• Hindi News
  • Rajasthan News
  • Mandal News
  • रजिस्ट्रेशन ऑटाे पार्टस का, फैक्ट्री गत्ते की, असली मालिक कोई और
--Advertisement--

रजिस्ट्रेशन ऑटाे पार्टस का, फैक्ट्री गत्ते की, असली मालिक कोई और

Dainik Bhaskar

May 01, 2018, 05:30 AM IST

टपूकड़ा (अलवर) | खुशखेडा की जिस श्रीकृष्ण इंटरप्राइजेज के टैंक में जहरीली गैस से पांच लोगों की मौत हुई उसका मालिक मृतक बिजेंद्र यादव नहीं था। कंपनी में अवैध रूप से गत्ता री-साइक्लिंग प्लांट लगाया गया था, जबकि रीको के रिकार्ड में यहां ऑटो पार्ट्स यूनिट चल रही है। कंपनी के असली मालिक गुड़गांव निवासी हरिओम ने गैरकानूनी रूप से इसे मृतक बिजेंद्र यादव को किराये पर दे रखा था। ये तथ्य सोमवार को घटनास्थल पर प्रशासनिक जांच में सामने आए हैं। यह भी खुलासा हुआ कि फैक्ट्री प्रदूषण के लिहाज से ओरेंज कैटेगरी की थी, लेकिन इसके लिए राज्य प्रदूषण नियंत्रण मंडल से ना तो अनुमति ली गई, ना ही रीको या आरपीसीबी के अधिकारी कभी जांच करने पहुंचे। जबकि फैक्ट्री के लिए खुद रीको ने ही जमीन आवंटित की थी। सोमवार को मौके की जांच के बाद एसडीएम कपिल यादव ने कहा कि फैक्ट्री से संबंधित सभी विभागों से विस्तृत जानकारी मांगी गई है। इसके बाद जिला कलक्टर को रिपोर्ट भेजी जाकर मुआ‌वजे और कानूनी कार्रवाई की प्रक्रिया शुरू होगी।


रीको ने 2001 में जमीन दी थी, 2013 में मंजूरी ली


अवैध रूप से दी किराये पर... क्योंकि गत्ता री-साइक्लिंग की मंजूरी नहीं मिलती : रीको अधिकारियों ने बताया कि असली मालिक हरिओम ने बिना रीको की मंजूदी के इसे किराये पर दिया। प्रदूषण मंडल ने कहा कि यह ओरेंज कैटेगरी की थी और जरूरी सम्मति नहीं ली।



X
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..