• Home
  • Rajasthan News
  • Nagar News
  • होटल मालिक सहित छह कर्मचारियों को नशीला पदार्थ खिलाकर नकदी व मोबाइल ले भागा नौकर
--Advertisement--

होटल मालिक सहित छह कर्मचारियों को नशीला पदार्थ खिलाकर नकदी व मोबाइल ले भागा नौकर

भरतपुर| शमशासाबाद के एक युवक ने खुद अनाथ बताकर रोते हुए सारस चौराहे के पास एक होटल में नौकरी तलाश की। उसके तीन दिन...

Danik Bhaskar | Mar 01, 2018, 05:00 AM IST
भरतपुर| शमशासाबाद के एक युवक ने खुद अनाथ बताकर रोते हुए सारस चौराहे के पास एक होटल में नौकरी तलाश की। उसके तीन दिन बाद ही मंगलवार देर रात होटल मालिक समेत छह कर्मचारियों को नशीला पदार्थ खिलाकर उनके मोबाइल व नकदी लेकर फरार हो गया। घटना का पता तब लगा जब सुबह नौ बजे होटल मालिक का बेटा पहुंचा। पुलिस भी सूचना के करीब एक घंटे बाद देरी से पहुंची। अभी तक पांच मोबाइल व करीब 22 हजार रुपए चोरी कर ले जाने की बात पूछताछ में सामने आई है। होटल के कर्मचारियों को जहरखुरानी का शिकार बनाने की घटना पहली है।

जाटौली घना स्थित फौजी होटल के मालिक के पास तीन पहले ही एक युवक आया और खुद को अनाथ बताकर नौकरी की मांग करते हुए रोने लगा। इस पर होटल मालिक ने उसे होटल में नौकर का काम दे दिया। मंगलवार रात करीब साढ़े 11 बजे उसने सभी को खाना खिलाया। उसने दाल में ही कोई नशीला पदार्थ मिला दिया। सुबह जब होटल मालिक का बेटा मोंटी पहुंचा तो सभी बेहोश मिले। इस पर उनको आरबीएम अस्पताल में भर्ती कराया गया। अस्पताल में झुंझुनूं निवासी अनूप सिंह पुत्र इंदरसिंह, होटल मालिक सुखवीर चौधरी पुत्र विजेंद्र सिंह, विकेश पुत्र सुखवीर सिंह चौधरी निवासी जाटौली घना हाल ब्रज नगर, अभिषेक पुत्र रामकिशन निवासी पाली थाना किरावली, सूरज पुत्र मुनीष आगरा, उड़ीसा निवासी रंजीत सिंह को भर्ती कराया गया। सेवर थाने के हैड कांस्टेबल जगमोहन ने बताया कि छह में से पांच को अभी अच्छी तरह से होश नहीं आया है। इसलिए बयान नहीं लिए जा सके हैं।

सारस चौराहे के पास होटल की घटना

भरतपुर. अस्पताल में भर्ती विकेश सिंह।

धोखा: तीन दिन में इतना विश्वास जमाया कि गल्ले की चाबी भी उसे सौंप दी

होटल मालिक के बेटे विकेश ने बताया कि तीन दिन पहले ही शमशाबाद का छोटू आया था। पापा ने उसे नौकरी पर रख लिया। तीन दिन में ही उसने इतना विश्वास जमाया कि गल्ले की चाबी तक उसे दे दी। उसका पहचान पत्र भी गल्ले में रखा था। उसने पापा के बेहोश होने के बाद चाबी निकाली। फिर नकदी व खुद की आईडी लेकर फरार हो गया। हमको तो मालूम ही नहीं था कि वो ऐसा भी कर देगा। रात को साढ़े 11 बजे दाल बनाकर खिलाई उसके बाद में कमरे में जाकर सो गया। उसके बाद पता नहीं चला क्या हुआ।