Hindi News »Rajasthan »Nagar» वाणिज्यिक कर विभाग में रिफंड क्लेम कर फर्जीवाड़े का मामला

वाणिज्यिक कर विभाग में रिफंड क्लेम कर फर्जीवाड़े का मामला

वाणिज्यिक कर विभाग के रिफंड क्लेम कर फर्जीवाड़े से पास करने के मामले में अलवर पुलिस का आरोपी भरतपुर निवासी इमरान...

Bhaskar News Network | Last Modified - Feb 01, 2018, 02:10 PM IST

वाणिज्यिक कर विभाग के रिफंड क्लेम कर फर्जीवाड़े से पास करने के मामले में अलवर पुलिस का आरोपी भरतपुर निवासी इमरान ही नहीं बल्कि खुद सॉफ्टवेयर इंजीनियर भी मौज मस्ती का शौकीन था। यही कारण 25 हजार रुपए महीना वेतन पाने वाले सॉफ्टवेयर इंजीनियर नीरज का खर्चा करीब 40 हजार रुपए महीना हो चुका था। उसने कुछ लोगों से राशि उधार भी ले रखी थी। पिता एक निजी स्कूल में बाबूगिरी करते और 10-12 हजार रुपए महीने वेतन लेकर आते। इससे घर का खर्च चलाना भी मुश्किल हो गया था। जबकि हर दिन दोस्तों के साथ पार्टी करना और होटल में भोजन करना उसकी दिनचर्या का हिस्सा बन चुका था। दो बेटियों का पिता बनने के बाद नीरज सोनी को चिंता भी सता रही थी। ऐसे में उसने तीन महीने ही दोस्तों के साथ कुछ बड़ा कारनामा करने का मन बना लिया था। उल्लेखनीय है कि वाणिज्यिक कर विभाग के जयपुर, अलवर व भरतपुर जोन से चार करोड़ रुपए की ठगी के मामले में पुलिस अभी मास्टरमाइंड नीरज सोनी से पूछताछ करने में जुटी है। बुधवार को पुलिस ने सॉफ्टवेयर इंजीनियर नीरज को न्यायालय में पेश किया। जहां से उसे तीन दिन के पीसी रिमांड पर लिया गया है। नीरज अभी पुलिस को इस घोटाले में शामिल दोस्तों के नाम बताने से भी पीछे हट रहा है। पुलिस को आशंका है कि कहीं ना कहीं नीरज सोनी ने वारदात में शामिल दोस्तों में एक या दो इंजीनियर साथियों को ही शामिल किया होगा। टीम में शामिल उद्योगनगर एसएचओ वीरेंद्र शर्मा ने बताया कि पुलिस टीम ने बुधवार को जयपुर जाकर कर भवन से उस कम्प्यूटर को जब्त किया, जिसे नीरज सोनी ने घोटाला करने के लिए इस्तेमाल किया था। अब फिर से नीरज सोनी से पूछताछ की जाएगी।

25 हजार तनख्वाह और शौक-मौज का खर्चा 40 हजार रुपए इसलिए साइबर अपराधी बन गया सॉफ्टवेयर इंजीनियर नीरज

इमरान व लता मीणा के बाद गिरफ्तार हो सकता है नीरज का जीजा हिमांशु

भरतपुर पुलिस प्रताप कॉलोनी निवासी इमरान खान व लता मीणा को गिरफ्तार कर अलवर पुलिस को सुपुर्द कर चुकी है। क्योंकि नीरज सोनी के जीजा ने जो खाता नंबर उपलब्ध कराए थे, वह लता मीणा की मां के ही थे। जबकि उस खाते में राशि अलवर जोन के रिफंड क्लेम की आई थी। इसलिए अब अलवर के शिवाजी पार्क थाना पुलिस नीरज सोनी के जीजा हिमांशु को गिरफ्तार कर सकती है। हिमांशु की गिरफ्तारी के बाद ही यह पता चल सकेगा कि इमरान व हिमांशु के बीच क्या कनेक्शन था और कितनी राशि किस कमीशन के रूप में दी गई। शिवाजी पार्क थाने के एसएचओ विनोद सांवरिया ने बताया कि अभी आरोपियों से पूछताछ की जा रही है। पूछताछ के बाद जल्द और भी कार्रवाई की जाएगी।

भरतपुर. जयपुर कार्यालय से जब्त किया कंप्यूटर।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Nagar

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×