• Hindi News
  • Rajasthan News
  • Nagar News
  • दरवाजे तक न्याय पहुंचाने में बारां, अजमेर, झालावाड़ अव्वल, आखिरी पायदान पर करौली, गंगानगर, जालौर
--Advertisement--

दरवाजे तक न्याय पहुंचाने में बारां, अजमेर, झालावाड़ अव्वल, आखिरी पायदान पर करौली, गंगानगर, जालौर

जयपुर| जनता के दरवाजे तक न्याय पहुंचाने में बारां, अजमेर, झालावाड़ के कलेक्टर अव्वल हैं। न्याय आपके द्वार...

Dainik Bhaskar

Jun 04, 2018, 05:10 AM IST
जयपुर| जनता के दरवाजे तक न्याय पहुंचाने में बारां, अजमेर, झालावाड़ के कलेक्टर अव्वल हैं। न्याय आपके द्वार कार्यक्रम के तहत उक्त तीन ही जिलों में सबसे अधिक लोगों के मामलों का निस्तारण किया गया। एक माह के भीतर बारां में 60975, अजमेर में 43920 और झालावाड़ में 34582 केस निस्तारित किए गए। जबकि करौली का प्रदर्शन बेहद खराब रहा, जहां महज 4407 केस ही निस्तारित हो पाए। करौली के बाद गंगानगर, जालौर और दौसा में अभियान के प्रति कलेक्टरों की उदासीनता दिखाई दी। राजस्व विभाग की ओर से राज्य अभिलेख में दुरुस्ती, खाता विभाजन, खातेदारी अधिकारों की घोषणा, सीमाज्ञान, गैर खातेदारी से खातेदारी, म्यूटेशन, रास्ता, पट्टा वितरण और डीएम, एडीएम सहित अन्य अफसरों के स्तर पर निस्तारण सहित 9 बिंदुओं पर इंडिकेटर तय किए गए। उसी इंडिकेटर के आधार पर राज्य के 33 जिलों की रैंकिंग तय की गई, जिसमें यह तस्वीर निकलकर सामने आई है। राजस्व विभाग की ओर से तैयार किए गए रिकाॅर्ड के अनुसार 33 जिलों में न्याय आपके द्वार कार्यक्रम के तहत 5235 शिविर लगाए गए। सबसे अधिक 338 शिविर जयपुर जिले में लगे, लेकिन रैंकिंग में जयपुर 28वें नंबर पर है। क्योंकि राजधानी जिले में कैंप तो लगाए गए, लेकिन लोगों को राहत नहीं मिल पाई। जहां जयपुर के एक कैंप में 71 मामले निस्तारित किए गए, वहीं पहले नंबर पर रहने वाले बारां जिले के एक कैंप में 496 केस निपटाए गए। करौली के एक शिविर में केवल 33 केस ही निस्तारित हो पाए। जिससे प्रदर्शन खराब माना जा रहा है।

X
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..