Hindi News »Rajasthan »Mandal» आज प्रदेश की निगाह मांडलगढ़ पर; भाजपा जीती तो तीसरी जीत, कांग्रेस की 11वीं

आज प्रदेश की निगाह मांडलगढ़ पर; भाजपा जीती तो तीसरी जीत, कांग्रेस की 11वीं

मांडलगढ़ उप चुनाव के लिए मतगणना सुबह आठ बजे तिलकनगर स्थित पॉलिटेक्निक कॉलेज में शुरू होगी। विधानसभा चुनाव से...

Bhaskar News Network | Last Modified - Feb 01, 2018, 02:05 PM IST

मांडलगढ़ उप चुनाव के लिए मतगणना सुबह आठ बजे तिलकनगर स्थित पॉलिटेक्निक कॉलेज में शुरू होगी। विधानसभा चुनाव से करीब 10 महीने पहले हुए इस उपचुनाव के परिणाम पर पूरे प्रदेश की निगाह है।

दोनों राजनीतिक पार्टियां और जनता इसे विधानसभा चुनाव से जोड़ते हुए सेमीफाइनल मान रही है। इस चुनाव के परिणाम तय करेंगे कि जनता को राज्य सरकार के चार साल का कार्यकाल पसंद आया या स्वीकार नहीं किया। मतगणना एक ही कमरे में 21 राउंड में होगी और इसके लिए 15 टेबल लगाई गई हैं। सुबह नौ बजे तक मतगणना में प्रत्याशियों के बारे में रुझान आना शुरू हो जाएंगे और करीब 11 बजे स्थिति स्पष्ट हो जाएगी।

सबसे छोटी जीत 246 वोट से कांग्रेस की, सबसे बड़ी 18,540 वोट से भाजपा की

वर्ष 1990 में हुए चुनाव में कांग्रेस प्रत्याशी शिवचरण माथुर केवल 246 वोटों के अंतर से (0.30 प्रतिशत) जीते थे। कांग्रेस प्रत्याशी माथुर को 31 हजार 640 वोट (39.20 प्रतिशत) मिले थे जबकि भाजपा प्रत्याशी रामस्वरूप गुप्ता को 31 हजार 394 वोट (38.89 प्रतिशत)ही मिले थे। वर्ष 2013 में हुए चुनाव में भाजपा की कीर्ति कुमारी ने कांग्रेस प्रत्याशी विवेक धाकड़ को 18,540 वोटों से हराया था। यह अब तक की सबसे बड़ी जीत है।

जीत-हार के किसके लिए क्या मायने और किसकी प्रतिष्ठा दांव पर

भाजपा:वर्ष 1952 से अब तक हुए 14 चुनाव व एक उप चुनाव में से भाजपा अब तक केवल दो बार चुनाव जीती। पहला खाता भाजपा का वर्ष 1993 में बद्रीप्रसाद गुरुजी ने खोला। दूसरी बार वर्ष 2013 का चुनाव कीर्ति कुमारी ने जीता। भाजपा यह उप चुनाव जीतती है तो उसका यहां तीसरी बार कब्जा होगा। भाजपा यह सीट जीतकर बताना चाहती है कि जनता ने सरकार के चार साल का कार्यकाल पसंद किया है।

इनकी प्रतिष्ठा दांव पर: चुनाव प्रभारी यूडीएच मंत्री श्रीचंद कृपलानी ही पूरी कमान संभाले हुए थे। जिले की सात में से छह विधानसभा में भाजपा के एमएलए के अलावा व सांसद हैं। जिला संगठन भी अग्रणी भूमिका में था।

रुझान और परिणाम की जानकारी वेबसाइट पर... मतगणना के रुझान और परिणामों की जानकारी निर्वाचन विभाग की बेबसाइट www.ceorajasthan.nic.in पर भी उपलब्ध रहेगी। वेबसाइट पर लोकसभा व विधानसभावार जानकारी के साथ-साथ उम्मीदवारों को मिले मत की जानकारी भी रहेगी। सेवानियोजित वोटर्स के लिए पहली बार इलेक्ट्रॉनिक पोस्टल बैलेट पेपर सिस्टम (ईपीबीपीएस) का इस्तेमाल किया है। डाक से प्राप्त ई-बैलेट का सत्यापन क्यूआर कोड से करने के बाद उन्हें भी मतगणना में शामिल किया जाएगा।

कांग्रेस:14 चुनाव व एक उप चुनाव में से 10 बार कांग्रेस जीती है। वर्ष 1991 में हुआ पहला उप चुनाव कांग्रेस ने जीता। इसलिए इस सीट को कांग्रेस का गढ़ माना जाता है। यहां से कांग्रेस के कद्दावर नेता शिवचरण माथुर सीएम भी रहे थे। कांग्रेस प्रत्याशी विवेक धाकड़ पिछले चुनाव में 18,540 वोटों से हारे थे। कांग्रेस यहां से जीतकर बताना चाहती है कि भाजपा सरकार ने चार साल में कुछ भी नहीं किया।

इनकी प्रतिष्ठा दांव पर: कांग्रेस के दिग्गज नेता एवं पूर्व केंद्रीय मंत्री डॉ. सीपी की प्रतिष्ठा दांव पर है क्योंकि धाकड़ को टिकट जोशी के कारण ही मिला। कांग्रेस के प्रदेशाध्यक्ष सचिन पायलट का रिपोर्ट कार्ड भी इससे तैयार होगा।

पहली बार मेंडेटरी वेरिफिकेशन पद्धति ...जिला निर्वाचन अधिकारी मुक्तानंद अग्रवाल ने बताया कि कमरा नंबर 39 में रिटर्निंग अधिकारी की टेबल सहित 15 टेबलों पर मतगणना होगी। कमरा नंबर 38 में एआरओ टेबल सहित 2 टेबलों पर डाकमत पत्रों की गणना की जाएगी। जिले में पहली बार मतगणना में मेंडेटरी वेरिफिकेशन पद्धति अपनाई जाएगी। इसमें संपूर्ण मतगणना के बाद निर्वाचन क्षेत्र के किसी एक बूथ का रेंडमली चयन कर वहां के वीवी पेट की पर्चियों की गणना की जाएगी। उसका मिलान ईवीएम से प्राप्त मतों से किया जाएगा।

निर्दलीय:मांडलगढ़विधानसभा में निर्दलीय प्रत्याशी भी असरकारक रहे हैं। एक बार निर्दलीय प्रत्याशी मनोहर सिंह ने 1967 के चुनाव में कांग्रेस के गणपत लाल को 7977 मतों से हराया। तीन बार निर्दलीय वर्ष 1962, वर्ष 1972 व वर्ष 1980 में निर्दलीय दूसरे नंबर पर रहे। अब यह देखना रोचक होगा कि निर्दलीय प्रत्याशी का जीत का दूसरी बार खाता खुलता है या नहीं?

इनकी प्रतिष्ठा दांव पर: निर्दलीय प्रत्याशी कांग्रेस के बागी पूर्व प्रधान गोपाल मालवीय हैं। मालवीय के अलावा प्रत्यक्ष-अप्रत्यक्ष रूप से उनका सहयोग करने वाले नेताओं की प्रतिष्ठा भी दांव पर है।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Mandal

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×