Hindi News »Rajasthan »Mandal» न्याय आपके द्वार शिविर में नरेगा काम को लेकर एसडीएम व बीडीओ भिड़े, शिविर रुका, ग्रामीण हाथ जोड़कर बोले-हमें काम नहीं चाहिए, आप लड़ना बंद कीजिए

न्याय आपके द्वार शिविर में नरेगा काम को लेकर एसडीएम व बीडीओ भिड़े, शिविर रुका, ग्रामीण हाथ जोड़कर बोले-हमें काम नहीं चाहिए, आप लड़ना बंद कीजिए

भास्कर संवाददाता | भीलवाड़ा/मांडल मांडल पंचायत समिति की पिथास ग्राम पंचायत में बुधवार को न्याय आपके द्वार...

Bhaskar News Network | Last Modified - May 10, 2018, 05:30 AM IST

  • न्याय आपके द्वार शिविर में नरेगा काम को लेकर एसडीएम व बीडीओ भिड़े, शिविर रुका, ग्रामीण हाथ जोड़कर बोले-हमें काम नहीं चाहिए, आप लड़ना बंद कीजिए
    +2और स्लाइड देखें
    भास्कर संवाददाता | भीलवाड़ा/मांडल

    मांडल पंचायत समिति की पिथास ग्राम पंचायत में बुधवार को न्याय आपके द्वार शिविर में मांडल एसडीएम छोटूलाल शर्मा और बीडीओ गिरिराज मीणा आपस में भिड़ गए। दोनों के बीच बोलचाल इतनी बढ़ गई कि तू-तू, मैं-मैं हो गई। शिविर में आए ग्रामीण भी समस्याएं भूलकर अधिकारियों की लड़ाई देखने लग गए।

    लड़ाई को रोकने के लिए कोई उच्च अधिकारी नहीं थे इसलिए ग्रामीणों ने ही मामला शांत करवाया। ग्रामीणों ने उनसे हाथ जोड़कर कहा कि हमें तो नरेगा काम ही नहीं चाहिए। आप लड़ना बंद कीजिए। दोनों के बीच विवाद बीडीओ के शिविर के दौरान मोबाइल पर बात करने और नरेगा के काम को लेकर हुआ। मीणा के मोबाइल पर कॉल आने पर वेे मंच से उठकर पीछे चले गए। इसी दौरान ग्रामीणों ने कई समय से नरेगा योजना बंद होने का मामला उठाया। एसडीएम ने बीडीओ से जानकारी लेनी चाही तो पता चला कि वे मंच के पीछे मोबाइल पर बात कर रहे हैं। एसडीएम ने माइक से दो-तीन बार आवाज लगाई, लेकिन बीडीओ बात करने में लगे रहे। बाद में वे जब वापस आए तो एसडीएम उन पर उखड़ गए और दोनों में लड़ाई शुरू हो गई।

    बीडीओ को काम करने में जोर आता है, शिविर में बैठकर आमजन के काम करने के बजाय पीछे घूमता रहता है: एसडीएम

    देखिए...शिविर में माइक पर कैसे उलझे अफसर

    एसडीएम: काम करने में जोर आता है जो शिविर के समय बाहर घूम रहे हो।

    बीडीओ: ऐसी कोई बात नहीं। यहीं था। कुछ सैकंड के लिए ही बाहर गया था।

    एसडीएम: क्या जनता के काम नहीं करेंगे। नरेगा बंद क्यों है जवाब दीजिए।

    बीडीओ: क्या काम बताइए। ऐसा क्या काम पेंडिंग रह गया। कोई काम पेंडिंग नहीं है।

    एसडीएम: देखो तो यह आदमी नरेगा काम काम नहीं करता और पीछे घूम रहा है।

    बीडीओ: कोई काम पेंडिंग है तो कर लूंगा। एक साल से काम बंद नहीं है, यह झूठ है।

    एसडीएम: आपको ऐसा बीडीओ चाहिए क्या बताओ मुझे (जनता से पूछा)।

    बीडीओ: आप अपना काम कीजिए। मुझे मेरा काम पता है। ज्ञान मत दीजिए।

    एसडीएम गालियां देते हैं। उनसे मांडल के सभी कर्मचारी-अधिकारी परेशान हैं। शिविर में उन्होंने मुझे काफी बुरा कहा जबकि मेरी गलती नहीं है। मैं पंचायत का रिकॉर्ड लेने गया था। एसडीएम ने मुझे पकड़कर लाने की बात कही। मैंने यह जानकारी एडीएम और जिला परिषद सीईओ को दे दी है। गिरिराज मीणा, बीडीओ, मांडल

    आप अपना काम कीजिए, ज्ञान मत दीजिए मुझे मेरा काम पता है, मेरे यहां कोई काम पेंडिंग नहीं है, सब झूठ है : बीडीओ

    पहले से चल रहा है दोनों में विवाद...शिविर में मौजूद ग्रामीणों ने बताया कि दोनों अधिकारियों के बीच कुछ समय से खटपट चल रही है। पिथास से पहले हुए शिविर में भी दोनों गुस्सा हो गए थे लेकिन उस दरमियां दोनों में तू-तू, मैं-मैं होने से बच गई। बुधवार को शिविर में दोनों का गुब्बार फूट पड़ा और दोनों में आपस में भिड़ गए।

    भीलवाड़ा पांचवें स्थान पर, लेकिन ऐसे अफसर बिगाड़ रहे छवि... न्याय आपके द्वार शिविर की एक से आठ मई तक की रैंकिंग जारी की गई है। इसमें भीलवाड़ा प्रदेश में पांचवें स्थान पर रहा। रिपोर्ट के अनुसार भीलवाड़ा ने जयपुर, बीकानेर, उदयपुर व कोटा को भी पीछे छोड़ा है। लेकिन पिथास में बुधवार को हुए न्याय आपके द्वार शिविर में आम जनता के सामने अफसरों के विवाद ने जिले की छवि बिगाड़ दी है।

    (विवाद के बारे में एसडीएम छोटूलाल शर्मा से बातचीत के लिए भास्कर ने उनसे संपर्क करने के लिए कॉल किया लेकिन, उनका मोबाइल स्विच बंद था)

    मांडल एसडीएम और बीडीओ के बीच न्याय आपके द्वार शिविर में लड़ाई की मुझे जानकारी नहीं है। यदि दोनों अधिकारी शिविर में लड़े हैं तो यह सरासर गलत है। ऐसा नहीं होना चाहिए था। दोनोंं शिविर में जनता का काम करने गए थे। जानकारी लेकर अग्रिम कार्रवाई की जाएगी। शुचि त्यागी, कलेक्टर

    4 कर्मचारी-अधिकारी लिखित शिकायत कर चुके हैं एसडीएम की

    ... एसडीएम छोटूलाल शर्मा की कार्यशैली को लेकर अब तक चार कर्मचारी-अधिकारी लिखित में बीडीआे को शिकायत कर चुके हैं। बीडीओ ये शिकायतें जिला परिषद सीईओ को भेज चुके हैं। बीडीओ के अनुसार एसडीएम द्वारा दुर्व्यवहार करने को लेकर अब तक एईएन, जेईएन, प्रोग्रामर व एक अन्य कर्मचारी की शिकायत मिल चुकी है। क्षेत्र के सीआई, तहसीलदार और डिप्टी भी उनके व्यवहार से परेशान हैं।

  • न्याय आपके द्वार शिविर में नरेगा काम को लेकर एसडीएम व बीडीओ भिड़े, शिविर रुका, ग्रामीण हाथ जोड़कर बोले-हमें काम नहीं चाहिए, आप लड़ना बंद कीजिए
    +2और स्लाइड देखें
  • न्याय आपके द्वार शिविर में नरेगा काम को लेकर एसडीएम व बीडीओ भिड़े, शिविर रुका, ग्रामीण हाथ जोड़कर बोले-हमें काम नहीं चाहिए, आप लड़ना बंद कीजिए
    +2और स्लाइड देखें
आगे की स्लाइड्स देखने के लिए क्लिक करें
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Mandal

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×