• Home
  • Rajasthan News
  • Mukundgarh News
  • अमृत और चंचल वेला में आज शाम 7:42 से 9:26 बजे तक होलिका दहन का श्रेष्ठ मुहूर्त
--Advertisement--

अमृत और चंचल वेला में आज शाम 7:42 से 9:26 बजे तक होलिका दहन का श्रेष्ठ मुहूर्त

भास्कर संवाददाता | झुंझुनूं/मुकुंदगढ़ फाल्गुनी शुक्ल पूर्णिका पर गुरुवार को अमृत व चंचल वेला में होलिका दहन...

Danik Bhaskar | Mar 01, 2018, 04:55 AM IST
भास्कर संवाददाता | झुंझुनूं/मुकुंदगढ़

फाल्गुनी शुक्ल पूर्णिका पर गुरुवार को अमृत व चंचल वेला में होलिका दहन किया जाएगा। धुलंडी शुक्रवार को मनाई जाएगी। इसी दिन 16 दिवसीय गणगौर पूजा शुरू होगी। बुधवार को बाजार में त्योहारी उत्साह दिखा। शहर में होली मंगलाने के लिहाज से तिवाड़ियों की होली खास मानी जाती है। यहां गुरुवार को सूर्य की साक्षी में होलिका दहन किया जाएगा।

व्यापारी सुभाष पंसारी ने बताया कि होली के दिन जिले में करीब 60 टन गुलाल से होली खेली जाएगी। शहीद पीरू सिंह स्कूल में तीन दिवसीय अस्थाई पटाखा बाजार लगाया गया है। पंडितों के अनुसार गोधुली वेला में गुरुवार को शाम अमृत व चंचल वेला में होलिका दहन का श्रेष्ठ मुहूर्त रहेगा। ज्योतिषाचार्य पं. आदित्य नारायण सुरोलिया ने बताया गुरुवार शाम 7.42 के बाद 8.01 तक अमृत वेला तथा रात 9.26 तक चंचल वेला में दहन श्रेष्ठ रहेगा। जेल बड़कुलों की माला पिरोने का शुभ मुहूर्त सुबह भद्रा लगने से पहले 9.02 बजे तक रहेगा इसके बाद भद्रा शुरू हो जायेगी।

ज्योतिष के मुताबिक भद्रा में होलिका दहन अहितप्रद व प्रजा को कष्टकारक रहता है। होली भी एक यज्ञ समान अनुष्ठान है जिसमें नई फसल को दहन के समय समर्पित किया जाता है। मान्यता है कि इससे प्रकृति अनुकूल बनती है। इसी दिन होली बुराई के रूप में ढूंढा राक्षसी को जलाकर भक्त प्रहलाद की रक्षार्थ उसे श्राप देकर अग्नि में जलाकर विजय पर्व मनाया जाता है।