• Hindi News
  • Rajasthan
  • Malpura
  • 55 साल से स्कूल क्रमोन्नत नहीं, 5वीं से आगे नहीं पढ़ पाते बच्चे
--Advertisement--

55 साल से स्कूल क्रमोन्नत नहीं, 5वीं से आगे नहीं पढ़ पाते बच्चे

शिक्षा विकास के प्रचार प्रसार के नाम पर आकर्षक स्लागनों व नेताओं के फोटो छपे बडे बडे होर्डिंग टंगवाने पर भले ही...

Dainik Bhaskar

Feb 01, 2018, 02:00 PM IST
55 साल से स्कूल क्रमोन्नत नहीं, 5वीं से आगे नहीं पढ़ पाते बच्चे
शिक्षा विकास के प्रचार प्रसार के नाम पर आकर्षक स्लागनों व नेताओं के फोटो छपे बडे बडे होर्डिंग टंगवाने पर भले ही पानी की तरह सरकारी धन बहाया जा रहा हो,ग्रामीण क्षेत्र में शिक्षा की ग्राउंड रिपोर्ट आज भी जस की तस है। गरीब गांवों के छात्र छात्राएं पढना चाहते हुए भी व्यवस्थाओं के अभाव में उच्च शिक्षा से वंचित हंै। स्थिति यह है कि गांव में 55 साल पुराने चले आ रहे प्राथमिक स्कूल में पांचवी क्लास तक पढ कर पढाई छोड रहें हैं। हालत यह है कि दूर दराज गांवों में बालिका शिक्षा का ग्राफ लगातार नीचे जा रहा है। मजे की बात तो यह है कि अभिभावक अपने नौनिहालांे को आगे पढ़ाना चाहते है लेकिन सरकारी तंत्र सुनता ही नहीं है। मालपुरा उपखंड के ग्राम राजपुराबास पचेवर में उच्च शिक्षा से वंचित छात्र छात्रओं के आंकडे सरकार के शिक्षा विकास के आंकडों की पोल खोल रहे हैं। कमोबेश यही हालत दूर दराज स्थित अन्य गांवों की भी है।

ग्रामीणों का दर्द

ग्रामीण ज्ञापन देते रहे अधिकारी लेते रहे

तीन बीघा जमीन आबंिटत

वर्तमान में संचालित प्राथमिक स्कूल के लिए राजस्व विभाग से तीन बीघा से अधिक भूमि आबंिटत है जो उच्च शिक्षा प्रयोजनार्थ पर्याप्त होने के बावजूद विभाग अनदेखी कर रहा है ।गांव के श्योराज चौधरी एडवोकेट, छगन लाल, धन्ना, दीनदयाल, हरदयाल चौधरी, रामदयाल , हनुमान,सावर मल ,रामेशश्वर सकराम, भागचंद, शंकर लाल सहित अनेक लोगों ने मुख्यमंत्री के नाम दिए ज्ञापन में हस्ताक्षर कर अवगत कराया है कि गरीब ग्रामीण बालकों को समय रहते उच्च शिक्षा के लिए स्कूल क्रमोन्नत नहीं की गई तो गांव में आगामी पीढी में कम पढे़ लिखों की संख्या बढ जाएगी। (देखें पेज 15)

जांच के निर्देश


जांच के निर्देश


X
55 साल से स्कूल क्रमोन्नत नहीं, 5वीं से आगे नहीं पढ़ पाते बच्चे
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..