• Hindi News
  • Rajasthan News
  • Nagar News
  • आधार से लिंक नहीं कराने व केवाईसी अधूरे रहने से 27 हजार घरेलू गैस कनेक्शन ब्लाॅक
--Advertisement--

आधार से लिंक नहीं कराने व केवाईसी अधूरे रहने से 27 हजार घरेलू गैस कनेक्शन ब्लाॅक

तेल कंपनियों ने जिले के 27 हजार घरेलू गैस उपभोक्ताओं क कनेक्शन ब्लाॅक कर दिए हैं। यानी उन्हें रिफिलिंग कराने से रोक...

Dainik Bhaskar

Feb 01, 2018, 02:10 PM IST
तेल कंपनियों ने जिले के 27 हजार घरेलू गैस उपभोक्ताओं क कनेक्शन ब्लाॅक कर दिए हैं। यानी उन्हें रिफिलिंग कराने से रोक दिया है। इसमें मुख्य कारण उपभोक्ताओं द्वारा आधार नंबर जमा नहीं कराना है। तेल कंपनियों ने यह कार्रवाई एक जनवरी से प्रारंभ की है, किंतु इसकी जानकारी उपभोक्ताओं द्वारा सिलेंडर बुक नहीं होने की शिकायत आने पर अब हुई है। गैस कनेक्शन को आधार से 31 दिसंबर तक लिंक कराना था। इस संबंध में कंपनियों का कहना है कि अगर किसी को घरेलू गैस सिलेंडर के साथ सब्सिडी चाहिए तो उसे आधार नंबर और बैंक अकाउंट की डिटेल देनी ही होगी। कई ऐसे उपभोक्ता भी हैं, जिन्होंने छह महीने से गैस सिलेंडर की बुकिंग नहीं की। इन कनेक्शनों को संदिग्ध मानते हुए रोक लगा दी है। गैस एजेंसी संचालक रतनसिंह कूम्हा ने बताया कि जिन उपभोक्ताओं ने एक ही नाम से दो एजेंसियों ने कनेक्शन ले लिए थे। उनमें से कंपनियों ने एक कनेक्शन को बैन कर दिया है। क्योंकि कंपनियों ने सर्वर को एक कर दिया है।

तेल कंपनियों से प्राप्त जानकारी के अनुसार इनमें सबसे अधिक उपभोक्ता भारत गैस के हैं। तीनों कंपनियों के करीब 27 हजार उपभोक्ताओं पर रोक लगाई गई है। भारत के 12 हजार, इंडेन के 7 तथा एचपीएस के करीब 8 हजार उपभोक्ता हैं। वैसे यह कार्रवाई प्रदेश भर में हुई है। प्रदेश में करीब 6 लाख उपभोक्ताओं के कनेक्शन ब्लॉक किए गए हैं। ज्ञात रहे कि तेल कंपनियां करीब डेढ़ साल से उपभोक्ताओं से आधार नंबर जमा कराने को कह रही थी। लेकिन करीब 35 हजार उपभोक्ताओं ने अभी भी आधार लिंक नहीं कराया है। इसलिए कंपनियों ने प्रथम चरण में 27 हजार कनेक्शन बंद किए हैं। ब्लाॅक होते ही उपभोक्ता अब रसोई गैस एजेंसियों के चक्कर काट रहे हैं।

भरतपुर। वीपीएसपार्क के पास खुले में रखे सिलेंडर।

ऐसे करें जानकारी : अपना सिलेंडर बुक कराने के लिए कंपनी में अपने रजिस्टर्ड नंबर से फोन करेंगे तब पता चलेगा कि कनेक्शन ब्लॉक है अथवा चालू। अगर किसी उपभोक्ता ने केवाईसी भर दिया और आधार नंबर नहीं दिया तो उसका कनेक्शन तो चालू रहेगा, लेकिन सब्सिडी नहीं मिलेगी।

केवाईसी पूरी कराएं

भरतपुर एलपीजी फेडरेशन के महामंत्री विष्णु गुप्ता ने बताया कि वे उपभोक्ता जिनके सिलेंडर बुक होने में परेशानी हो रही है अथवा उनका कनेक्शन ब्लाक होने की जानकारी मिल चुकी है उन्हें गैस एजेंसी से संपर्क कर केवाईसी को पूरा कराना चाहिए, जिसमें आधार की कापी, बैंक की पासबुक, आईडी, गैस कनेक्शन के कागजात लेकर केवाईसी भरवा लेनी चाहिए। क्योंकि रसोई गैस कनेक्शन चालू रखने के लिए

केवाईसी जरूरी है।

भास्कर संवाददाता | भरतपुर

तेल कंपनियों ने जिले के 27 हजार घरेलू गैस उपभोक्ताओं क कनेक्शन ब्लाॅक कर दिए हैं। यानी उन्हें रिफिलिंग कराने से रोक दिया है। इसमें मुख्य कारण उपभोक्ताओं द्वारा आधार नंबर जमा नहीं कराना है। तेल कंपनियों ने यह कार्रवाई एक जनवरी से प्रारंभ की है, किंतु इसकी जानकारी उपभोक्ताओं द्वारा सिलेंडर बुक नहीं होने की शिकायत आने पर अब हुई है। गैस कनेक्शन को आधार से 31 दिसंबर तक लिंक कराना था। इस संबंध में कंपनियों का कहना है कि अगर किसी को घरेलू गैस सिलेंडर के साथ सब्सिडी चाहिए तो उसे आधार नंबर और बैंक अकाउंट की डिटेल देनी ही होगी। कई ऐसे उपभोक्ता भी हैं, जिन्होंने छह महीने से गैस सिलेंडर की बुकिंग नहीं की। इन कनेक्शनों को संदिग्ध मानते हुए रोक लगा दी है। गैस एजेंसी संचालक रतनसिंह कूम्हा ने बताया कि जिन उपभोक्ताओं ने एक ही नाम से दो एजेंसियों ने कनेक्शन ले लिए थे। उनमें से कंपनियों ने एक कनेक्शन को बैन कर दिया है। क्योंकि कंपनियों ने सर्वर को एक कर दिया है।

तेल कंपनियों से प्राप्त जानकारी के अनुसार इनमें सबसे अधिक उपभोक्ता भारत गैस के हैं। तीनों कंपनियों के करीब 27 हजार उपभोक्ताओं पर रोक लगाई गई है। भारत के 12 हजार, इंडेन के 7 तथा एचपीएस के करीब 8 हजार उपभोक्ता हैं। वैसे यह कार्रवाई प्रदेश भर में हुई है। प्रदेश में करीब 6 लाख उपभोक्ताओं के कनेक्शन ब्लॉक किए गए हैं। ज्ञात रहे कि तेल कंपनियां करीब डेढ़ साल से उपभोक्ताओं से आधार नंबर जमा कराने को कह रही थी। लेकिन करीब 35 हजार उपभोक्ताओं ने अभी भी आधार लिंक नहीं कराया है। इसलिए कंपनियों ने प्रथम चरण में 27 हजार कनेक्शन बंद किए हैं। ब्लाॅक होते ही उपभोक्ता अब रसोई गैस एजेंसियों के चक्कर काट रहे हैं।

रोक के बाद भी सार्वजनिक स्थलों पर सिलेंडर यार्ड

प्रदेश में कुल उपभोक्ता

इंडेन 5144379

बीपीसी 3310879

एचपीसी 3509883

कुल 11965141

प्रदेश के उपभोक्ता जिन्होंने सब्सिडी छोड़ी

इंडेन 2.22 लाख

बीपीसी 2.06 लाख

एचपीसी 2.18 लाख

कुल 6.46 लाख

खाद्य एवं नागरिक आपूर्ति विभाग ने आयल कम्पनियों द्वारा सार्वजनिक स्थानों पर गैस सिलेंडरों का डम्पिंग यार्ड लगाकर उपभोक्ताओं को सिलेंडर आपूर्ति करने पर रोक लगा दी है। ऐसा करने पर विभाग कानूनी कार्रवाई करेगा। किंतु रोक के बाद भी शहर में कई जगह गैस एजेंसी ने यार्ड बना रखे हैं। शहर में वीपीएस पार्क, किला, स्वर्ण जयंती नगर, रणजीत नगर आदि इलाकों में यार्ड बना रखे हैं। इस व्यवस्था पर गत दिवस बैठक में रसद मंत्री बाबूलाल वर्मा ने नाराजगी जताई थी। बैठक में आयल कंपनियों को उपभोक्ताओं को होम रिफिल की होम डिलीवरी घर पर ही दिए जाने के निर्देश दिए गए। जिसमें कहा गया कि कुछ एजेंसी वाले उपभोक्ताओं को सार्वजनिक स्थानों पर यार्ड बनाकर सिलेंडर मुहैया कराते हैं। बैठक में गैस एजेंसियों के खिलाफ अनियमितता एवं अवैध रुपए वसूली पर नाराजगी जाहिर की गई। बैठक में सचिव मुग्धा सिन्हा, खाद्य उपायुक्त अंजू राजपाल, खाद्य मंत्री के विशिष्ट सहायक विभू कौशिक, उपभोक्ता मामले विभाग के उपनिदेशक संजय झाला, भारतीय खाद्य निगम के अधिकारी एवं आयल कंपनियों के अधिकारी उपस्थित थे।


-बीना महावर, जिला रसद अधिकारी

X
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..