Hindi News »Rajasthan »Nagar» मुखर्जी नगर में सूने मकान से 5 लाख की चोरी, हरे रंग की कार से आए बदमाशों ने की थी रैकी

मुखर्जी नगर में सूने मकान से 5 लाख की चोरी, हरे रंग की कार से आए बदमाशों ने की थी रैकी

सेक्टर तीन स्थित मुखर्जी नगर कॉलोनी में गुरुवार दोपहर एक सूने मकान से साढ़े तीन लाख रुपए नकद व लाखों रुपए के आभूषण...

Bhaskar News Network | Last Modified - Feb 02, 2018, 05:55 AM IST

सेक्टर तीन स्थित मुखर्जी नगर कॉलोनी में गुरुवार दोपहर एक सूने मकान से साढ़े तीन लाख रुपए नकद व लाखों रुपए के आभूषण चोरी हो गए। कोतवाली थाना पुलिस ने रंजीत नगर कच्ची बस्ती व टोल बूथ के आसपास चोरों को पकड़ने के लिए दबिश दी। लेकिन कोई सुराग नहीं लग सका। उक्त मकान से नकदी समेत करीब पांच लाख रुपए का माल चोरी हुआ।

पुलिस के अनुसार मुखर्जी नगर स्थित मकान नंबर 248 सूना था। क्योंकि उपेंद्र अग्रवाल पुत्र जमुना प्रसाद सुबह करीब 10 बजे आनंद नगर में अपनी दुकान खोलने के लिए चले गए। जबकि बेटा दीपक 10वीं कक्षा में पढ़ता है जो कि सवा आठ बजे स्कूल चला गया। दोपहर करीब सवा दो बजे के बाद रंजीत नगर में कम्प्यूटर सेंटर पर पढ़ाई करने चली गई। दोपहर करीब साढ़े तीन बजे बेटा दीपक जब स्कूल की छुट्टी के बाद पहुंचा तो घर में आलमारी व अन्य का सामान बिखरा देखा। मुख्य दरवाजे का ताला टूटा हुआ था और अंदर मकान की दरवाजे की चौखट टूटी मिली। इस पर दीपक घबरा गया और घर के बाहर आकर पड़ोसियों के फोन से सूचना पिता उपेंद्र अग्रवाल को दी। इस पर पुलिस मौके पर पहुंची और जानकारी की तो आलमारी में रखे साढ़े तीन लाख रुपए, चांदी की पायजेब, कड़े, नथ, कुंडल, सोने के आभूषण, एक लाख रुपए की एफडी के कागज समेत अन्य कई दस्तावेज गायब मिले। पीड़ित ने कोतवाली थाने में तहरीर दी है। लेकिन देर रात तक मामला दर्ज नहीं हो सका। कुम्हेर गेट चौकी प्रभारी संपत सिंह ने बताया कि घटना की सूचना मिलते ही कई स्थानों पर चोरों को पकड़ने के लिए तलाश किया। लेकिन कोई सुराग नहीं लगा है। पीड़ित की रिपोर्ट पर मामला दर्ज कर लिया है। अब शुक्रवार को जांच की जाएगी।

पड़ोसियों ने देखा कि हरियाणा नंबर की कार, तीन बार चक्कर काट रुकी थी मकान के पास

पीड़ित के मकान में ही नहीं बल्कि आसपास में भी सीसीटीवी कैमरे नहीं लगे हुए थे। लेकिन कुछ पड़ोसियों ने बताया है कि एक हरे रंग की हरियाणा नंबर की कार दोपहर करीब दो बजे के बाद घूम रही थी। वह पीड़ित के मकान के पास कुछ देर के लिए रुकी भी थी। पीड़ित की प|ी रजनी मकान का ताला लगाकर चाबी बेटे दीपक के आने पर उसे देने के लिए पड़ोसियों देकर गई थी। ऐसे में पड़ोसियों को भी संदेह है कि चोरी करने के लिए बदमाश हरे रंग की कार में ही आए थे। जबकि पीड़ित की प|ी करीब सवा दो बजे ताला लगाकर गई थी और उसका बेटा दीपक करीब साढ़े तीन बजे आया था। ऐसे में चोरी की वारदात को इसी बीच अंजाम दिया गया। मतलब यह है कि चोरों ने एक घंटे के बीच चोरी की वारदात को अंजाम दिया।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Nagar

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×