पुत्र दीना शर्मा उत्तरप्रदेश के कलवेहट में तैनात थे, गुरुवार रात सेना कार्यालय के कार्य के दौरान दुर्घटना में उनकी मौत हो गई। अंतिम संस्कार में पहुंचे सेना के अधिकारियों, संसदीय सचिव ओमप्रकाश हुड़ला, तहसीलदार बृजेश मंगल, पुलिस उपाधीक्षक राजेन्द्र सिंह, थाना प्रभारी रामकिशोर चौधरी, सरपंच ब्रजेश मीना, सचिव रविकांत शर्मा, अंतरराष्ट्रीय ब्राह्मण महा संस्था के तहसील अध्यक्ष रामसहाय शर्मा, महामंत्री घासीलाल, रामौतार शर्मा सहित अनेक जनप्रतिनिधि व अधिकारियों ने उनकी पार्थिव देह पर पुष्पचक्र अर्पित कर श्रद्धांजलि दी।

होली पर नहीं जले चूल्हे

औंड के सैनिक की मौत की खबर गांव एवं आसपास के गांवों में आग की तरह फैल गईं। इसे देखते हुए ग्रामीणों के घरो में चूल्हे भी नहीं जले और न हीं लोगों ने होली का पारंपरिक त्योहार मनाया। होली धुलेंडी के दिन पूरा गांव शोक में डूबा रहा। आसपास के गांवों में लोगों ने भी होली नहीं खेली।

बेसुध हुए परिजन, ग्रामीणों ने संभाला

होली से 1 दिन पूर्व देर रात सेना के जवान सज्जन सिंह की मौत की खबर सुनते ही घरवालों पर दुखों का पहाड़ टूट पड़ा। ऐसे में सज्जन सिंह की प|ी बच्चों सहित अन्य परिजनों का रो-रो कर बुरा हाल था। दुख की घड़ी में सरपंच ब्रजेश मीणा सहित ग्रामीणों ने उन्हें ढांढस बंधाया।