Hindi News »Rajasthan »Nagar» 32 अंक की जगह 12 अंक वाले कोच को द्रोणाचार्य अवार्ड के लिए चुना, 34 खिलाड़ियों ने की शिकायत

32 अंक की जगह 12 अंक वाले कोच को द्रोणाचार्य अवार्ड के लिए चुना, 34 खिलाड़ियों ने की शिकायत

द्रोणाचार्य अवार्ड लेने के लिए कबड्‌डी कोच हीरानंद कटारिया की ओर से अर्जुन अवार्डी के फर्जी साइन कर आवेदन करने के...

Bhaskar News Network | Last Modified - Jun 08, 2018, 05:25 AM IST

द्रोणाचार्य अवार्ड लेने के लिए कबड्‌डी कोच हीरानंद कटारिया की ओर से अर्जुन अवार्डी के फर्जी साइन कर आवेदन करने के मामले में एक और चौंकाने वाला खुलासा हुआ है। दरअसल, द्रोणाचार्य अवार्ड के लिए राजस्थान से कबड्डी कोच हीरानंद कटारिया और राजनारायण ने आवेदन किया था। खेल मंत्रालय की चयन कमेटी ने राजनारायण को 32.14 एवं हीरानंद को 12.5 नंबर दिए। इसके बावजूद कमेटी ने नियम-कायदों को ताक में रखकर हीरानंद को द्रोणाचार्य अवार्ड देने की सिफारिश कर दी। कम अंक वाले कोच का नाम द्रोणाचार्य अवार्ड के लिए प्रस्तावित करने के बाद देशभर के 34 द्रोणाचार्य अवार्डी, अर्जुन अवार्डी एवं इंटरनेशल खिलाड़ियों ने आपत्ति दर्ज कराई और प्रधानमंत्री व खेल मंत्री को पत्र लिखा। इस मामले की भी जांच चल रही है। हाई लेवल कमेटी की मीटिंग के दौरान की पूरी रिकार्डिंग की गई थी। 34 से ज्यादा अवार्डियों की शिकायत के बाद खेल मंत्रालय इस रिकार्डिंग की जांच कर रहा है।

कबड्डी कोच हीरानंद ने भी करा रखा है कोतवाली थाने में मामला दर्ज

कबड्डी कोच हीरानंद कटारिया ने राजनारायण के खिलाफ कोतवाली थाने में मामला दर्ज करा रखा है। इसमें आरोप है कि राजनारायण ने कबड्डी खिलाड़ी सुमित्रा शर्मा का फर्जी शपथ पत्र लगा रखा है। एफआईआर में आरोप है कि अन्य खिलाड़ी दीपक व जसबीर के फर्जी पते लिखकर शपथ पत्र पेश किए गए। बता दें कि राजनारायण ने भी कटारिया पर फर्जी साइन से द्रोणाचार्य अवार्ड के लिए आवेदन करने का आरोप लगाते हुए वैशालीनगर थाने में मामला दर्ज करा रखा है।

10 सदस्यीय कमेटी में राजस्थान के तीन लोग शामिल थे

द्रोणाचार्य अवार्ड के लिए केन्द्र सरकार ने दस सदस्यीय कमेटी बनाई। खेल मंत्रालय की इस दस सदस्यीय हाईलेवल कमेटी में राजस्थान निवासी तथा एथलेटिक्स में अर्जुन अवार्डी गोपाल सैनी, द्रोणाचार्य अवार्डी वीरेन्द्र पूनिया एवं कुश्ती में द्रोणाचार्य अवार्डी महासिंह राव भी शमिल थे। कमेटी की अध्यक्षता फुलेला गोपीचंद ने की थी। इनके अलावा पंकज अडवानी, एमके कौशिक, नोरिस प्रीतम, राजेन्द्र सजवान, बीवीपी राव व हीरा बलाध भी शामिल थे। मीटिंग पांच अगस्त 2017 को हुई थी। इसमें स्पोट्‌र्स अथोरिटी ऑफ इंडिया ने देश के 26 कोचेज की कोचिंग उपलब्धियों का चार्ट बनाकर रखा गया। चार्ट में खिलाड़ियों के नाम व उनके द्वारा अर्जित पदकों का विवरण होता है। द्राेणाचार्य अवार्ड के लिए राजनारायण शर्मा व हीरानंद कटारिया दोवदार थे।

अंकों का कोई मतलब नहीं, बस ये देखा जाता है किसने कितने खिलाड़ी तैयार किए

हाईलेवल कमेटी में शमिल एथलेटिक्स में अर्जुन अवार्डी गोपाल सैनी का कहना है कि कमेटी ने किसको कितने अंक दिए, इससे कोई मतलब नहीं है। बस ये देखा जाता है कि किस कोच ने कितने खिलाड़ी दिए और खिलाड़ी ने कितने अवार्ड जीते। अब दोनों में ही विवाद हो गया तो मामला अटक गया। हम क्या करें।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Nagar

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×