• Hindi News
  • Rajasthan
  • Mandal
  • आज प्रदेश की निगाह मांडलगढ़ पर; भाजपा जीती तो तीसरी जीत, कांग्रेस की 11वीं
--Advertisement--

आज प्रदेश की निगाह मांडलगढ़ पर; भाजपा जीती तो तीसरी जीत, कांग्रेस की 11वीं

मांडलगढ़ उप चुनाव के लिए मतगणना सुबह आठ बजे तिलकनगर स्थित पॉलिटेक्निक कॉलेज में शुरू होगी। विधानसभा चुनाव से...

Dainik Bhaskar

Feb 01, 2018, 02:05 PM IST
आज प्रदेश की निगाह मांडलगढ़ पर; भाजपा जीती तो तीसरी जीत, कांग्रेस की 11वीं
मांडलगढ़ उप चुनाव के लिए मतगणना सुबह आठ बजे तिलकनगर स्थित पॉलिटेक्निक कॉलेज में शुरू होगी। विधानसभा चुनाव से करीब 10 महीने पहले हुए इस उपचुनाव के परिणाम पर पूरे प्रदेश की निगाह है।

दोनों राजनीतिक पार्टियां और जनता इसे विधानसभा चुनाव से जोड़ते हुए सेमीफाइनल मान रही है। इस चुनाव के परिणाम तय करेंगे कि जनता को राज्य सरकार के चार साल का कार्यकाल पसंद आया या स्वीकार नहीं किया। मतगणना एक ही कमरे में 21 राउंड में होगी और इसके लिए 15 टेबल लगाई गई हैं। सुबह नौ बजे तक मतगणना में प्रत्याशियों के बारे में रुझान आना शुरू हो जाएंगे और करीब 11 बजे स्थिति स्पष्ट हो जाएगी।


वर्ष 1990 में हुए चुनाव में कांग्रेस प्रत्याशी शिवचरण माथुर केवल 246 वोटों के अंतर से (0.30 प्रतिशत) जीते थे। कांग्रेस प्रत्याशी माथुर को 31 हजार 640 वोट (39.20 प्रतिशत) मिले थे जबकि भाजपा प्रत्याशी रामस्वरूप गुप्ता को 31 हजार 394 वोट (38.89 प्रतिशत)ही मिले थे। वर्ष 2013 में हुए चुनाव में भाजपा की कीर्ति कुमारी ने कांग्रेस प्रत्याशी विवेक धाकड़ को 18,540 वोटों से हराया था। यह अब तक की सबसे बड़ी जीत है।

जीत-हार के किसके लिए क्या मायने और किसकी प्रतिष्ठा दांव पर


इनकी प्रतिष्ठा दांव पर: चुनाव प्रभारी यूडीएच मंत्री श्रीचंद कृपलानी ही पूरी कमान संभाले हुए थे। जिले की सात में से छह विधानसभा में भाजपा के एमएलए के अलावा व सांसद हैं। जिला संगठन भी अग्रणी भूमिका में था।



इनकी प्रतिष्ठा दांव पर: कांग्रेस के दिग्गज नेता एवं पूर्व केंद्रीय मंत्री डॉ. सीपी की प्रतिष्ठा दांव पर है क्योंकि धाकड़ को टिकट जोशी के कारण ही मिला। कांग्रेस के प्रदेशाध्यक्ष सचिन पायलट का रिपोर्ट कार्ड भी इससे तैयार होगा।



इनकी प्रतिष्ठा दांव पर: निर्दलीय प्रत्याशी कांग्रेस के बागी पूर्व प्रधान गोपाल मालवीय हैं। मालवीय के अलावा प्रत्यक्ष-अप्रत्यक्ष रूप से उनका सहयोग करने वाले नेताओं की प्रतिष्ठा भी दांव पर है।

X
आज प्रदेश की निगाह मांडलगढ़ पर; भाजपा जीती तो तीसरी जीत, कांग्रेस की 11वीं
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..