--Advertisement--

5 साल में दूसरी बार पारा सर्वाधिक 46.60

भरतपुर। पिछले 3-4 दिन से पारा उबाल खा रहा है। दिन में तो लोग झुलस ही रहे हैं, रात्रि को भी लू का अहसास हो रहा है। गर्मी...

Danik Bhaskar | May 30, 2018, 05:15 AM IST
भरतपुर। पिछले 3-4 दिन से पारा उबाल खा रहा है। दिन में तो लोग झुलस ही रहे हैं, रात्रि को भी लू का अहसास हो रहा है। गर्मी की वजह से कूलर-एसी भी दम तोड़ रहे हैं।

मंगलवार को भरतपुर में तापमान 45 डिग्री से बढ़कर 46.6 डिग्री पर चला गया। पिछले 5 साल में यह दूसरा मौका है, जब तापमान ने रिकॉर्ड तोड़ा है। इससे पहले वर्ष 2013 में 47 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया था। इन दिनों चल रहे नौ तपा की वजह से बुधवार को इसके और भी बढ़ने की संभावना है। मौसम विभाग और आपदा प्रबंधन विभाग ने लू की चेतावनी दे रखी है। इधर, लू की वजह से लोगों में सिरदर्द और चक्कर आने की शिकायतें बढ़ रही हैं। शहर में सनबर्न (झुलसने) के रोगी बढ़ रहे हैं। आरबीएम अस्पताल के चर्मरोग विशेषज्ञ डॉ. प्रदीप गर्ग बताते हैं कि इन दिनों झुलसने के रोगी कुछ ज्यादा आ रहे हैं। अस्पताल के ओपीडी में चर्मरोग के औसतन 150 रोगी आ रहे हैं। इनमें से करीब 25 रोगी सनबर्न के होते हैं। उन्होंने कहा कि जहां तक संभव हो तेज धूप में न निकलें। अगर बहुत जरूरी हो तो पूरे कपड़े पहन कर ही निकलें, ताकि सनबर्न से बचा जा सके। खुली त्वचा रहने पर सनबर्न की आशंका ज्यादा रहती है।

2005 में रिकॉर्ड 49 डिग्री तक पहुंचा था तापमान

पिछले 10 साल में 29 मई को सर्वाधिक पारा

वर्ष तापमान

2017 32.7

2016 39.7

2015 44.2

2014 46.5

2013 47.0

2012 45.4

2011 41.8

2010 42.8

2009 43.4

स्रोत : राष्ट्रीय सरसों अनुसंधान केन्द्र

शहर में डेढ़ से दो डिग्री का अंतर

गर्मी की भीषणता जानने के उद्देश्य से भास्कर संवाददाता ने शहर के अलग-अलग इलाकों में जाकर सामान्य थर्मामीटर से तापमान नापा तो तापमान में एक से दो डिग्री का अंतर दिखा। यानी दही वाली गली, जवाहर नगर, घना, रेलवे स्टेशन और राजेंद्र नगर में पारा 48, कलेक्ट्रेट, कृष्णा कॉलोनी पर 49 डिग्री तक पहुंचा। जब लक्ष्मण मंदिर चौराहे पर एक मकान की छत पर जाकर देखा तो पारा 50 डिग्री तक चला गया था। लेकिन, मौसम विशेषज्ञों के मुताबिक तापमान पता लगाने का यह तरीका सही नहीं है। स्थान और परिस्थिति के हिसाब से तापमान में एक से दो डिग्री का अंतर आ सकता है। क्योंकि जब भी सूरज की किरणें सीधे थर्मामीटर पर पड़ेंगी तो पारा तेजी से चढ़ेगा।