• Home
  • Rajasthan News
  • Nagar News
  • तमिलनाडु के सीएम बोले- भीड़ बेकाबू हो गई थी, तो पुलिस को मजबूरी में गोली चलानी पड़ी
--Advertisement--

तमिलनाडु के सीएम बोले- भीड़ बेकाबू हो गई थी, तो पुलिस को मजबूरी में गोली चलानी पड़ी

तमिलनाडु विधानसभा में मंगलवार को तूतीकोरिन में स्टरलाइट के कॉपर यूनिट के खिलाफ प्रदर्शन में हिंसा और पुलिस...

Danik Bhaskar | May 30, 2018, 05:15 AM IST
तमिलनाडु विधानसभा में मंगलवार को तूतीकोरिन में स्टरलाइट के कॉपर यूनिट के खिलाफ प्रदर्शन में हिंसा और पुलिस फायरिंग के मुद्दे पर विपक्ष ने हंगामा किया। हंगामे के बीच मुख्यमंत्री के पलानीसामी ने सदन में एक रिपोर्ट पेश की और कहा कि भीड़ को काबू में करने के लिए पुलिस ने आंसू गैस और लाठी चार्ज जैसे सभी शुरुआती उपाय किए। ‘अपरिहार्य हालात’ में पुलिस ने कार्रवाई का फैसला किया। वहीं प्रश्नकाल के बाद नेता विपक्ष एवं डीएमके के कार्यकारी अध्यक्ष एमके स्टालिन ने कॉपर यूनिट को बंद करने के सरकार के आदेश को आंख में धूल झोंकने वाला कदम बताया। विरोध जताने के लिए स्टालिन सहित डीएमके के सभी विधायक काले कपड़े पहने हुए थे। डीएमके ने सरकार पर राज्य के लोगों के दमन का आरोप लगाया। मुख्यमंत्री से इस्तीफा मांगा। वहीं कांग्रेस ने मामले की निष्पक्ष जांच की मांग की।

एअर इंडिया की एयर होस्टेस ने यौन उत्पीड़न केस में केंद्र को पत्र लिखा

एजेंसी | नई दिल्ली

सरकारी विमानन कंपनी एअर इंडिया की एक एयर होस्टेस ने यौन उत्पीड़न मामले में केंद्र सरकार से न्याय किए जाने की गुहार लगाई है। इस संबंध में एयर होस्टेस ने नागरिक उड्‌डयन मंत्रालय को चिट्‌ठी लिखी है। एयर होस्टेस ने सीनियर एग्जक्यूटिव पर अारोप लगाया है कि ड्यूटी के दौरान उसका यौन उत्पीड़न किया और अब जांच के नाम पर मामले को दबाने की कोशिश की जा रही है। एयर होस्टेस ने 25 मई को नागरिक उड्‌डयन मंत्री सुरेश प्रभू को चिट्‌ठी लिखी है जिसकी एक कॉपी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को भेजी है। उसने लिखा है कि एअर इंडिया ने इस मामले को गंभीरता से नहीं लिया और यही कारण है कि उसे यह कदम उठाना पड़ रहा है।

उड्‌डयन मंत्री सुरेश प्रभू ने कहा है कि उन्होंने एअर इंडिया चेयरमैन एवं प्रबंध निदेश को को इस मामले को तत्काल देखने को कहा है।

विस्तार के लिए जमीन का आवंटन रद्द

तमिलनाडु राज्य उद्योग संवर्धन निगम लिमिटेड ने तूतीकोरिन स्टरलाइट कॉपर प्लांट के प्रस्तावित विस्तार के लिए जमीन के आवंटन को रद्द कर दिया है। कंपनी को विस्तार के लिए 342.22 एकड़ भूमि दी गई थी। राज्य प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड ने सोमवार को ही स्टरलाइट कॉपर प्लांट को स्थाई रूप से बंद करने का आदेश दिया था।