Hindi News »Rajasthan »Malpura» बाल विवाह ऐसा विकार जो समाज की नींव को करता है कमजोर

बाल विवाह ऐसा विकार जो समाज की नींव को करता है कमजोर

टोंक. बाल विवाह रोकथाम अभियान जागरूकता कार्यक्रम में उपस्थित लोग। कार्यालय संवाददाता | टोंक लेकर नगर परिषद...

Bhaskar News Network | Last Modified - Apr 02, 2018, 05:30 AM IST

बाल विवाह ऐसा विकार जो समाज की नींव को करता है कमजोर
टोंक. बाल विवाह रोकथाम अभियान जागरूकता कार्यक्रम में उपस्थित लोग।

कार्यालय संवाददाता | टोंक

लेकर नगर परिषद सभागार में रविवार को बाल विवाह प्रतिषेध अभियान कार्यक्रम का शुभारंभ हुआ। इस मौके पर जागरुकता रैली को हरी झंडी दिखाकर रवाना किया गया। सभागार में आयोजित समारोह में जिला एवं सेशन न्यायाधीश शुभा मेहता ने कहा कि विवाह वह आधार शिला है, जिस पर परिवार का निर्माण होता है। परिवार पर समाज व राष्ट्र की नींव खड़ी होती है। बाल विवाह एक ऐसा विकार है, जो समाज की नींव को ही कमजोर कर देता है। टोंक उन 8 जिलों में शामिल है, जहां अबूझ सावों आखातीज, पीपल पूर्णिमा, फुलेरा दोज पर सबसे ज्यादा विवाह होते है। इसी को देखते हुए जिले में 1 अप्रैल से 30 जून तक बाल विवाह की रोकथाम के लिए जिला विधिक सेवा प्राधिकरण के द्वारा सघन अभियान चलाया जाएगा।

इसमें जिला प्रशासन एवं पुलिस प्रशासन का भी सहयोग लिया जाएगा। एडीएम लोकेश कुमार गौत्तम ने कहा कि इस अभियान के माध्यम से पिछले कुछ वर्षों में बाल विवाह में कमी आई है। अभी हमें और कार्य करने की आवश्यकता है। ग्राम स्तर पर नियुक्त कार्मिक सजग रहकर अपने क्षेत्र में बाल विवाह होने की सूचना तत्काल जिला प्रशासन व पुलिस को दें। एएसपी अवनीश कुमार शर्मा ने कहा कि बाल विवाह की सूचना की महत्ता को बताते हुए कहा कि समय रहते सूचना मिलने पर पुलिस को प्रभावी कार्यवाही करने में आसानी होती है। जिला अभिभाषक संघ के अध्यक्ष देवकरण गुर्जर, विशिष्ट न्यायाधीश हिमांकिनी गौड़, पूर्णकालिक सचिव एवं मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट पंकज बंसल आदि ने भी बाल विवाह रोकथाम पर विचार व्यक्त किए।

जागरुकता शिविर व कार्यक्रमों का होगा आयोजन : अभियान के दौरान प्राधिकरण द्वारा न्यायिक अधिकारी, पैनल अधिवक्तागण एवं पेरालीगल वॉलेंटियर के माध्यम से स्कूलों, महाविद्यालयों, गांव व ढाणियों में जागरूकता शिविर लगेंगे। मोबाइल वैन के माध्यम से जन जागरूकता कार्यक्रम किए जाएंगे। बाल विवाह की जानकारी के लिए जिला विधिक सेवा प्राधिकरण के हैल्पलाइन नंबर 01432-243851 पर सूचना दी जा सकती है।

बाल विवाह की रोकथाम के लिए तालुका सेवा समिति ने उठाया बीड़ा

मालपुरा| आखातीज सहित इन दिनों आने वाले विभिन्न अबूझ सावों पर बाल विवाह जैसे आपराधिक मामलों की रोकथाम के लिए राष्ट्रीय विधिक सेवा प्राधिकरण नई दिल्ली के निर्देशानुसार अभियान की शुरूआत करते हुए मालपुरा तालुका विधिक सेवा समिति प्रमुख एडीजे विनोद कुमार गिरी के नेतृत्व में रविवार को जनजाग्रति कार्यक्रम का शुभारंभ किया गया। रविवार को नगर पालिका परिसर में आयोजित विशाल जनसभा को संबोधित करते हुए उन्होंने कहा है कि क्षेत्र में बाल विवाह जैसी कुरीती की क्रियांविति नहीं होने दी जाएगी इसके लिए पहले जनजारगण शुरू किया गया इसके बावजूद चोरी छिपे बाल विवाह करने का प्रयास किया गया तो इससे संबंध रखने वाले सभी लोगों को दोषी मानते हुए दंिडत किया जाएगा। एडीएज विनोद कुमार गिरी ने कहा कि बाल विवाह की रोकथाम के लिए किसी भी गांव ढाणी का कोई भी व्यक्ति एेसी घटना की सूचना, ग्राम सेवक, पटवारी, शिक्षक, आंगनबाडी, पुलिस, एसडीएम, तसहीलदार या मजिस्ट्रेट को दे सकते है उन्होंने भरोसा दिलाया कि सूचना देने वालों के नाम पूर्णत गुप्त रखे जाएंगे। उन्होंने बाल विवाह की रोकथाम के अभियान को आंदोलन के रूप में चलाने की आवश्यकता जताई। इस अवसर पर न्यायािक मजस्ट्रेट सीमा चौहान, तहसीलदार सुभाष गोयल, एडवोकेट शशि जैन व मुकेश त्रिपाठी ने बाल विवाह की रोकथाम की आवश्यकता पर चर्चा की।

बाल विवाह रोको अभियान के लिए हुई बैठक

उनियारा| तालुका विधिक सेवा समिति उनियारा की बैठक रविवार को आयोजित हुई इसमें बाल विवाह रोको अभियान पर विशेष चर्चा की गई। सेवा समिति के न्यायिक अधिकारी सीमा करोल ने कहा कि 30 जून तक बाल विवाह अभियान क्षेत्र मेंं चलाया जाएगा। इसके लिए ग्राम पंचायत वार सार्वजनिक स्थानों पर, विद्यालयों, ढाणियों में विधिक साक्षरता शिविर आयोजित करें। आमजन को बाल विवाह रोक ने के लिए जागरूकता फैलाई जाएगी,साथ ही बाल विवाह के होने वाले सामाजिक शारीरिक, आर्थिक दुष्परिणामों के बारे में जनसाधारण में जागरूकता में जागरूकता फैलाई जाएगी एवं रैली निकाली जाएगी। बाल विवाह को रोकने के लिए टॉल फ्री नंबर, पुलिस हेल्प लाईन 100, महिला हेल्पलाइन 1090, चाइल्ड हेल्पलाइन 1098 आदि पर सचित किया जा सकता है तथा हेल्पलाइन पर दी जाने वाली सूचना में गोपनीयता रखी जाएगी।

सामूहिक विवाह सम्मेलन सामाजिक एकता की मिसाल : मुरारी गोरसिया

मालपुरा. खांडल विप्र समाज सामूहिक विवाह सम्मेलन समिति की मीटिंग में राष्ट्रीय अध्यक्ष मुरारी लाल गोरसिया ने एक लाख रुपए का चेक प्रदान किया।

मालपुरा| सामूहिक विवाह सम्मेलन के आयोजन समाज में आपसी भाईचारे व सामाजिक एकता की मिसाल पेश करते है।संगठित समाज ही विकास के मार्ग पर अग्रसर होता है तथा सामाजिक संगठन से ही समाज की पहचान होती है। यह विचार खांडल समाज के राष्ट्रीय अध्यक्ष मुरारीलाल गोससिया ने रविवार को जयपुर रोड स्थित मदनमोहन खांडल सेवा सदन में आयोजित खांडल विप्र समाज चौरासी की सामूहिक विवाह सम्मेलन की मीटिंग व्यक्त किए।उन्होंने समाज में शिक्षा के विकास के साथ साथ सभी को एक साथ समानता से आगे बढाने के लिए सामूहिक विवाह सम्मेलनों के आयोजनों की आवश्यकता बताई। उन्होंने कहा कि सामूहिक विवाह सम्मेलन से अनावश्यक खर्चे पर रोक लगती है तथा दहेज प्रथा समाप्त करने का सबसे बढ़िया कार्यक्रम है। मीटिंग में महासभा सहित प्रदेश कार्यकारिणी पदाधिकारियों व जिले व आसपास के सैकडों समाज बंधुओं ने भाग लिया। सर्वप्रथम अतिथियों ने भगवान परशुराम के चित्र के समक्ष दीप प्रज्जवलित कर मीटिंग का शुभारंभ किया। इस अवसर पर कार्यकारी राष्ट्रीय अध्यक्ष रामेश्वर सोती ने समाज में नई पीढ़ी हेतु शिक्षा के साथ संस्कार की भी आवश्यकता पर जोर दिया। प्रदेशाध्यक्ष प्रभुदयाल पीपलवा ने सामूहिक विवाह सम्मेलन आयोजित करने के लिए समिति का आभार जताते हुए बताया कि प्रदेश पदाधिकारी समिति के सहयोग के लिए सदैव तत्पर है। कार्यकारी प्रदेशअध्यक्ष मदनलाल गोवला ने सामूहिक विवाह सम्मेलन से संबंधित कार्य व समितियों के गठन पर जोर देते हुए कहा कि युवा वर्ग को साथ लेकर वरिष्ठ बंधुओं के निर्देशन में सम्मेलन की सफलता के प्रयास करने पर जोर दिया। प्रदेश महामंत्री रामप्रसाद मंगलिहारा ने इस अवसर पर आयोजन समिति द्वारा सामूहिक विवाह सम्मेलन में प्रदेश द्वारा दिये जाने वाले सहयोग के बारे में अवगत कराया।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Malpura

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×