• Hindi News
  • Rajasthan
  • Nagar
  • 25 हजार वेतन और खर्चा 40 हजार, उधारी से चल रहा था घर, इसलिए साइबर अपराधी बना इंजीनियर
--Advertisement--

25 हजार वेतन और खर्चा 40 हजार, उधारी से चल रहा था घर, इसलिए साइबर अपराधी बना इंजीनियर

वाणिज्यिक कर विभाग के रिफंड क्लेम कर फर्जीवाड़े से पास करने के मामले में अलवर पुलिस का आरोपी भरतपुर निवासी इमरान...

Dainik Bhaskar

Feb 01, 2018, 02:15 PM IST
25 हजार वेतन और खर्चा 40 हजार, उधारी से चल रहा था घर, इसलिए साइबर अपराधी बना इंजीनियर
वाणिज्यिक कर विभाग के रिफंड क्लेम कर फर्जीवाड़े से पास करने के मामले में अलवर पुलिस का आरोपी भरतपुर निवासी इमरान ही नहीं बल्कि खुद सॉफ्टवेयर इंजीनियर भी मौज मस्ती का शौकीन था। यही कारण है कि 25 हजार रुपए महीना वेतन पाने वाले सॉफ्टवेयर इंजीनियर नीरज का खर्चा करीब 40 हजार रुपए महीना हो चुका था। उसने कुछ लोगों से राशि उधार भी ले रखी थी। पिता एक निजी स्कूल में बाबूगिरी करते और 10-12 हजार रुपए महीने वेतन लेकर आते। इससे घर का खर्च चलाना भी मुश्किल हो गया था।

जबकि हर दिन दोस्तों के साथ पार्टी करना और होटल में भोजन करना उसकी दिनचर्या का हिस्सा बन चुका था। दो बेटियों का पिता बनने के बाद नीरज सोनी को चिंता भी सता रही थी। ऐसे में उसने तीन महीने में ही दोस्तों के साथ कुछ बड़ा कारनामा करने का मन बना लिया था। उल्लेखनीय है कि वाणिज्यिक कर विभाग के जयपुर, अलवर व भरतपुर जोन से चार करोड़ रुपए की ठगी के मामले में पुलिस अभी मास्टरमाइंड नीरज सोनी से पूछताछ करने में जुटी है। बुधवार को पुलिस ने सॉफ्टवेयर इंजीनियर नीरज को न्यायालय में पेश किया। जहां से उसे तीन दिन के पीसी रिमांड पर लिया गया है। नीरज अभी पुलिस को इस घोटाले में शामिल दोस्तों के नाम बताने से भी पीछे हट रहा है। पुलिस को आशंका है कि कहीं ना कहीं नीरज सोनी ने वारदात में शामिल दोस्तों में एक या दो इंजीनियर साथियों को ही शामिल किया होगा। टीम में शामिल उद्योगनगर एसएचओ वीरेंद्र शर्मा ने बताया कि पुलिस टीम ने बुधवार को जयपुर जाकर कर भवन से उस कम्प्यूटर को जब्त किया, जिसे नीरज ने घोटाला करने के लिए इस्तेमाल किया था। अब फिर से नीरज सोनी से पूछताछ की जाएगी।

नीरज को जयपुर ले जाकर कम्प्यूटर जब्त किया

इमरान व लता मीणा के बाद गिरफ्तार हो सकता है नीरज का जीजा हिमांशु

भरतपुर पुलिस प्रताप कॉलोनी निवासी इमरान खान व लता मीणा को गिरफ्तार कर अलवर पुलिस को सुपुर्द कर चुकी है। क्योंकि नीरज सोनी के जीजा ने जो खाता नंबर उपलब्ध कराए थे, वह लता मीणा की मां के ही थे। इसलिए अब अलवर के शिवाजी पार्क थाना पुलिस नीरज सोनी के जीजा हिमांशु को गिरफ्तार कर सकती है। हिमांशु की गिरफ्तारी के बाद ही यह पता चल सकेगा कि इमरान व हिमांशु के बीच क्या कनेक्शन था और कितनी राशि किस कमीशन के रूप में दी गई।

X
25 हजार वेतन और खर्चा 40 हजार, उधारी से चल रहा था घर, इसलिए साइबर अपराधी बना इंजीनियर
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..