• Hindi News
  • Rajasthan News
  • Merta News
  • 8 माह पहले नियमित शुरू हुई दिल्ली सरायरोहिल्ला-जोधपुर एक्सप्रेस 8 दिन भी नहीं पहुंची सही समय पर
--Advertisement--

8 माह पहले नियमित शुरू हुई दिल्ली सरायरोहिल्ला-जोधपुर एक्सप्रेस 8 दिन भी नहीं पहुंची सही समय पर

भास्कर संवाददाता | मेड़ता रोड जोधपुर- दिल्लीसरायरोहिल्ला के बीच संचालित ट्रेन करीब आठ माह में मात्र आठ बार ही...

Dainik Bhaskar

Feb 02, 2018, 05:55 AM IST
भास्कर संवाददाता | मेड़ता रोड

जोधपुर- दिल्लीसरायरोहिल्ला के बीच संचालित ट्रेन करीब आठ माह में मात्र आठ बार ही सही समय पर पहुंची होगी। शेष दिनों में 8 से 15 घंटे तक की देरी से पहुंच रही है। ट्रेन के रोजाना देरी से पहुंचने से यात्रियों को बड़ी समस्या का सामना करना पड़ रहा है। इसके बावजूद रेलवे बोर्ड ने कोई ठोस कदम नहीं उठाया है। ट्रेन के देरी से पहुंचने के कारण आरक्षित कोच 40 प्रतिशत खाली रहते हैं। ऐसे में रेलवे को लाखों का नुकसान भुगतना पड़ रहा है। जोधपुर- दिल्लीसरायरोहिल्ला के बीच संचालित द्विसाप्ताहिक ट्रेन को करीब आठ माह से नियमित रूप से संचालित किया जा रहा है। तब से यह ट्रेन देरी से पहुंच रही है। क्योंकि इसका रैक इस्लामपुर से दिल्लीसरायरोहिल्ला पहुंचता है। यह ट्रेन प्रतिदिन रैक देरी से पहुंचने के कारण वापसी में दिल्लीसरायरोहिल्ला से देरी से ही संचालन संभव है। बुधवार को भी ट्रेन संख्या 22482 दिल्ली से मंगलवार को रात 11.15 के स्थान पर दिल्ली से दोपहर 1 बजकर 10 मिनट पर यानि 14 घंटे की देरी से रवाना हुई। जो सात घंटे की देरी से मेड़ता रोड पहुंची। देरी की वजह मगध एक्सप्रेस के साथ लिंक: इस्लामपुर से दिल्ली तक जाने वाली मगध एक्सप्रेस के रैक को ही वापिस जोधपुर के लिए रवाना किया जाता है। मगध एक्सप्रेस प्रतिदिन देरी से दिल्ली पहुंचता है। इसलिए जोधपुर के लिए प्रतिदिन ट्रेन देरी से संचालित हो रही है। इससे लोगों को बड़ी परेशानी हो रही है। जो लोग आपातकालीन स्थिति में निकलते है उनको सबसे अधिक समस्या होती है।

भास्कर संवाददाता | मेड़ता रोड

जोधपुर- दिल्लीसरायरोहिल्ला के बीच संचालित ट्रेन करीब आठ माह में मात्र आठ बार ही सही समय पर पहुंची होगी। शेष दिनों में 8 से 15 घंटे तक की देरी से पहुंच रही है। ट्रेन के रोजाना देरी से पहुंचने से यात्रियों को बड़ी समस्या का सामना करना पड़ रहा है। इसके बावजूद रेलवे बोर्ड ने कोई ठोस कदम नहीं उठाया है। ट्रेन के देरी से पहुंचने के कारण आरक्षित कोच 40 प्रतिशत खाली रहते हैं। ऐसे में रेलवे को लाखों का नुकसान भुगतना पड़ रहा है। जोधपुर- दिल्लीसरायरोहिल्ला के बीच संचालित द्विसाप्ताहिक ट्रेन को करीब आठ माह से नियमित रूप से संचालित किया जा रहा है। तब से यह ट्रेन देरी से पहुंच रही है। क्योंकि इसका रैक इस्लामपुर से दिल्लीसरायरोहिल्ला पहुंचता है। यह ट्रेन प्रतिदिन रैक देरी से पहुंचने के कारण वापसी में दिल्लीसरायरोहिल्ला से देरी से ही संचालन संभव है। बुधवार को भी ट्रेन संख्या 22482 दिल्ली से मंगलवार को रात 11.15 के स्थान पर दिल्ली से दोपहर 1 बजकर 10 मिनट पर यानि 14 घंटे की देरी से रवाना हुई। जो सात घंटे की देरी से मेड़ता रोड पहुंची। देरी की वजह मगध एक्सप्रेस के साथ लिंक: इस्लामपुर से दिल्ली तक जाने वाली मगध एक्सप्रेस के रैक को ही वापिस जोधपुर के लिए रवाना किया जाता है। मगध एक्सप्रेस प्रतिदिन देरी से दिल्ली पहुंचता है। इसलिए जोधपुर के लिए प्रतिदिन ट्रेन देरी से संचालित हो रही है। इससे लोगों को बड़ी परेशानी हो रही है। जो लोग आपातकालीन स्थिति में निकलते है उनको सबसे अधिक समस्या होती है।

केंद्रीय मंत्री शेखावत व खटोड़ ने भी लिखे पत्र, लेकिन नहीं हुआ सुधार, 19 स्टेशनों पर यात्री करते हंै इंतजार

इस समस्या के समाधान के लिए रेलवे बोर्ड को पत्र भी लिखे। मगर आज तक इसका समाधान नहीं हो सका। 19 स्टेशनों के यात्रियों को होती है परेशानी: जोधपुर से दिल्लीसरायरोहिल्ला के बीच संचालित ट्रेन वाया डेगाना- डीडवाना होकर संचालित होती है। जो 19 स्टेशनों पर ठहराव करती है। देरी से संचालित होने के कारण 19 स्टेशनों पर यात्रीगण बैठकर इंतजार करते रहते है। जोधपुर सांसद व केन्द्रीय राज्य मंत्री गजेन्द्रसिंह शेखावत व उत्तर पश्चिम रेलवे के अनिल कुमार खटेड़ ने इस ट्रेन को समय पर चलाने के लिए रेलमंत्री तक को अवगत कराया हुआ है। इसके बाद इसमें कोई सुधार नहीं किया गया।

X

Recommended

Click to listen..