Hindi News »Rajasthan »Merta» काम-क्रोध अौर मोह-माया मनुष्य के जीवन के पतन का कारण होते हैं- संत भागीरथराम

काम-क्रोध अौर मोह-माया मनुष्य के जीवन के पतन का कारण होते हैं- संत भागीरथराम

भास्कर संवाददाता| मेड़ता सिटी (आंचलिक) मनुष्य के जीवन में काम, क्रोध, मोह व माया उसकी दुश्मन है। इनकी अति होने से...

Bhaskar News Network | Last Modified - Aug 08, 2018, 05:50 AM IST

काम-क्रोध अौर मोह-माया मनुष्य के जीवन के पतन का कारण होते हैं- संत भागीरथराम
भास्कर संवाददाता| मेड़ता सिटी (आंचलिक)

मनुष्य के जीवन में काम, क्रोध, मोह व माया उसकी दुश्मन है। इनकी अति होने से मनुष्य का पतन शुरू हो जाता है। ये विचार मंगलवार को संत भागीरथराम महाराज ने समीप के आकेली ए में धर्मसभा में प्रवचन में कही। उन्होंने कहा कि व्यक्ति को जीवन में कभी इन चार कषायों में नहीं पड़ना चाहिए। जो आगे चलकर जीवन के लिए विनाशकारी साबित हों। उन्होंने एक प्रसंग में कहा कि नारद ने काम, क्रोध को जीतने का अभिमान किया था। तब उनका भी पतन हो गया था। अभिमान के कारण ही काम एवं क्रोध उत्पन्न होता है। इस अवसर संत मुमुक्षुराम महाराज ने भजनों की प्रस्तुति दी। इस मौके पर गेमलियावास, डूकिया, कात्यासनी, बड़गांव, खाखड़की, उंचारड़ा, मुंगदड़ा, फालकी व मेड़ता सहित अन्य स्थानों के श्रद्धालु मौजूद थे।

भजन संध्या में गायक कलाकारों ने दी प्रस्तुति

दधवाड़ा| ग्राम पंचायत रिया श्यामदास के गांव जोगीमगरा में एक शाम जोगेश्वर महादेव के नाम भजन संध्या का आयोजन हुआ। प्रेमसुख गोरान ने बताया कि जोगेश्वर महादेव मंदिर प्रांगण में भजन संध्या का कार्यक्रम हुआ। इस दौरान गायक कलाकार फूलचंद नागौर एंड पार्टी एवं गायक कलाकार हरीश ईनाणा, जीतू बोयल, लक्ष्मण राम भंवरिया, गोविंद, रामदेव गोरण ने भजनों की प्रस्तुतियां दी। इस मौके पर गोवर्धनलाल व्यास, कमलकिशोर व्यास, अमराराम बेड़ा, जगदीशलाल नागर, नाथूराम देवासी, बाबूलाल देवासी, कैलाश लीलू, सुरेन्द्र वैष्णव, राजेन्द्र वैष्णव, रामजीवन पोसवाल, गोरधन नायक, भागीरथ नायक, गजेंद्र कुमार नायक, तेजपाल सिंह, रामअवतार तिवाड़ी, राकेश कोली, नंदू सैन, छोटू खां जोया, प्रेमसुख घोरण, महेंद्र, कुदरत अली आदि मौजूद थे।

मेड़ता सिटी

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Merta

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×