--Advertisement--

ऐसे की नए जीवन की शुरुआत

महिला थाने में कार्यरत महिला कांस्टेबल सीता शर्मा की महज 17 वर्ष की थीं, तब उनकी शादी कर दी गई। राजाखेड़ा के रहसेना...

Dainik Bhaskar

Mar 08, 2018, 05:30 AM IST
ऐसे की नए जीवन की शुरुआत
महिला थाने में कार्यरत महिला कांस्टेबल सीता शर्मा की महज 17 वर्ष की थीं, तब उनकी शादी कर दी गई। राजाखेड़ा के रहसेना गांव की रहने वाली सीता पड़ोसी गांव शेखपुर में केदार शर्मा के साथ ब्याह दीं गई। उस समय केदार महज 22 वर्ष के थे। परिवार की आय का साधन केवल खेती थी। सीता का बचपन भी अभावों में बीता और उसने अपने पति को विश्वास में लिया और परिवार की उन्नति की इबारत लिखनी शुरू कर दी। शादी के समय महज 10वीं पास थी, इसलिए आगे की पढ़ाई शुरू करने के साथ हीपति को भी प्रेरित किया।

सीता एक मां की जिम्मेदारी को बखूबी निभा रही थीं लेकिन पारिवारिक हालत ठीक नहीं होने के कारण काफी परेशाानियों का सामना करना पड़ रहा था। तब सीता हालातों से लड़ी और खुद से प्रेरित होकर नौकरी पाने की चाहत में विभिन्न प्रकार की तैयारियों में जुट गई। शादी के समय मात्र 10 वीं पास थी। बस फिर क्या था सीता सरकारी नौकरी पाने के लिए तैयारी में जुट गई। उसने वर्ष 2003 के बाद एसएससी, रेलवे भर्ती, राजस्थान पुलिस आदि क्षेत्रों में तैयारी की। स्वयं 12वीं की और पति को आईटीआई कराई।

X
ऐसे की नए जीवन की शुरुआत
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..