--Advertisement--

डरे-सहमे रहे व्यापारी, सुरक्षा नहीं मिलने से बंद रहे बाजार

मंडी में उपद्रवियों ने सब्जियों को फेंका तो विरोध करती सब्जी बेचने वाली महिलाएं। मंडी में सब्जी की ठेलियां...

Dainik Bhaskar

Apr 03, 2018, 05:40 AM IST
डरे-सहमे रहे व्यापारी, सुरक्षा नहीं मिलने से बंद रहे बाजार
मंडी में उपद्रवियों ने सब्जियों को फेंका तो विरोध करती सब्जी बेचने वाली महिलाएं।

मंडी में सब्जी की ठेलियां पलटी, तरबूज व बर्फ की सिल्लियां फेंकी, रेस्टोरेंट व वाहनों में तोड़फोड़

अलवर | सोमवार को भारत बंद के दौरान शहर के बाजार पूरी तरह बंद रहे। पुलिस की सुरक्षा व्यवस्था मजबूत नहीं होने से दलित संगठनों के कार्यकर्ताओं ने मनमाने तरीके से दुकानें बंद करवाई। हाथों में डंडे लेकर घूम रहे प्रदर्शनकारियों का व्यापारियों में खौफ रहा। इस कारण व्यापारियों ने प्रतिष्ठान बंद रखे। अग्रसेन चौराहे पर स्थित सब्जी मंडी में प्रदर्शनकारियों ने जमकर हंगामा किया। तरबूज, ककड़ी व अन्य सब्जियों को फेंक दिया। केले व अंगूर लूट लिए गए। बर्फ की सिल्लियां तोड़ दी। दो ट्रकों के शीशे तोड़ दिए। एक कार क्षतिग्रस्त कर दी। सब्जी मंडी में दो रेस्टोरेंट के काउंटर के शीशे तोड़ दिए गए। होपसर्कस पर व्यापारियों ने दुकानें खोली तो वहां प्रदर्शनकारियों ने अपना खौफ दिखाया। कचौरी की एक ठेली वाले का सामान फैला दिया। शहर में सुबह 10 बजे बाद हालात यह थे कि जिस रास्ते से निकलो, वहां प्रदर्शनकारियों की टोलियां आती दिखाई दी। नीला झंडा, जय भीम के नारे और सरकार की खिलाफत के नारे गूंजते रहे। प्रदर्शनकारियों ने शहर में विभिन्न स्थानों पर जाम लगाकर रास्ते रोके। इस दौरान पुलिस बेबस नजर आई। बंद के कारण लोग परेशान होते रहे। जोरदार बात तो यह रही कि अंबेडकर सर्किल पर मौजूद दलित नेता लगातार शांति व्यवस्था के साथ बंद कराने पर जोर देते रहे, लेकिन उनकी बात किसी आंदोलनकारी ने नहीं मानी। प्रदर्शनकारियों के साथ टोलियों में महिलाएं भी थी। शहर के मुख्य बाजार होपसर्कस, वीर चौक, केडलगंज, पंसारी बाजार, मालाखेड़ा बाजार, मुंशी बाजार, बजाजा बाजार, तिलक मार्केट, काशीराम चौराहा, घंटाघर, मन्नी का बड़, रोड नं. दो सहित, भगतसिंह सर्किल, नंगली सर्किल, अशोका टॉकीज आदि क्षेत्रों में दुकानें बंद रही। प्रदर्शनकारियों ने कॉलोनियों व मोहल्लों में खुली दुकानों को भी बंद कराया।

व्यापारियों ने शाम को सभा की, आज देंगे ज्ञापन

शाम को व्यापारियों ने होपसर्कस पर सभा की। इसमें संयुक्त व्यापारी संघ व जिला व्यापारी संघ के पदाधिकारी शामिल हुए। इसमें वक्ताओं ने कहा कि सुप्रीम कोर्ट के आदेशों के सम्मान में वे प्रतिष्ठान खुले रखना चाहते थे। जिला प्रशासन की असंवेदनशीलता के कारण ऐसा नहीं हो सका। इस बारे में प्रशासन व पुलिस को पहले ही ज्ञापन दे दिया गया था। संयुक्त व्यापारी महासंघ की संयोजन समिति के सदस्य दीनदयाल शर्मा ने बताया कि व्यापारियों की सभा में निर्णय लिया कि मंगलवार सुबह 11 बजे व्यापारी होपसर्कस पर एकत्र होंगे। यहां से सामूहिक रूप से जिला कलेक्टर व एसपी को ज्ञापन देने कलेक्ट्रेट जाएंगे। सभा में सुरेश गुप्ता, रमेश जुनेजा, प्रमोद विजय, महेश सेठी, नरेंद्र जसोरिया, पदमचंद गोयल, देवेंद्र छाबड़ा आदि ने विचार रखे।

X
डरे-सहमे रहे व्यापारी, सुरक्षा नहीं मिलने से बंद रहे बाजार
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..