--Advertisement--

7 साल पुराने हत्या मामले में बरी

अपर सेशन न्यायाधीश महावीर प्रसाद गुप्ता ने रामनाथ एवं रामावतार को हत्या सहित विभिन्न आरोपों से बरी कर दिया।...

Dainik Bhaskar

Feb 02, 2018, 05:55 AM IST
अपर सेशन न्यायाधीश महावीर प्रसाद गुप्ता ने रामनाथ एवं रामावतार को हत्या सहित विभिन्न आरोपों से बरी कर दिया। मामले के अनुसार परिवादी सुमन ने मंडावा थाने में रिपोर्ट दी थी कि 15 जनवरी 2010 की रात 12 बजे उसके ससुर हनुमान सिंह घर आए व खाना खाकर सो गए, थोड़ी देर में हनुमान-हनुमान आवाज आई तो उसकी बेटी निशा उठी तो बाहर तीन गाड़ियां व एक कार खड़ी थी जिनमें काफी लोग सवार थे। उसके बाद वह सो गई। सुबह उसे पता चला कि उसके ससुर हनुमान को वे लोग मार कर बालाराम मोगा की ढाणी के पास रोड पर पटक गए। लड़ाई व चुनावी रंजिश के कारण उसके ससुर को मारा गया। पुलिस ने रामनाथ व रामावतार के विरुद्ध न्यायालय में हत्या का चालान पेश कर दिया। इस्तगासा पक्ष द्वारा कुल 14 गवाहों के बयान करवाए गए। न्यायाधीश ने अपने फैसले में कहा कि परिस्थितिजन्य साक्ष्य की कड़ी आपस में मेल नहीं खाती। उन्होंने इसलिए संदेह का लाभ देते हुए रामनाथ व रामावतार को बरी कर दिया।

X
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..