• Home
  • Rajasthan News
  • Malpura News
  • तालाब से मत्स्य आखेट करने आए शिकारियों को ग्रामीणों ने दौड़ाया
--Advertisement--

तालाब से मत्स्य आखेट करने आए शिकारियों को ग्रामीणों ने दौड़ाया

पचेवर. शिकारियों के तालाब में फैलाए गए जाल को पुलिस के सुपुर्द करते ग्रामीण। भास्कर न्यूज | पचेवर क्षैत्र के...

Danik Bhaskar | May 18, 2018, 05:40 AM IST
पचेवर. शिकारियों के तालाब में फैलाए गए जाल को पुलिस के सुपुर्द करते ग्रामीण।

भास्कर न्यूज | पचेवर

क्षैत्र के मलिकपुर पंचायत के केरिया गांव में बुधवार की रात सार्वजनिक तालाब से अवैध रूप से मत्स्य आखेट के लिए आए अज्ञात शिकारियों को ग्रामीणों ने जाग हो जाने के कारण पिछा किया।

अंधेरे का लाभ उठाकर शिकारी तो फरार होने में कामयाब हो गए। इस बीच वे मछली पकड़ने के जाल मौके पर ही छोड़ गए जिन्हें ग्रामीणों ने अपने कब्जे में ले लिया। गांव के गणेशलाल चौधरी, हंसराज, श्रीराम, सकराम, रामेश्वर प्रसाद, गोपाललाल, रामलाल आदि ने बताया कि गांव के तालाब को पवित्र सरोवर के रूप में मानते हुए लंबे समय इस पर मत्सय आखेट पर प्रतिबंध लगा हुआ है। ग्रामीणों ने बताया कि पशुओं के पेयजल का एक मात्र स्रोत गांव का तालाब ही है। गर्मी के मौसम में पानी की कमी होने पर ग्रामीणों द्वारा टेंकरों से पानी लाकर तालाब में ड़ाला जाता है। जिससे मवेशी पानी पीते हंैं तथा तालाब की मछलियां भी सुरक्षित रहती हैं। बुधवार देर रात लगभग एक बजे कुछ लोग मछलियों को पकड़ने के लिए ट्रक की सहायता से जाल लेकर आए थे। शिकारियों द्वारा जाल फैलाने की जानकारी मिलने पर सभी तालाब की ओर चल पड़े। टार्च व लकड़ियां लेकर तालाब की ओर बड़ी संख्या में ग्रामीणों को आता देख शिकरी जाल छोड़कर ट्रक की ओर भागे तथा उसमें बैठकर फरार हो गए। ग्रामीणों ने अपने वाहनों से शिकारियों का पीछा भी किया। मगर शिकारी अंधेरे का लाभ उठाकर फरार होने में कामयाब हो गए। ग्रामीणों ने इस संबंध में मालपुरा थाना जाकर पुलिस में रिपोर्ट दी।

करीब 7 वर्ष पूर्व कुछ लोग रात के समय मोटर-साइकिलों पर मत्स्य आखेट के लिए तालाब पर आए थे। मगर ग्रामीण जाग गए जिसके कारण वे मछलियों का शिकार नहीं कर सके तथा अपनी बाइकों को छोड़कर फरार हो गए। ग्रामीणों बाइकों को अपने कब्जे में लेकर पुलिस में रिपोर्ट दर्ज करवाई थी।