Hindi News »Rajasthan »Manoharpur» मनोहरपुर पंचायत के पूर्व सरपंच के पति राजेश रिश्वत कांड में पहंुचे जेल, एसीबी की कार्रवाई

मनोहरपुर पंचायत के पूर्व सरपंच के पति राजेश रिश्वत कांड में पहंुचे जेल, एसीबी की कार्रवाई

ग्राम पंचायत की पूर्व सरपंच उर्मिला जांगिड़ के पति राजेश जांगिड़ पुत्र सज्जन लाल को एसीबी कोर्ट ने पूर्व में 2013 से...

Bhaskar News Network | Last Modified - May 06, 2018, 05:30 AM IST

ग्राम पंचायत की पूर्व सरपंच उर्मिला जांगिड़ के पति राजेश जांगिड़ पुत्र सज्जन लाल को एसीबी कोर्ट ने पूर्व में 2013 से लंबित चल रहे एक रिश्वत के मामले में शनिवार को 19 मई तक जेल भेज दिया। शुक्रवार को एसीबी के सीआई रणजीत सिंह की टीम ने गिरफ्तार किया था। जिसको दूसरे दिन शनिवार को कोर्ट में पेश करने पर वहां से जांगिड़ को 19 मई तक जेल भेज दिया।

क्या था मामला

एसीबी के सीआई रणजीत सिंह ने बताया कि वर्ष 2013 में लोचूकाबास गांव निवासी अर्चना शर्मा प|ी सुभाष शर्मा ने लिखित शिकायत दर्ज कराई थी कि कृषि भूमि का नामांतरण खुलवाने के लिए कुर्सीनामा बनवाने के लिए मनोहरपुर सरपंच के पास 5 जून 2013 को समस्त दस्तावेज पेश कर प्रार्थना पेश किया था। लेकिन सरपंच पति राजेश जांगिड़ ने कुर्सीनामे के लिए 6 हजार रुपए मांगे और रसीद देने से इनकार कर दिया। इसके बाद एसीबी ने 14 जून को पीड़िता अर्चना शर्मा को बुलाकर शिकायत की पुष्टि की। जिस पर उसी दिन पंचायत के कर्मचारी नाथूलाल शर्मा ने पीड़िता से अपने खर्चे के लिए एक हजार रुपए की रिश्वत ली और शेष 5 हजार रुपए सरपंच के नाम से मांगे, जिनको अगले दिल मंगवाया गया। दूसरे दिन पीड़िता ने पंचायत के पास ही नाथूलाल शर्मा को 5 हजार रुपए की रिश्वत दी। जिसको रंगे हाथों टीम ने दबोच कर थाने में लेजाकर कार्यवाही शुरु की। परिवादिया के समस्त दस्तावेज टीम ने सरपंच के घर से बरामद कर लिया। एसीबी ने नाथू लाल शर्मा एवं राजेश जांगिड़ के खिलाफ बिना नंबरी एफआईआर दर्ज कर जांच शुरु कर दी थी। जिस पर शुक्रवार को एसीबी के सीआई रणजीत सिंह ने राजेश जांगिड़ को कार्यालय बुलाया। जहां उसे गिरफ्तार कर लिया। जिसको शनिवार को कोर्ट में पेश किया। जहां से उसे 19 मई तक जेल भेज दिया।

सरपंच उर्मिला जांगिड़ को पंचायती राज विभाग ने किया था निलंबित

उक्त मामले भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो के उप महानिरीक्षक आलोक वशिष्ठ ने संभागीय आयुक्त को 30 जून 2014 को पत्र भेजकर अवगत कराया था कि सरपंच के सभी कार्य उसका पति राजेश जांगिड़ करता हैं। जिस पर सरपंच उर्मिला जांगिड़ द्वारा अपने विधिक कर्तव्यों एवं दायित्वों का समुचित निर्वहन नहीं करने एवं अपने पति राजेश जांगिड़ द्वारा सरपंच के अधिकारों का दुरुपयोग/उपयोग करने पर सरपंच के खिलाफ पंचायती राज अधिनियम 1996 के नियम 22 व 1994 की धारा 38 के तहत सरपंच उर्मिजा जांगिड़ के खिलाफ कार्रवाई करने की अनुशंषा की गई थी। जिस पर 5 नवंबर काे ग्रामीण विकास एवं पंचायती ने पंचायती राज अधिनियम 1994 की धारा 38 (4) के तहत निलंबित करने के आदेश जारी किए थे। वहीं उक्त मामले में दूसरे आरोपी नाथूलाल शर्मा को पूर्व में जेसी हो चुकी हैं।

भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो की टीम ने शुक्रवार को गिरफ्तार कर शनिवार को किया था कोर्ट में पेश, आरोपित 19 मई तक रहेगा जेल में

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Manoharpur

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×