--Advertisement--

जल स्वावलंबन में प्रदेश का पहला उदाहरण

भास्कर संवाददाता | मेड़ता सिटी मेड़ता इन दिनों प्रदेश में एक अनूठा उदाहरण बनता जा रहा है। प्रदेश में मानसून को...

Danik Bhaskar | May 29, 2018, 05:25 AM IST
भास्कर संवाददाता | मेड़ता सिटी

मेड़ता इन दिनों प्रदेश में एक अनूठा उदाहरण बनता जा रहा है। प्रदेश में मानसून को नजदीक आता देख राज्य सरकार मुख्यमंत्री जल स्वावलंबन योजना के तहत तालाबों की दशा सुधार रही है। लेकिन मेड़तावासी खुद जल स्वावलंबी बन कुंडल सरोवर को उसका स्वरूप लौटाने में जुटे हैं। महज 2 माह में बरसों से गंदे पानी से भरे कुंडल सरोवर की सफाई कर इसकी तस्वीर ही बदल दी है। 3 माह पूर्व तक शाम होते ही अंधेरे की आगोश में डूबने वाला कुण्डल सरोवर इन दिनों शाम होते ही दूधिया रोशनी से जगमगा उठता है। सरोवर विकास के लिए पालिका ने साढ़े 19 करोड़ रुपए की डीपीआर बनवा ली है। लेकिन सरकारी से कोई सहायता राशि नहीं मिली है। कुण्डल सरोवर के जीर्णोद्धार में लगी कुण्डल सरोवर धाम सेवा समिति के पदाधिकारी अपने स्तर पर ही सहयोग राशि जुटा रहे हैं। उन्होंने अब तक 18 लाख रुपए एकत्रित किए हैं। शहरवासियों को उम्मीद है कि मानसून आने पर इस बार सरोवर मीठे पानी से भर जाएगा।

सरकार से बजट नहीं, लोगों ने जुटाया 18 लाख का चंदा, बदलेगी कुंडल की तस्वीर

कुंडल सरोवर धाम सेवा समिति घर-घर जाकर जुटा रही राशि

कुण्डल सरोवर धाम सेवा समिति के बैनर तले चल रहे कुण्डल जीर्णोद्धार कार्य में सरकारी स्तर पर कोई सहायता अभी तक नहीं मिल पाई है। समिति के पदाधिकारियों ने अपने जज्बे के बलबूते यहां अनेक संसाधन जुटाए हैं। समिति ने पहले यहां सफाई अभियान चलाकर सारे बबूल के पेड़ व झाड़ियां काटी। इसके बाद गंदे पानी की निकासी कराई और अब खुदाई कार्य कराया जा रहा है। समिति को शहरवासियों से अर्थ सहयोग मिल रहा है। शहर के अनेक भामाशाह खुलकर आगे आए हैं। अब तक 25 लाख रुपए की घोषणा हुई है। जिसमें से समिति के पास 18 लाख रुपए आ चुके हैं। समिति के संयोजक पुखराज टाक, सह संयोजक एडवोकेट मुकेश जोशी, कोषाध्यक्ष नंद कुमार अग्रवाल, सह कोषाध्यक्ष हारून रिजवी, सह सचिव एडवोकेट विमलेश व्यास, धर्मीचंद सोनी सहित अन्य लोग घर-घर दानदाताओं से सहयोग राशि एकत्रित कर रहे हैं।

साढ़े 19 करोड़ की डीपीआर भी तैयार

नगरपालिका ने कुण्डल सरोवर के सर्वांगीण विकास को लेकर साढ़े 19 करोड़ रुपए की डीपीआर भी तैयार कराई। केन्द्रीय मंत्री चौधरी ने डीपीआर के प्रथम फेज पेटे 2 से 3 करोड़ देने के लिए सीएम राजे को पत्र भी लिखा। इसके बावजूद कोई राशि स्वीकृत नहीं हुई है। अभी जगह जगह मुख्यमंत्री जल स्वावलंबन अभियान के तहत सरकार तालाबों के रख-रखाव के लिए बजट दे रही है। मगर कुण्डल के लिए अभी तक कोई सहायता राशि सरकारी स्तर पर मंजूर नहीं हुई है।

मेड़ता सिटी. कुंडल सरोवर में एलएनटी से हो रही खुदाई।

घोषणा नहीं हुई साकार: कुण्डल सरोवर पर जनसहयोग से चल रहे खुदाई कार्यों की जानकारी मिलने पर मेड़ता विधायक सुखाराम ने 5 लाख, सांसद हरिओम सिंह ने 20 लाख रुपए अपने कोटे से देने की घोषणा की। केंद्रीय राज्यमंत्री सीआर चौधरी ने राज्यसभा सांसद केजे अल्फोंस के कोटे से 10 लाख रुपए दिलाने का वादा किया था। लेकिन कोई भी घोषणा पूरी नहीं हुई है।